लहू ने ही बहाया था उनका खून, माँ बहन के आचरण पर था शक, कलयुगी बेटो ने मिलकर लिया था माँ-बहन की जान, आलाक़त्ल कुल्हाड़ी बरामद

प्रमोद कुमार

बलिया. बलिया जिले के भीमपुर थाना क्षेत्र के अहिरौली गांव में 26 नवंबर की रात हुई मां-बेटी की हत्या महिला के ही दो बेटों ने की थी। उन्हें मां-बहन के आचरण पर शक था। हत्यारोपियों को गिरफ्तार कर एसओजी ने हत्या में प्रयुक्त गाड़ी व दो कुल्हाड़ी बरामद कर ली हैं। दोनों ने खुद को बचाने के लिए चार पड़ोसियों पर केस दर्ज कराया था। पुलिस अधीक्षक देवेंद्रनाथ ने रविवार को मीडिया को बताया कि अहिरौली गांव के वीरेंद्र कुमार वाराणसी में बिजली विभाग में तैनात हैं। इनकी पुत्री और पत्नी गांव में रहते थे और तीनों पुत्र वाराणसी में पिता के साथ रहकर पढ़ाई करते थे।

महिला के दो पुत्रों जयराम कुमार व छोटे लाल ने बताया कि मां और बहन की शिकायतें सुनते-सुनते आजिज आ गए थे। उन्हें वाराणसी में ही रखने का प्रयास किया, लेकिन दोनों वहां से भाग आईं। इस वजह से उन्होंने हत्या करने की ठानी। बताया कि घटना के दिन दोनों ने सादात से कुल्हाड़ी बनवाईं और बृहस्पतिवार की रात गांव पहुंचे। सीधे मड़हे में घुसे, मां-बहन की हत्या कर लौट गए।

बचने के लिए मृतका के पुत्र जयराम कुमार ने पुरानी रंजिश को लेकर मां-बहन की हत्या की आशंका व्यक्त करते हुए सत्यनारायण पुत्र स्व. हरिकरन निवासी अहिरौली थाना भीमपुरा व तीन अन्य के विरुद्ध केस दर्ज कराया था। जिले के कप्तान ने बताया कि दोनों हत्यारोपियों को रविवार दोपहर 12.30 बजे पुरा चट्टी के पास से गिरफ्तार किया गया है। जांच में नामजद किए गए व्यक्ति निर्दोष निकले। गिरफ्तार दोनों हत्यारोपियों को कोर्ट में पेश करने के बाद जेल भेज दिया गया।  पुलिस टीम में प्रभारी निरीक्षक भीमपुरा शिवमिलन, उप निरीक्षक एसओजी संजय सरोज, श्याम सुंदर सिंह यादव, परमेश यादव, अनूप सिंह, अतुल सिंह, राकेश यादव, अनिल पटेल, रोहित यादव, विजय राय आदि शामिल रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *