“तुम करण जौहर को फंसा दो तो तुम्हे छोड़ दूंगा? – क्षितिज प्रसाद का NCB पर अदालत में बड़ा आरोप

तारिक़ आज़मी

मुंबई: सुशांत सिंह मौत की की जाँच करने के दौरान मौत का रहस्य अभी तक तो जाँच एजेंसी नही खोल पाई है, उलटे गांजे और चरस का कनेक्शन तलाशने में लगी हुई है। इस दरमियान कई बड़े फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े लोगो से पूछताछ हो चुकी है। मीडिया की सांसे तो उन सेलिब्रेटी की कारो के पीछे भागते भागते फुल रही है। सभी ज़मीनी मुद्दों को दबा कर इस एक मुद्दे को हाईलाइट रखने वाली मीडिया में जोर जोर से चिल्ला कर एंकरिंग करने वाले लोगो को नया शगूफा जैसे दे रखा हो।

वैसे इस दरमियान NCB ने कुल डेढ़ दर्जन के करीब गिरफ़्तारी भी किया है। इस दौरान NCB के टॉप लेवल के कई अफसर मामले में तफ्तीश के लिए लगे है। तफ्तीश के दौरान NCB को जितना मादक पदार्थ हासिल हुआ है उससे अधिक तो अपने उत्तर प्रदेश पुलिस के कांस्टेबल बरामद कर लेते है। मगर आपको टीवी पर उसकी डिबेट नही दिखाई देगी। खैर छोडिये इसको जिसकी टीवी उसका कार्यक्रम। मगर इस दरमियान एक बड़ी बात ये है कि NCB के चीफ राकेश अस्थाना खुद अपनी टीम के साथ बैठक कर चुके है। NCB के कार्यवाही को ट्रोलर्स जमकर ट्रोल कर रहे है।

बहरहाल, अब NCB पर एक बड़ा आरोप भी लगा है। सुशांत सिंह राजपूत केस से जुड़े ड्रग्स मामले में पिछले हफ्ते गिरफ्तार किए गए फिल्म प्रोड्यूसर क्षितिज प्रसाद ने एजेंसी पर गंभीर आरोप लगाए हैं। प्रसाद के वकील सतीश मानशिंदे ने रविवार को बॉम्बे हाईकोर्ट में बताया है कि एजेंसी के अफसरों ने प्रोड्यूसर को ‘परेशान और ब्लैकमेल किया’ है। वकील ने बताया कि क्षितिज प्रसाद को पूछताछ के दौरान करण जौहर और उनके टॉप के एक्ज़ीक्यूटिव्स को फंसाने के लिए जोर-जबरदस्ती की गई। वकील मानशिंदे ने प्रसाद के हवाले से कोर्ट में कहा कि ‘NCB के अफसरों ने कहा था कि अगर वे (क्षितिज) करण जौहर, सोमेल मिश्रा, राखी, अपूर्वा, नीरज या राहिल का नाम ले लूं तो वो मुझे छोड़ देंगे।’

बता दें कि पिछले हफ्ते एजेंसी ने क्षितिज को गिरफ्तार कर लिया था। उनकी ओर से उनके वकील ने बताया, ‘अफसरों ने मुझसे झूठे आरोप लगाने को कहा कि वो (करण जौहर और उनकी टीम) ड्रग्स लेते थे। मैंने बहुत दबाव बनाए जाने के बाद भी उनकी बात नहीं मानी क्योंकि में इन लोगों को निजी तौर पर नहीं जानता हूं…और मैं किसी पर झूठे आरोप नहीं लगाना चाहता था।’

इस बयान में एक अफसर- समीर वानखेड़े- का नाम लिया गया है। मानशिंदे ने कहा है, ‘समीर वानखेड़े ने क्षितिज से कहा कि चूंकि वो उनकी बात नहीं मान रहे हैं तो वो उन्हें सबक सिखाएंगे और वानखेडे़ ने क्षितिज से अपनी कुर्सी के पास जमीन पर बैठने को कहा और उनके चेहरे के सामने अपना जूतों वाला पैर रखकर कहा कि यह उनकी असली औकात है।’ वकील ने बताया है कि वानखेड़े की इस हरकत पर वहां मौजूद दूसरे अफसर हंस रहे थे।

गौरतलब है कि पिछले हफ्ते करण जौहर ने क्षितिज प्रसाद के अपनी कंपनी- धर्मा प्रोडक्शंस से जुड़े होने के दावे को खारिज किया था। जौहर ने बताया कि प्रसाद ने धर्मा प्रोडक्शंस से जुड़ी कंपनी धर्मेटिक एंटरटेनमेंट को नवंबर, 2019 में बतौर एक्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर जॉइन किया था। उन्होंने एक प्रोजेक्ट के लिए कॉन्ट्रैक्ट बेसिस पर कंपनी जॉइन की थी, लेकिन इस प्रोजेक्ट पर काम शुरू नहीं हो पाया था।

सतीश मानशिंदे ने रविवार को एक बयान में कहा कि ‘क्षितिज प्रसाद को आज रिमांड के लिए वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए एडिशनल चीफ मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया था। मैंने कार्रवाई शुरू होने के पहले मजिस्ट्रेट को बताया कि क्षितिज को थर्ड डिग्री और बदतमीजी के साथ परेशान किया गया था और झूठा बयान देने के लिए ब्लैकमेल किया गया था।’

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *