समझता था खुद को शेर, वाराणसी पुलिस से हुई मुठभेड़ तो घायल होकर हुआ ढेर

तारिक़ आजमी

वाराणसी। वाराणसी जनपद में फ्रंट फुट पर आई पुलिस अब अपराधियो की गोली का जवाब ताबड़तोड़ गोलियों से देने लगी है। इस क्रम में 50 हज़ार का इनामिया बदमाश मोनी चौहान रविवार की रात्रि मुठभेड़ में ढेर हो गया था, वही उसके साथ का एक अन्य अपराधी जिसकी शिनाख्त अनिल यादव के रूप में हुई थी मौके से अंधेरे का फायदा उठा कर फरार हो गया था। बताया जाता है कि कुख्यात अपराधी अनिल यादव खुद की शेर समझता था और निहत्थे सीधे साधे लोगो पर खुद की कथित बहादुरी जिसको छद्म बहादुरी कह सकते है दिखाता था। उस मुठभेड़ में फरार अनिल यादव की सुरागगशी पुलिस कर ही रही थी कि खुद की कथित शेर समझने वाला अपराधी अनिल यादव आज शाम पुलिस टीन के सामने टकरा बैठा और खुद को कथित शेर समझने वाला अनिल यादव चन्द मिनट में पुलिस की गोली से घायल होकर ढेर हो गया।

इस मुठभेड़ के संबंध में मिली जानकारी के अनुसार वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक वाराणसी के निर्देश पर कुख्यात अपराधियों के विरूद्ध चलाए जा रहे अभियान के क्रम में आज दिनांक 24.11.20 को सायंकाल वाराणसी पुलिस के थाना जैतपुरा तथा क्राइम ब्रांच की टीम के साथ नक्कीघाट थाना जैतपुरा क्षेत्र में हुई एक पुलिस मुठभेड़ में रु 50000/ का पुरस्कार घोषित अपराधी अनिल यादव पुत्र वीरभान नि सब्बलपुर , थाना जमानिया गाजीपुर को घायल अवश्था में गिरफ्तार कर लिया है। जनकारी के अनुसार घायल अपराधी के पैर में गोली लगी और वह घायल हुआ है। जिसे इलाज हेतु कबीरचौरा हॉस्पिटल भेजा गया है।

मुठभेड़ में घायल अपराधी अनिल यादव के क़ब्ज़े से एक पिस्टल .32 बोर , मोटरसाइकिल ग्लैमर तथा कारतूस बरामद हुआ है। उसके द्वारा कुख्यात अपराधी मोनू चौहान के साथ दीपावली के समय 3 दिनों में वाराणसी में दो सनसनीखेज शूटआउट की घटना कारित किया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *