किसान आन्दोलन – आज दिल्ली-जयपुर राजमार्ग को अवरुद्ध करेगे किसान

आदिल अहमद

नई दिल्ली : नए कृषि कानूनों के खिलाफ आन्दोलनरत किसानो ने रविवार को दिल्ली-जयपुर राजमार्ग को अवरुद्ध करने का फैसला लिया है। इसके लिए हजारों किसान एक ट्रैक्टर रैली निकालेंगे, प्रदर्शनकारियों ने शनिवार को केंद्र के नए कृषि कानूनों का विरोध करते हुए इस बात को कहा। नए कृषि कानूनों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक ताजा संदेश के बावजूद किसान अपने आंदोलन को तेज करने की कोशिश करते दिख रहे हैं।

किसान नेताओं ने कहा कि प्रदर्शनकारी सोमवार को सभी जिला कार्यालयों में राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन करेंगे और सुबह 8 से शाम 5 बजे तक भूख हड़ताल करेंगे। बड़े राजमार्गों को अवरुद्ध करने और राजधानी में और अधिक सड़कों पर जाने से रोकने के लिए हजारों पुलिसकर्मी दिल्ली की सीमाओं के पास तैनात थे। वहीं शनिवार सुबह केंद्र सरकार के सुधारों का बचाव करते हुए, पीएम मोदी ने कहा: “हम किसानों की आय बढ़ाने और उन्हें अधिक समृद्ध बनाने के लिए ये सभी पहल कर रहे हैं। आज, भारत के किसान अपनी उपज को मंडियों और साथ ही बाहर भी बेच सकते हैं।”

आज दिल्ली के साथ गुड़गांव की सीमा पर 1,000 से अधिक पुलिसकर्मी तैनात थे और फरीदाबाद में 3,500 पुलिसकर्मियों ने प्रदर्शनकारियों के आंदोलन को अवरुद्ध करने के लिए कहा कि वे दिल्ली-जयपुर राजमार्ग पर कब्जा कर लेंगे। पुलिस ने बड़ी संख्या में सैकड़ों किसानों के समूहों को दिल्ली से आगरा तक मुख्य राजमार्ग पर रोक दिया है।

गौरतलब हो कि कल भारतीय किसान यूनियन द्वारा समर्थित आंदोलनकारी किसान राजमार्गों पर टोल प्लाजा पर कब्जा करने के बाद नारेबाजी करते हुए दिखाई दिए। उन्होंने वाहनों को बिना टोल शुल्क दिए गुजरने की अनुमति दे दी। समाचार एजेंसी एएफपी ने बताया कि कुछ किसानों को आगरा एक्सप्रेसवे पर हिरासत में लिया गया है।

इस बीच नए कृषि कानूनों को लेकर जारी गतिरोध के तीसरे सप्ताह में प्रवेश करने के साथ ही सत्तारूढ़ भाजपा ने देश भर में व्यापक अभियान की योजना बनाई है। पार्टी के सूत्रों ने बताया कि अगले कुछ दिनों में सत्ताधारी दल से बड़े जोर शोर के साथ  100 प्रेस कॉन्फ्रेंस और 700 किसानों की बैठकें 700 जिलों में आयोजित करेगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *