तीन चुनावों में अलग अलग शैक्षणिक योग्यता बताने वाली स्मृति ईरानी का नामांकन निरस्त करे चुनाव आयोग – अनजान

मुकेश कुमार

मऊ. तीन चुनावों में अलग अलग ‌शै‌क्षिक योग्यता बताने पर उठाए सवाल भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राष्ट्रीय सचिव अतुल कुमार अनजान ने कहा है कि प्रधानमंत्री मोदी और  स्मृति ईरानी को अपनी शैक्षिक योग की सही जानकारी देशवासियों को देना चाहिए। अनजान ने शैक्षिक योग्यता के गलत तथ्य प्रस्तुत करने वाली स्मृति ईरानी का नामांकन निरस्त करने की मांग किया है।

उन्होंने कहा है कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी अब तक देशवासियों से अपनी शिक्षा की डिग्री के बारे में छुपाते रहे हैं। लेकिन अब उन्हें इसकी जानकारी देनी चाहिए। रतनपुरा में आयोजित एक कार्यक्रम में आए भाकपा नेता अतुल कुमार अनजान ने अपने संबोधन में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी अपनी शैक्षिक योग्यताा को लेकर कई तर्क दे चुकें है। दिल्ली विश्वविद्यालय से सूचना के अधिकार के तहत प्रधानमंत्री की डिग्री की जानकारी हासिल करने की कोशिश की गई तो मोदी ने कोर्ट से इस कार्रवाई पर रोक लगवा दी।

अनजान ने कहा कि नरेंद्र मोदी जो डिग्री  दिखाते हैं, वह कंप्यूटराइज है, लेकिन 1984 में कंप्यूटर से डिग्रियां नहीं मिलती थीं। इसी तरह से केंद्र सरकार की मंत्री स्मृति ईरानी की डिग्री का खुलासा देश के सामने हो गया। यह सारे प्रमाण स्मृति ईरानी ने जब जब चुनाव लड़े तब तब हलफनामे में चुनाव आयोग के सामने अलग अलग विश्वविद्यालयों या शिक्षण संस्थानों से अपने ग्रेजुएट या बीकॉम पार्ट वन या ओपन यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएट होने का हलफनामा पेश किया।

उन्होंने कहा कि झूठ बोलने में माहिर एक अंडर ग्रेजुएट का दावा झूठ साबित हुआ। दो वर्षों से अधिक समय तक असफल शिक्षा मंत्री रहने वाली अंडर ग्रेजुएट स्मृति ईरानी को अंततः जन विरोध के चलते हटना पड़ा। अनजान ने चुनाव आयोग से मांग किया है, कि वह तत्काल स्मृति ईरानी के पिछले तीन चुनावों में दायर किए गए हलफनामों की समीक्षा कर झूठ बोलने, देश को गुमराह करने और चुनाव आयोग को अंधेरे में रखने के आरोप में उनका नामांकन निरस्त कर उनके विरुद्ध कानूनी कार्रवाई शुरू करें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *