भाजपा की जनसभा में भीड़ के नाम पर खाली पड़ी कुर्सिया देख रो पड़ी भाजपा प्रत्याशी

संजय ठाकुर

आजमगढ़/ भाजपा उत्तर प्रदेश में 74 सीट जीतना चाहती है। ऐसा हम नही कह रहे है बल्कि भाजपा का आला कमान ये दावा करता है। वही गली नुक्कड़ वाले भाजपा नेता तो 80 में से पूरी 80 सीट जीतने का दावा करते हुवे दिखाई दे जा रहे है। सोशल मीडिया पर चौकीदार नाम के आगे लगा कर अपशब्दों के साथ लोग भाजपा को 500 सीट देने को उतावले बैठे है। मगर ज़मीनी हकीकत में भाजपा के नाम पर लहर जैसी कोई चीज़ नही दिखाई दे रही है।

अभी पिछले पखवाड़े उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के युवा सम्मलेन में जब युवा नही पहुच सके थे बनारस में तो खाली पड़ी कुर्सियों पर बुज़ुर्ग कार्यकर्ताओ को बैठा कर काम चला लिया गया था। आज तो आजमगढ़ के लालगंज लोकसभा सीट पर उस समय स्थित कुछ अधिक ही विचित्र दिखाई देने लगी जब जनसभा में 80-90 प्रतिशत कुर्सिया खाली रही। यही नही इन खाली पड़ी कुर्सियों को देख कर भाजपा प्रत्याशी के आंसू तक निकल आये। ये तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल भी हुई।

मामला कुछ इस प्रकार था कि शनिवार को जिले के अंबारी में उत्तर प्रदेश बभाजपा अध्यक्ष महेन्द्र नाथ पांडेय, भाजपा महिला मोर्चा की प्रदेश उपाध्यक्ष सीमा द्दिवेदी, यूपी सरकार के मंत्री दारा सिंह चौहान समेत कई बड़े नेता लालगंज लोकसभा सीट से भाजपा की उम्मीदवार नीलम सोनकर के लिए वोट मांगने पहुंचे थे। कार्यक्रम को भव्य बनाने के लिए प्रत्याशी ने जी जान लगा दिया था। इसकी जमकर कई दिनों से तैयारिया भी चल रही थी। भीड़ अधिक दिखाई दे तो इसके लिए अनुमान के अनुरोप कुर्सिया कम मंगवाया गया ताकि भीड़ खडी भी दिखाई दे। अनुमान तो स्थानीय भाजपा नेताओ को लगभग डेढ़ हज़ार लोगो के आने का था। इस वजह से एक हज़ार के करीब कुर्सियों की व्यवस्था किया गया था।

इस कार्यक्रम हेतु भीड़ जुटाने के लिए पार्टी ने ब्लाक और गांव स्तर पर लोगों से संपर्क भी किया था। सभी को कार्यक्रम में आने का न्योता भी दिया था। लेकिन जनसभा के दौरान भीड़ का नजारा देख भाजपा नेताओं के होश उड़ गए। एक हज़ार लोगो के इंतज़ाम के बीच मात्र 100-150 लोग ही कार्यक्रम में आये थे। पंडाल सुना सुना सा दिखाई दे रहा था। कुर्सिया खाली पड़ी थी। इस भीड़ ने भाजपा नेताओं के दावों की हवा निकाल कर रख दिया। प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पाण्डेय को फिर भी आस थी कि कार्यक्रम शुरू होने के बाद जनता आएगी और भीड़ बढ़ेगी। उन्होंने आखिर लम्हे तक  जनता के आने का इंतजार किया। लेकिन भीड़ बढ़ने के बजाये आये हुवे मुट्ठी भर लोग भी कम होने लगे।

भीड़ और जनता की ये स्थिति देख निवर्तमान सांसद और दुबारा संसद तक पहुचने का सपना देखने वाली नेता जी का सपना शायद उनको टूटता हुआ दिखाई दे गया होगा। इस अफ़सोस में वह अपने आखो के कोनो को नम करने से खुद को रोक नही सकी और उनके आंसू फूट पड़े। वो मंच पर ही रोने लगीं। एक बार, दो बार नहीं तीन बार रूमाल से आंसू पोछने पर भी आंसू नहीं रूकने थे तो नही रुके। यहाँ तक कि अपने गले को नम करके आंसू को रोकने की कोशिश में उन्होंने पानी की बोतल उठा कर पिया और खुद को सँभालने की कोशिश किया।

मगर जज्बे को भी सलाम करने का दिल करता है। इतनी बुरी तरह से फ्लाप शो की तरह हुवे इस कार्यक्रम में भी भाजपा नेताओ ने अपने लम्बे चौड़े दावे बरक़रार रखे। नेताओ ने मंच से दवा किया कि उत्तर प्रदेश और देश में मोदी की एकरफा लहर चल रही है। जनता सिर्फ भाजपा को पसंद कर रही है। बताते चले कि छठे चरण में 12 मई को यहां होने वाले मतदान में बसपा ने अपना प्रभारी संगीता आजाद को बनाया है। बताते चले कि संगीता आज़ाद पूर्व राज्य सभा सदस्य गांधी आज़ाद की पुत्र वधु है और उनके पति अमरेन्द्र आजाद बसपा विधायक है। बीएससी, बीएड तक की शिक्षा प्राप्त संगीता आज़ाद से पहले ये टिकट घुरराम को दिया गया था मगर चुनाव घोषणा के पहले ही उनका टिकट काट दिया गया था। इसके बाद से घुराराम समर्थक लगातार उनके टिकट काटने का विरोध कर रहे है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *