सत्ता का गुरुर – भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का खुद को नेता बताने वाले ने दिया व्यापारी को धमकी, असलहा लेकर बिल्डिंग में घुसने का लगा बड़ा आरोप, मुकदमा दर्ज

ईदुल अमीन

वाराणसी। कुछ नेताओं को सत्ता का नशा सर चढ़कर बोल रहा है। वही कुछ ऐसे भी है कि सत्ता के गुरुर को पाने की खातिर ही भाजपा की सदस्यता ग्रहण करके बैठे है। ऐसे लोगो ने पार्टी को बदनाम करने की कोई कोर कसर नही छोड़ी है। एक शास्त्र लाइसेंस पर दो दो असलहे रखने वालो की भले जाँच हो रही हो, मगर सत्ता की हनक दिखाकर अपने जाँच में रिपोर्ट अपने पक्ष में लगवा लेते है।

ऐसे ही एक नेता का कारनामा सामने आया है जिसके सम्बन्ध में पीड़ित की लिखित शिकायत पर थाना चेतगंज ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। वही नेता जी सत्ता का भौकाल कस कर मामले को निपटा लेने की दुहाई देते फिर रहे है। प्रकरण में पुलिस ने गाली गलौज और धमकी का मामला दर्ज किया है। वही पीड़ित ने पुलिस को सीसीटीवी फुटेज उपलब्ध करवाते हुवे दावा किया है कि खुद को भाजपा नेता बताने वाला उसको जान से मारने की नियत अथवा कोई बड़ा नुक्सान करने की नियत से कमर में असलहा लगाकर उसके बिल्डिंग में रेकी कर रहा था।

मामला संपत्ति विवाद से जुड़ा हुआ बताया जा रहा है। पीड़ित शाबी अली वाराणसी के चर्चित पटाखा कारोबारी है। वैध पटाखे का काम करने वाले शाबी अली का क्षेत्र के खुद को भाजपा नेता कहकर प्रचारित करने वाले बिल्डर इतरत हुसैन और उनकी पत्नी नसरीन से संपत्ति विवाद चल रहा है। इस संबध में इसी माह शाबी ने थाना चेतगंज पर एक किता शिकायत लिखित किया था। इसके बाद शाबी का आरोप है कि आरोपी इतरत हुसैन ने फोन पर उससे और परिवार के अन्य सदस्यों से गाली गलौज किया और जान से मारने की धमकी दिया।

पीड़ित का आरोप है कि इसके बाद इतरत हुसैन अपने कमर में असलहा लगाकर उसकी बिल्डिंग के नीचे पार्किंग में उसकी रेकी कर रहा था। पीड़ित का कहना है कि इस दिन इत्तिफाक से थोडा पहले ही अपने घर वापस आ गया था। पीड़ित शाबी ने अपनी शिकायत के साथ उस वक्त का सीसीटीवी फुटेज भी पुलिस के हवाले किया है। जिसमे साफ़ दिखाई दे रहा है कि इतरत हुसैन के कमर पर असलहा लगा हुआ है और वह शाबी के बिल्डिंग के पार्किंग में टहल रहा है।

लाइसेंसी है असलहा  

असलहे के सम्बन्ध में जब हमने जानकारी इकठ्ठा करना चाहां तो वर्त्तमान चौकी इंचार्ज पानदरीबा मिथलेश यादव जो इस घटना के विवेचक है ने कहा कि आरोपी के पास एक शास्त लाईसेंस है और उसके ऊपर दो असलहा चढ़ा हुआ है। नियमो के अनुसार दो असलहा एक लाईसेंस के साथ रख सकते है।

हमने जब इस सम्बन्ध में जब इतरत हुसैन से बात करने की कोशिश किया तो उनका नंबर बंद बता रहा था। काफी देर नेटवर्क क्षेत्र के बाहर और बकिया वक्त घंटी बजने पर नहीं उठने की बात सामने आई। हमने उनसे मिलने का प्रयास किया मगर मुलाकात नही हो सकी। वही शाबी के परिजनों का कहना है कि इतरत हुसैन की पुरानी घटनाओं को देखते हुवे हम सब दहशत में है। वह कभी भी परिवार के किसी सदस्य को गोली मार सकता है। शाबी ने कहा कि वह धमकी देता है कि कभी भी मेरे कारोबार में आग लगा सकत है। इन सबसे हम सब डरे हुवे है। मामले की शिकायत पुलिस से किया है/ आशा है कि पुलिस हमारी समस्या को सुनेगी।

वही, क्षेत्र में मौजूद हमारे सूत्रों ने हमको बताया कि इलाके के एक अन्य सज्जन को इसी भाजपा नेता के द्वारा असलहे के नोक पर धमकी दिया गया था। ये घटना लगभग 8 माह पहले की है। इस घटना से भयभीत हुवे उस परिवार ने इसकी शिकायत भी पुलिस से नही किया था।

बहरहाल, अब देखना होगा कि प्रकरण में चेतगंज पुलिस आरोपी के सत्ता का दबाव जैसी बातो पर काम करती है अथवा वर्त्तमान चौकी इंचार्ज निष्पक्ष कार्यवाही करते है और ऐसी घटनाओं को दुबारा होने से रोकते है। घटना के सम्बन्ध में फुटेज सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *