आगाज़ से अंजाम तक – पुलिस मुठभेड़ में मारा गया मोस्ट वांटेड एक लाख का इनामिया रोशन गुप्ता उर्फ़ किट्टू, AK-47 के हुवे कारतूस बरामद, देखे मौके की तस्वीरे

तारिक आज़मी/ महताब आलम

वाराणसी। उसके आगाज़ का आज आखिर अंजाम हो ही गया। हमेशा निहत्थे, बेक़सूर और कमज़ोर लोगो पर अपने असलहे का जोर दिखाने वाला, बेकसूरों को मारने वाला, इंसानी जानो तो लेने वाला, रंगबाज़ रोशन गुप्ता उर्फ़ बाबु गुप्ता उर्फ़ किट्टू जब पुलिस के सामने पड़ा और उसने गोलियां चलाई तो चंद ही मिनट में वह ढेर हो गया। आज देर रात पुलिस के साथ हुई मुठभेड़ में एक लाख का इनामिया बदमाश रोशन गुप्ता उर्फ़ बाबु गुप्ता उर्फ़ किट्टू मारा गया।

कहा हुई मुठभेड़

इस मुठभेड़ के सम्बन्ध में प्राप्त समाचारों के अनुसार वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक वाराणसी के निर्देश पर आगामी देव दीपावली के मद्देनज़र सघन चेकिंग अभियान के साथ कुख्यात अपराधियों के विरूद्ध चलाए जा रहे अभियान के क्रम में आज दिनांक 26.11.20 को सायंकाल वाराणसी के जैतपुरा थाना क्षेत्र में डाट पुल सरैया के पास पुलिस अधीक्षक नगर विकास चन्द्र त्रिपाठी, सीओ अमरेश सिंह, नि. अश्विनी पांडेय, नि. शशि भूषण राय, एसआई मुहम्मद अकरम आदि की एक टीम की मुठभेड़ मोटरसायकल से जा रहे दो बदमाशो के साथ हुई। डाट पुल के पास मोटरसायकल सवार बदमाश पुलिस टीम पर गोली चलाते हुवे भाग रहे थे। जिसके प्रतिउत्तर में पुलिस टीम ने दौड़ाकर जब गोलियों का जवाब गोलियों से देना शुरू किया तो थोड़ी देर बाद दुसरे तरफ से गोलियां चलना बंद हो गई। पुलिस ने पास जाकर देखा तो एक युवक घायल पड़ा था। तत्काल उसको पुलिस द्वारा मंडलीय चिकित्सालय कबीरचौरा भेजा गया। जहा चिकित्सको ने उसको मृत घोषित कर दिया।

कौन था आतंक का दूसरा नाम रोशन गुप्ता उर्फ़ किट्टू

मृत अपराधी की पहचान पियरी थाना चौक निवासी रोशन गुप्ता उर्फ़ किट्टू उर्फ़ बाबु गुप्ता के तौर पर हुई। 2015 में पुलिस मुठभेड़ में मारे गए बदमाश सनी सिंह का दाहिना हाथ कांट्रेक्ट किलर रोशन गुप्ता उर्फ़ किट्टू सनी सिंह के मारे जाने के बाद से रईस बनारसी के साथ जुड़ कर अपराधिक गतिविधियों को संचालित करता था। रईस बनारसी के मारे जाने के बाद किट्टू ने खुद सनी सिंह के गैंग का सञ्चालन अपने हाथो में ले लिया और रंगदारी, अवैध वसूली, कांट्रैक पर हत्याओं आदि के लिए कुख्यात हो गया। ज़मानत पर जब से किट्टू जेल से बाहर आया था तभी से पुलिस के लिए सरदर्द बना हुआ था।

चौकाघट डबल मर्डर केस में ठेके पर हत्या करने में इसका नाम सामने आया था। वही चौक में सर्राफा व्यवसाई से रंगदारी मांगने की घटना ने इसको पुलिस के मुख्य टारगेट पर ला दिया था। इसकी सुरग्गसी में पूरी वाराणसी पुलिस ही लगी हुई थी। ज़मीनी स्तर से लेकर सर्विसलांस तक की मदद लिया जाने लगा। बड़ी संख्या में छापेमारी की कार्यवाही हो रही थी। इससे बेचैन होकर किट्टू अपने ठिकाने बदलता रह रहा था।

पुलिस की मेहनत लाई रंग, आखिर भागने को ज़मींन पड़ गई थी कम

रोशन गुप्ता उर्फ़ किट्टू के खिलाफ जैतपूरा पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीम को बड़ी सफलता हाथ लगी है। मगर इस सफलता में चौक पुलिस की भी बड़ी भूमिका रही है। किट्टू की तलाश में और उसके सुराग को पाने के लिए दो दर्जन के करीब छापेमारी करने वाली चौक पुलिस की टीम ने उससे सम्बन्धित हर एक शख्स को खंगाला। इस टीम का नेतृत्व खुद क्षेत्राधिकारी दशाश्वमेघ अवधेश पाण्डेय और थाना प्रभारी चौक आशुतोष तिवारी कर रहे थे। किट्टू के परिवार से सम्बंधित हर एक बन्दे का नम्बर से लेकर उसकी पूछताछ और सुराग लगा रही चौक पुलिस के साथ जैतपुरा पुलिस की मेहनत थी। किट्टू को भागने के लिए ज़मीन कम पड़ती दिखाई दे रही थी।

सूत्र बताते है कि किट्टू पुलिस से बचने के लिए पल पल अपने ठिकाने बदलता रह रहा था। उसके संरक्षणदाता खुद पुलिस के रडार पर थे। आखिर किट्टू अपने ठिकाने बदलने के चक्कर में ही सड़क पर आया। पुलिस टीम को देख कर उसने गोली चलाई और पुलिस की जवाबी कार्यवाही में वह मारा गया।

सर्राफा कारोबारियों ने दिया वाराणसी पुलिस को बधाई

किट्टू के पुलिस मुठभेड़ में मारे जाने की जानकारी मिलते ही सर्राफा कारोबारियों ने चैन की साँस लिया। सर्राफा कारोबारियों का एक प्रतिनिधि मंडल तत्काल मंडलीय चिकित्सालय कबीरचौरा पंहुचा। वहा उन्होंने वाराणसी पुलिस के कप्तान अमित पाठक से मुलाकात कर उनका और वाराणसी पुलिस का आभार जताया और बधाई दिया।

क्या हुआ बरामद

मुठभेड़ स्थल से पुलिस को अपराधी रोशन गुप्ता उर्फ़ किट्टू के क़ब्ज़े से एक पिस्टल .30 बोर की एक पिस्टल, .32 बोर की एक पिस्टल, एक पैशन मोटरसाइकिल, भारी मात्रा में कारतूस जिसमे AK47, .30 बोर .32 बोर के कारतूस थे आदि बरामद हुवे है।

पुलिस टीम भी हुई घायल

किट्टू से मुठभेड़ के दौरान थाना जैतपुरा के उ0नि0 विनय तिवारी तथा क्राइम ब्रांच के आरक्षी जितेंद्र सिंह को भी चोट आयी है। घायल पुलिस कर्मियों को निजी चिकित्सालय में भर्ती करवाया गया है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक वाराणसी अमित पाठक ने पत्रकारों से बात करते हुवे कहा कि यदि आवश्यकता पड़ी तो घायल पुलिस कर्मियों को आईसीयु में भी एडमिट करवाया जायेगा।

हुई बड़े इनाम की घोषणा

किट्टू के मुठभेड़ में मारे जाने के बाद शासन स्तर से पुलिस टीम हेतु दो लाख रुपयों के इनाम की घोषणा हुई है। इस बात की जानकारी एसएसपी वाराणसी अमित पाठक ने पत्रकारों को मंडलीय चिकित्सालय में एक वार्ता के दौरान दिया।

अब चैन से हम सो सकते है – पीड़ित सर्राफा कारोबारी सुरेश सेठ

कुख्यात रोशन गुप्ता उर्फ़ किट्टू ने चौक थाने के रेशम कटरा निवासी सर्राफा कारोबारी सुरेश सेठ से 15 नवम्बर को रात असलहे के बल पर 50 लाख की रंगदारी मांगी थी। इस घटना के बाद से पीड़ित व्यवसाई ने चौक पुलिस को लिखित तहरीर देकर शिकायत दर्ज करवाई थी। वायरल हुवे घटना के वीडियो में किट्टू की दुर्दान्त होने की कहानी बयाँ कर डाली थी। घटना के बाद चौक पुलिस ने पीड़ित सर्राफा कारोबारी को पुलिस प्रोटेक्शन उपलब्ध करवाया था।

किट्टू के मुठभेड़ में मारे जाने की जानकारी मिलने के बाद सर्राफा कारोबारी सुरेश सेठ  मंडलीय चिकित्सालय पहुचे और एसएसपी वाराणसी का आभार व्यक्त किया। उन्होंने हमसे बात करते हुवे कहा कि इस दुर्दांत अपराधी के खौफ से हम रात को सो नही पाते थे। हर वक्त परिवार खौफजदा रहता था। आज इसके मुठभेड़ में मारे जाने के बाद पूरा परिवार अब चैन की नींद सोयेगा। वाराणसी पुलिस का उन्होंने आभार व्यक्त करते हुए कहा कि वाराणसी पुलिस ने किट्टू का नही बल्कि खौफ का अंत किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *