पूर्व मंत्री राकेश धर त्रिपाठी के भ्रष्टाचार प्रकरण में 2 एसपी और 3 विवेचक तलब

तारिक खान

प्रयागराज 14 मई आय से ज़्यादा संपत्ति रखने के मामले में पूर्व उच्च शिक्षा मंत्री राकेश धर त्रिपाठी के विरुद्ध खुली जांच के बाद दोषी पाए जाने पर 18 जून2013 को मुट्ठीगंज थाने में दर्ज मुकद्दमा के मामले में दो विवेचक द्वारा दोषी ठहराने तथा पुलिस अधीक्षक द्वारा अग्रसरण करने तथा तीसरे विवेचक द्वारा दोष मुक्त करने और एसपी द्वारा अग्रसरण करने को विशेष जज एमपीएमेले पवन तिवारी ने गम्भीरता से लेते हुते सभी को 6 जून को अदालत में पेश होकर स्पष्टीकरण देने को कहा है साथ ही ये भी कहा है कि क्यों न विरोधाभासी तथ्यों को प्रस्तुत करने के लिए उनके विरुद्ध मुकद्दमा दर्ज कर विधि संगत कार्यवाही की जाय।

प्रतुत प्रकरण में एफ आई आर के बाद सतकर्ता अधिष्ठान के निरीक्षक भारत रत्न वाष्र्णेय ने विवेवचना शुरू की उनके सेवा निर्वित के बाद प्रकाश सिंह द्वारा विवेचना पूरी की गई और राकेश धर त्रिपाठी के विरुद्ध आरोप पत्र 14 मार्च 2016 को लगाया जिसपर पुलिस अधीक्षक राम पाल गौतम ने 16 मार्च अग्रसारित किया 12 अप्रैल 2016 को विशेष जज भर्ष्टाचार निवारण वाराणसी ने संज्ञान लिया और रकेध धर ने 14 नवम्बर को समर्पण किया और जेल भेजे गए।18 जनवरी 2017 को उनकी जमानत उच्च न्यायालय से स्वीकार हुई।मामला विशेष जज एमपी एम एल ए कोर्ट में डिस्चार्ज/चार्ज पर सुनवाई पर था कि निरीक्षक हवलदार सिंह यादव ने एक प्रार्थना पत्र 30 मार्च 2019 को देकर कहा कि आरोपी की ओर से एक प्रार्थना पत्र देकर पुनः विवेचना की मांग की गई थी जिसमे आरोपी के विरुद्ध कोई अपराध का साबित होना नहीं पाया गया उक्त रिपोर्ट को पुलिस अधीक्षक शैलेश यादव द्वारा अग्रसारित की थी।

प्रस्तुत प्रकरण भारतीय अर्थव्यस्था से सम्बंधित गम्भीर प्रकरण होते हुए आरोप पत्र लगने के बाद पुनः विवेचना में विपरीत मत दिया जाना।दो अलग अलग मत को देखते हुए न्यायालय ने तीनों विवेचक तथा दोनों एसपी को 6 जून को व्यक्तिगत रूप से न्यायालय में उपस्थित होकर स्पष्टीकरण देने के आदेढ़ के साथ ही आदेश की प्रति निदेशक उत्तर प्रदेश सतकर्ता अनुष्ठान लखनऊ तथा प्रमुख सचिव गृह को भेजे जाने का भी आदेश किया है..

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *