मिलकर प्रदेश को आगे बढ़ाएंगे: अखिलेश यादव

जावेद अंसारी/यासमीन खाॅन “याशी”
लखनऊ के ताज होटल में आयोजित संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में राहुल गांधी ने कहा कि मोदी के शब्दों में ये गठबंधन ट्रिपल पी है. यानी प्रोग्रेस, प्रॉस्पेरिटी और पीपुल्स है. वहीं अखिलेश यादव ने कहा कि राहुल और मैं विकास, खुशहाली के पहिए हैं, मिलकर प्रदेश को आगे बढ़ाएंगे.राहुल गांधी ने संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस की शुरुआत करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में पहला शब्द उत्तर है. ये गठबंधन एक जवाब है. इतिहास में यूपी ने दुनिया को जवाब दिया है. 1857 में कंपनी राज था, यूपी की प्रोग्रेसिव सोच मिलीं और कंपनी राज का मिलकर जवाब दिया. उन्होंने कहा कि हम गुस्से की राजनीति, बांटने की राजनीति और कंपनी को हिन्दुस्तान का धन देने की राजनीति का जवाब दे रहे हैं. एक प्रकार से गंगा और यमुना का मिलन हो रहा है. राहुल ने कहा कि मोदी जी के शब्दों में ये ट्रिपल पी है, प्रोग्रेस, प्रॉस्पेरिटी और पीपुल्स. राहुल ने कहा कि मेरी अखिलेश के साथ जो व्यक्तिगत संबंध हैं, वह अब राजनीतिक तौर पर भी हो गया है. इसे हम आगे बढ़ाएंगे.
इसके बाद सीएम अखिलेश यादव ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के नेता राहुल गांधी ने बात जहां से छोड़ी, मैं वहीं से शुरू करता हूं. लोकसभा में हम साथ रहे. हम एक दूसरे को जानते हैं, बड़ी बात ये है कि हमें अब साथ काम करने का मौका मिला है. आबादी के लिहाज से यूपी एक बड़ा प्रदेश है, देश को राह दिखाता है. मैं भरोसा दिला सकता हूं कि जिस रफ्तार से यूपी में काम हुआ है, कांग्रेस के आ जाने से और भी तेजी से काम होगा. किसी को शक नहीं है कि 300 से ज्यादा सीटें हम जीतेंगे. बांटने, दूर रखने की राजनीति के हम दोनों विकास, खुशहाली के पहिए हैं, मिलकर आगे बढ़ाएंगे. अखिलेश ने कहा कि चुनाव में कम समय है. पहली बार ऐसा है, जब यूपी में लोगों ने मन में सरकार ही बना ली है. उन्हें जवाब मिलेगा, जिन्होंने लोगो को लाइन में खड़ा कर दिया. अब लोग लाइन में लगकर नोटबंदी का जवाब देंगे.
सपा-कांग्रेस में कई समानताएं हैं हम उसी को आगे ले जाना चाहते हैं’
पत्रकारों ने जब कांग्रेस के ’27 साल यूपी बेहाल’ के स्लोगन पर सवाल पूछा तो राहुल गांधी ने कहा कि मैंने एक कार्यक्रम में ये बात कही थी कि अखिलेश अच्छा लड़का है, उसे काम नहीं करना दिया जा रहा है. हम क्रोध और गुस्से की राजनीति को रोकना चाहते हैं इसलिए ये गठबंधन किया है.
अखिलेश और मेरा रिश्ता है, दोस्ती है, एक ये अलग बात है. हम यूपी के युवाओं को नई तरीके की राजनीति देना चाहते हैं. सपा कांग्रेस में कई समानताएं की बातें हैं, इस पर हम चुनाव लड़ रहे हैं. दोनों पार्टियों को इसमें आगे बढ़ना होगा.
कैंपेन की रणनीति बताने से राहुल गांधी ने ​इंकार किया. उन्होंने कहा कि हमारी सोच है कि गंगा और यमुना की धारा को एक साथ लाया जाए. सभी एक विचारधारा के लोग एक साथ आएं और साम्प्रदायिक शक्तियों को बताएं कि उत्तर प्रदेश के डीएनए में क्रोध नहीं है.
इस गठबंधन को 2019 तक ले जाने के सवाल पर राहुल ने कहा कि हमारा गठबंधन यूपी में साम्प्रदायिक ताकतों को रोकने के लिए किया गया है. लोकसभा चुनाव में गठबंधन होगा या नहीं इस पर चर्चा के रास्ते खुले हैं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *