बिरियागंज पुलिस चौकी की तैनाती में बड़ा बड़ा फेर बदल

 तो क्या सिपाहियों का गुर्गा सिपाहियों को पड़ा भारी 
इमरान सागर 
तिलहर,शाहजहाँपुर:-प्राप्त जानकारी के अनुसार नगर की बिरियागंज पुलिस चौकी को लेकर पुलिस कर्मचारियों मे भारी फेरबदल किया गया! क्षेत्राधिकारी द्वारा इस भारी फेर बदल में विगत के दिनो से तैनात पुलिस कर्मियों को तत्काल प्रभाव से कोतवाली के विभिन्न हल्को में स्थानानतरित कर दिया गया जबकि पुलिस चौकी बिरियागंज खास तौर पर विजेन्द्र यादव, अखिलेश यादव,मलखान सिंह यादव एंव जितेन्द्र सिंह को तैनान कर दिया गया! बताते चले कि नगर के बीच स्थित पुलिस चौकी बिरियागंज से विभिन्न हलको में भेजे गये पुलिस कर्मियो को हांलाकि किस मुद्दे को लेकर हटाया गया यह गर्भ में है लेकिन स्थानी क्षेत्र में अपराध पनपने की आशंका से भी इंकार नही किया जा सकता क्यूंकि बिरियागंज पुलिस चौकी से हटाए गये पुलिस कर्मियों ने क्षेत्र को पूरी तरह अपराध मुक्त रखने का प्रयास किया जिसके चलते शान्ति व्यवस्था कायम रही वहीं मात्र चार पुलिस कर्मियों के हबाले चौकी बिरियागंज कर दी गई! सूत्रो से मिली जानकारी के अनुसार टारगेट पूरा करने के लिए स्थानीय तौर पर पुलिस के लिए धन उगाही करने वाला प्रायवेट गुर्गा लाकर में बंद कर दिया गया बस फिर क्या था कि उसके हिमायत में भी पुलिस कर्मियों ही को उतरना पड़ा! बात बढ़ती गई और उस समय जब गुर्गे को लॉकअप से बाहर किया तो स्थानीय तौर पर चौकी में दो गुट बनते देख मामला रफा दफा करने के लिए नगर में अपराध पर अकुंश लगाने की गरज से सतर्क रहने वाले चन्द पुलिस कर्मियों को तत्काल प्रभाव से पुलिस क्षेत्राधिकारी ने चौकी बिरियागंज से निकाल कर कोतवाली क्षेत्र के विभिन्न हल्को में भेज दिया! वहीं गोपनीय सूत्रों की माने तो पुलिस चौकी बिरियागंज जिसके हल्के में हाईवे चौकी भी आती है काले कामो का प्रधान के्द्र है जिस पर वाहनो की आबाजाही सहित टैंपू और रात को लाखो का टैक्स चोरी कर दिल्ली को माल ले जाती प्राइवेट बसे तथा खनन करती टैक्टर और ट्रालियाँ! माना जा रहा है कि उक्त के संबध में तथा कथित बात को लेकर पुलिस कर्मियों के आपसी तालमेल न बैठपाया तो प्राइवेट गुर्गे का बहाना लेकर क्षेत्राधिकारी ने भारी फेरबदल कर जहाँ स्थिति को संभालने का प्रयास किया है. लेकिन हकीकत क्या  है यह सब गर्भ में है!

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *