किसान आन्दोलन – जाने कहा – कहा किया किसानो ने टोल फ्री, Live Update

तारिक खान/आदिल अहमद/आफताब फारुकी/हर्मेश भाटिया/ए जावेद

डेस्क। कृषि बिल के विरोध में किसानो का आन्दोलन आज और भी तेज़ हो चूका है। वही देश के विभिन्न हिस्सों से किसानो का दिल्ली पहुचने का क्रम जारी है। इस क्रम में भले हरियाणा सरकार कुछ भी कहे मगर हरियाणा के किसान भी बड़ी ताय्दात में दिल्ली पहुच रहे है। कल देर रात से हरियाणा की जानिब से सैकड़ो ट्रेक्टर से किसान दिल्ली की तरफ लगातार आते दिखाई दे रहे है।

इस दरमियान आज किसानों के आंदोलन का 17वां दिन है। किसानों ने सरकार के प्रस्ताव को अस्वीकार करते हुए अपने आंदोलन को तेज करने की बात कही है। इसी के तहत आज किसानों ने देशभर में टोल प्लाजा फ्री करने का आह्वान किया है। इसके तहत कई टोल प्लाजा तो फ्री हो गए हैं, वहीं कई जगह पर इसका कोई ख़ास असर नहीं दिख रहा। जहा लोग आज भी अपने वाहन के साथ टोल प्लाजा पर कैश की लाइन में लगे देखे जा रहे हैं। वही दूसरी तरफ हरियाणा के कुरुक्षेत्र से किसानों ने आज दिल्ली की ओर कूच किया है। वह प्रदर्शनकारी किसानों से साथ आंदोलन में शामिल होने के लिए ट्रैक्टर ट्रॉली से निकले हैं।

किसानो के हवाले रहा पुरे दो घंटे तक गढ़ टोल प्लाज़ा

किसान आन्दोलन के क्रम में गढ़ टोल प्लाजा पर करीब 2 घंटे किसानों के विभिन्न संगठनों ने धरना प्रदर्शन किया और टोल को फ्री चलाया। इसी बीच 10 मिनट के लिए टोल प्लाजा प्रबंधन द्वारा टोल को चलाया गया तो भाकियू भड़क गई और किसानों ने धरना प्रदर्शन फिर चालू कर दिया। जिसके बाद से टोल प्लाज़ा किसानो द्वारा ही चलाया जा रहा है। समाचार लिखे जाने तक किसान टोल प्लाज़ा पर थे। वही प्रबंधन उनको मनाने की कोशिश कर रहा था।

फ्री हुआ सहारनपुर-अंबाला हाईवे पर स्थित शाहजहांपुर टोल

समाचार लिखे जाने तक सहारनपुर-अंबाला हाईवे पर शाहजहांपुर में भी टोल प्लाजा पर भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ता मौजूद थे। इन्होंने 11 बजे से ही टोल फ्री करा दिया है। वाहनों को बगैर टोल वसूली के निकलवाया जा रहा है और धरना दिया जा रहा है। वहा से हमारे संवादसूत्र ने हालात बयान करते हुवे बताया है कि किसानो के अधीन पूरा टोल प्लाज़ा है। टोल प्रबंधन कोई विरोध भी नही कर पा रहा है। गाडियों को बिना टोल शुल्क दिए जाने दिया जा रहा है।

टोल फ्री हुआ रोहाना टोल नाका

मुजफ्फरनगर में भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं ने मुजफ्फरनगर-सहारनपुर राज्य स्टेट हाईवे पर स्थित रोहाना टोल प्लाजा पर धरना प्रदर्शन किया। कार्यकर्ताओं ने आंदोलन के चलते टोल फ्री करा दिया। जहा से गाडियों को बिना टोल दिए जाने दिया जा रहा है। हज़ारो की तयादात में वाहन अब तक बिना टोल दिए पार हो चुके है।

मुस्तैद है झांसी के हर टोल नाकों पुलिस

किसान आंदोलन के चलते जिले की सीमा में आने वाले सभी टोल नाकों पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है। सुबह से सभी छह टोला प्लाजा पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात है। यातायात सुचारु रूप से जारी है। किसानों की ओर से टोल नाकों पर आंदोलन जैसे अभी कोई संकेत नहीं दिए गए हैं। बावजूद, सतर्कता बरती जा रही है।

वाराणसी: डाफी टोल प्लाजा पर जवान तैनात

हमारे संवाददाता ए जावेद ने बताया कि वाराणसी के डाफी टोल नाके पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात है। केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के विरोध में किसानों ने 12 दिसंबर को देश के टोल प्लाजा और हाईवे को बाधित करने का ऐलान किया था। इसको देखते हुए वाराणसी के डाफी टोल प्लाजा पर शनिवार की सुबह से ही पुलिस और पीएसी के जवान तैनात हैं।

रामपुर में किसानो का धरना समाप्त हुआ

उत्तर प्रदेश के रामपुर में दिल्ली जाने से रोके जाने के विरोध में भोट के पास नैनीताल हाईवे पर किसानों ने गुरुवार की दोपहर जो  धरना शुरू किया था वह शनिवार की सुबह 11 बजे समाप्त हो गया। किसान नेताओं ने बताया कि जिला प्रशासन से हमारी बात हो गई है, दिल्ली जाने की इजाजत दे दी गई है। किसान नेताओं ने बताया कि आज टोल प्लाजा पर प्रदर्शन होगा। नैनीताल हाईवे पर टोल प्लाजा अभी निर्माणाधीन है। जिसके कारण समाचार लिखे जाने तक किसी प्रकार के प्रदर्शन की जानकारी नही मिल रही है। हमारे संवाददाता हर्मेश भाटिया ने बताया कि किसानो के जिला प्रशासन से वार्ता की जानकारी किसानो ने दिया है और कहा है कि उनको दिल्ली जाने की अनुमति मिल गई है।

राकेश सिंह टिकैत के नेतृत्व में गाजीपुर बॉर्डर से दिल्ली की तरफ किसानो का पैदल मार्च राकेश टिकैत के नेतृत्व में दिल्ली-गाजीपुर बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों ने दिल्ली की ओर मार्च निकाला है। राकेश टिकैत ने बताया कि इस मार्च के जरिए हम सरकार को संदेश देना चाहते हैं कि वो हमारी बात सुने। इसी क्रम में ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेसवे पर किसानों ने टोल फ्री कर दिया है।

सर्द मौसम की बारिश भी नही तोड़ पाई किसानो के हौसले

सर्द मौसम की बारिश भी किसानो के हौसलों को तोड़ नही पा रही है। बारिश के बाद खुले में लगे टेंट किसानों ने खाली कर दिए, हालांकि उनका हौसला कम नहीं हुआ है। वह किसी भी परेशानी के चलते अपनी मांग से पीछे हटने को तैयार नहीं हैं। बारिश से बचने के लिए किसानों ने गाजीपुर बॉर्डर पर तिरपाल लगा लिए हैं। बारिश व ठंड के बाद भी आज बड़ी संख्या में यूपी गेट पर किसान जुटे हैं।

राजस्थान के सांसद ने दिल्ली की ओर शुरू किया मार्च

राजस्थान में आरएलपी के नेता और नागौर के सांसद हनुमान बेनीवाल दिल्ली की ओर मार्च शुरू कर दिया है। उन्होंने कहा कि हजारों किसान कोठपुतली में मिलेंगे और आगे की कार्रवाई पर चर्चा करेंगे। सरकार को एमएसपी बढ़ानी चाहिए और किसानों की बात सुननी चाहिए।

आज रात 12 बजे तक फ्री रहेगा शंभु टोल प्लाजा

शंभु टोल प्लाजा जिसे बीती रात से ही किसानों ने फ्री कर दिया है उसके इंचार्ज रवि तिवारी का कहना है कि यह टोल प्लाजा कल रात 12 बजे से ही फ्री है। कुछ किसान आए थे और अपने आंदोलन के चलते ये टोल फ्री कर दिया। हमें अब तक कोई आदेश नहीं मिला है कि कब तक टोल प्लाजा बंद रखना है लेकिन किसानों का कहना है कि आज रात 12 बजे तक बंद रहेगा।

बोले कृषि मंत्री – मोदी सरकार में बढ़ी एमएसपी, बोले प्रधानमन्त्री किसानो के लिए हितकर है कृषि विधेयक

वही किसानो के मांगो पर केंद्र सरकार अपनी जगह अडिग है। कृषि मंत्री ने ये भी कहा कि मोदी सरकार में फसलों पर एमएसपी बढ़ी है। हमारी हमेशा यही कोशिश रहती है कि मार्केट में बैलेंस बनाया जा सके। किसानों को ये आंदोलन खत्म करना चाहिए, इससे दिल्ली के नागरिक भी परेशान हैं। हम ये बिल इसलिए लाए हैं कि ओपन ट्रेड के जरिए किसानों को उसकी फसल का वाजिब दाम मिलेगा।

कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर ने एक निजी चैनल से बातचीत में किसान आंदोलन के बारे में कहा कि यह चिंता का विषय है। किसानों को चिंता करने की आवश्यकता नहीं है, एमएसपी चलती रहेगी। उन्होंने एक बार फिर इस बात पर जोर दिया कि सरकार ने किसानों को लिखित प्रस्ताव भेजा था लेकिन किसानों की ओर से अब तक कोई उत्तर नहीं आया है।

प्रधानमंत्री ने शनिवार को फिक्की के कार्यक्रम में कहा कि सारी दीवारें हटाई जा रही हैं और इनसे किसानों को फायदा होगा। इन कानूनों से कृषि क्षेत्र में निवेश होगा। इससे सबसे ज्यादा फायदा हमारे देश के किसान को होने वाला है। नए कृषि कानून से किसानों की आमदनी बढ़ेगी। कृषि क्षेत्र में निवेश से किसानों को बहुत ज्यादा फायदा होगा।

प्रशासन पकडे माओवादीयो को और जेल में डाल दे, हमे तो नही दिखा कोई ऐसा – राकेश टिकैत

भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत से जब पूछा गया कि सरकार कह रही है कि अल्ट्रा लेफ्ट और माओवादियों ने किसानों का आंदोलन हाइजैक कर लिया है तो उन्होंने पूछा कहां हैं माओवादी? अगर सरकार को मिल रहे हैं तो हमें दे दें, हम उनसे खेतों में काम कराएंगे। उन्होंने ये भी कहा कि हमारे खुफिया तंत्र को उन्हें अब तक तो पकड़ लेना चाहिए था। अगर किसी प्रतिबंधित संस्था का कोई शख्स हमारे आसपास घूम रहा है तो उन्हें जेल में डाला जाए। हमें तो ऐसा कोई शख्स यहां नहीं दिखा, अगर हमें दिखा तो हम उसे यहां से भगा देंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *