महज़ चार दिन में खोल दिया वाराणसी पुलिस ने दुर्गाकुंड में हुई हत्या का राज़, दो गिरफ्तार, जाने घटना में अनटोल्ड स्टोरी

तारिक आज़मी

वाराणसी. अक्सर ऐसी पोलिसिंग आप क्राइम पेट्रोल दस्तक या फिर जेम्स बांड की फिल्मो में देखते होंगे, शायद वैसा ही काम उत्तर प्रदेश के वाराणसी जनपद के एसएसपी अमित पाठक की टीम ने वाराणसी में किया है. एक कोल्ड ब्लाइंड मर्डर का सफल खुलासा अमित पाठक की टीम न करके अपराधियों के दिलो में दहशत का माहोल पैदा किया है कि पुलिस के लम्बे हाथ आम के पेड़ से फल तोड़ने क लये नहीं बने है. महज़ तीन दिन और ऐसे हत्याकांड का खुलासा करना जिसमे हत्या के कारण से लेकर हत्यारों का कोई सुराग न हो. महज़ एक रंग हो. घटना हो, किसी पुराने अपराधी की कारस्तानी भी न हो. ऐसे हत्याकांड का खुलासा वाकई एक जीवट शक्ति के साथ मेहनत का फल था.

मामला भेलूपुर थाना क्षेत्र के दुर्गाकुंड पुलिस चौकी अंतर्गत कैवल्य धाम कालोनी में हुवे गर्ल्स हास्टल के मैनेजर की हत्या का था. दिन दहाड़े हुई इस हत्या ने केवल आईसी दुर्गाकुंड प्रकाश सिंह को ही नहीं बल्कि पूरी वाराणसी टीम को चुनौती दे डाली थी. इस चुनौती को स्वीकार करते हुवे वाराणसी पुलिस ने इस घटना का सफल अनावरण कर डाला. घटना के खुलासे के लिए बनी पूरी टीम एक साथ अपने काम कर रही थी. वही घटना के तत्काल बाद इनपुट और इलेक्ट्रोनिक माध्यमो के साथ प्रकाश सिंह ने घटना करके भागने के रास्तो की तलाश करना शुरू कर दिया. दुसरे दिन दोपहर तक इलाका चिन्हित था कि किस इलाके के हत्या करने वाले लड़के थे. इसके बाद साक्ष्य जुटाने का काम पूरी टीम ने करना शुरू कर दिया.

साक्ष्य इकठ्ठा हुवे और सटीक जानकारी मिलने के बाद पुलिस टीम ने हत्याकांड में शामिल दोनों अभियुक्तों क्रमशः विकास कुमार राय और सिद्धार्थ यादव डिम्पु को हिरासत में ले लिया और पूछताछ का क्रम शुरू किया. थोडा सा मौसम में गर्मी क्या सामने आई कि घटना कारित करने वाले दोनों अभियुक्तों ने पूरी घटना ही तोते की तरह बता डाली. इत्तेफाक था कि आज गिरफ्तार हुवे दोनों अभियुक्तों ने कपडे भी वही पहने थे जो कपडे घटना के दिन पहने थे. घटना का सफल अनावरण करते हुवे भेलूपुर पुलिस ने घटना में प्रयुक्त दोनों हथियार क्रमशः पिस्टल और कट्टा बरामद कर लिया.

क्या था घटना का कारण

घटना का मुख्य कारण आशनाई का था. अभियुक्तों ने पुलिस को पूछताछ में बताया कि विकास राय नाम के अभियुक्त का गर्ल्स हास्टल में रहने वाली एक लड़की से अफेयर चल रहा था. दोनों की घनिष्ट सम्बन्ध काफी थे कि इसी दरमियान विशाल का भी उसी लड़की से सम्बन्ध हो गया. इसकी जानकारी मिलने के बाद विकास आग बगुला हो गया. उस लड़की ने बाद में हास्टल छोड़ दिया. मगर विकास के दिलो दिमाग में मृतक विशाल के खिलाफ नफरत भरी हुई थी और ये नफरत ही घटना का कारण बनी.

नहीं पहचानता था विशाल को

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार हत्यारोपी विकास राय और डिम्पु यादव विशाल को नही पहचानते थे. उनके पास एक गर्दन पर टैटू ही निशानी थी. पहले दोनों ने मिल कर गर्ल्स हास्टल के मैनेजर विशाल को पहचाना. इसके बाद कम से कम 15 बार घटना स्थल आना और फिर वापस जाने का रास्ता देखा. सबकुछ परफेक्ट प्लान करने के बाद विकास राय ने अपने साथी डिम्पु यादव के साथ मिलकर घटना को अंजाम दे डाला. जिसके बाद वह दोनों मोहनसराय होते हुवे फरार हो गए.

शायद उनके दिमाग में था कि उन्होंने परफेक्ट अपराध किया है. अब कभी पकडे नही जायेगे. इसके बाद दोनों ने अपना जीवन सामान्य तौर पर बिताना शुरू कर दिया. मगर उनको नहीं पता था कि गुनाह के पैर नही होते है. वही पुलिस धीरे धीरे उनके ऊपर शिकंजा बिछाने लगी और आखिर घटना का खुलासा दोनों की गिरफ़्तारी के साथ हुआ.

महज़ 20 और 21 साल के युवक कहू इनको या फिर किशोर शायद समझ नही आएगा. मगर अपराध की दुनिया में उन्होंने अपने कदम डाल दिए. आज आखिर गिरफ्तारी के बाद जेल जाना पड़ा. नतीजा सामने है जिसकी इबरत हमारी नौवजवान पीढ़ी को देखना होगा. उन्हें याद रखना होगा कि अपराध के पाँव नही होते है. घटना को परफेक्ट अपराध समझने वाले शायद भूल जाते है कि कोई भाई अपराध परफेक्ट नही होता है.

गिरफ्तार अभियुक्तों में विकास कुमार राय पुत्र राजेश कुमार राय नि. ग्राम चिंतामनपुर पो. राजपुर (मंगारी) थाना सिंधौरा जनपद वाराणसी जिसके पिता पशुपालन विभाग में सकरारी कर्मचारी है और सिद्धार्थ यादव उर्फ डिंम्पू यादव पुत्र स्व. संजय यादव निवासी ग्राम भई पो. ओदार थाना सिंधौरा जनपद वाराणसी  है. पुलिस को दोनों के पास से एक पिस्टल तथा एक तमंचा बरामद हुआ है. बरामद करने वाली टीम में निरीक्षक अश्वनी पाण्डेय प्रभारी क्राइम ब्राँच, उ.नि. अरूण प्रताप सिंह (प्रभारी सर्विलांस), का. संतोष पासवान, दिवाकर वत्स, संतोष यादव सर्विलांस सेल, सहित हे.का. सुरेन्द्र मौर्या, का. रामबाबू, का. अमित शुक्ला, का. आलोक मौर्या, का. बालमुकुद, का. शिवबाबू, का. विनय सिंह, का. मृत्युंन्जय सिंह, चा0 उमेश सिंह, जितेन्द्र सिंह, का. सूरज सिंह  व.उ.नि. सुधीर कुमार त्रिपाठी, उ.नि. श्री प्रकाश सिंह चौकी प्रभारी दुर्गाकुण्ड रवि कुमार यादव, उ.नि. अजय वर्मा चौकी प्रभारी बजरडीहा थाना भेलूपुर जनपद का. आदर्श कुमार, का. केदार कुमार, का. अजीत कुमार, का. आनंद प्रकाश, का. सौरभ कुमार, का. अमित कुमार, का. श्रीकांत, का. रविन्द्र कुमार सिंह, का. अर्जुन कुमार, का. प्रियकांत, का. सत्येन्द्र चौहान, का. मनोज कुमार साहू, का. विनीत सिंह, का. अरविन्द यादव, का.मु. संजीव कुमार, का. शुभम जयसवाल थाना भेलूपुर जनपद वाराणसी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *