कड़क वर्दी में नरमदिल इंसान – सर्द अँधेरी रातो में ख़ामोशी के साथ गरीबो को कम्बल उढाता ये वाराणसी पुलिस का दरोगा

तारिक़ आज़मी

वाराणसी। सर्द रातो में रास्ते सुनसान हो जाते है। हम नर्म मुलायम बिस्तर में जाकर छुप जाते है। कही ब्लोवर तो कही हीटर से खुद को और अपने आसपास के माहोल को गर्म करते है। आराम से फिर हमको सुकून की नींद आती है। मगर हमारे मोहल्ले के आसपास ऐसे भी लोग होते है जो सडको पर अपनी राते गुजारते है। उनको भी ठण्ड लगती है। तन ढकने को तो छिथड़े नसीब भी हो जाते है मगर सर्द रातो की कड़ाके की ठण्ड के लिए उनके पास कोई साधन नही होता है। हम उनके बारे में कब आखिर सोचते है।

वैसे वर्दी के अन्दर के इंसान को हमने हमेशा अपने नज़रिए से कड़क और अपने काम से काम रखने वाला सख्त इंसान ही बना रखा है। मगर इसी कड़क वर्दी में नरमदिल इंसान भी कई है कभी हमारी नज़र उनके ऊपर नही पड़ती है। हम केवल पुलिस की आलोचना करते है। मगर उस वर्दी के अन्दर छुपी इंसानियत को हमने कब देखा है।

आज एक निमंत्रण से खाली होकर लंका की जानिब से मेरा गुज़र हुआ। सुनसान सडको पर आवारा पशु भी कही दुबके पड़े थे। दूर दूर तक न आदम और न ही आदमजात, सिर्फ सियापा सन्नाटा और इस सन्नाटे का साथ देती सर्द हवा। हमने काफी गर्म कपडे मन में ये सोचते हुवे पहन रखे थे कि “इसे कहे है सर्दी की तैयारी।” तभी हमारी नज़र एक वर्दीधारी धारी युवक पर पड़ी। नवजवान पुलिस कर्मी ने चेहरे पर मास्क लगा रखा था। पैदल ही हाथो में एक बड़ा सा थैला लिया एक कोने में झुक कर कुछ कर रहा था।

हमने अपने वाहन को कौतूहलता वश बंद किया और धीरे से किनारे लगा कर देखा तो वह पुलिस कर्मी एक सड़क पर सो रहे इंसान जो ठण्ड से सिकुड़ा पड़ा हुआ था के ऊपर बिना उसकी ख्वाबगाह में खलल डाले एक नर्म मुलायम गर्म कम्बल डाल रहा था। एकदम बिना किसी शोर शराबे के आहिश्ता से उसको कम्बल से ढक कर वह आगे बद गया। हमने चंद कदम उसको और निहारा। उसके कदम कुछ दूर जाने के बाद फिर रुके और अपने साथ लाये थैले से उसने फिर एक कम्बल निकाला और सड़क पर सो रहे एक और इंसान के ऊपर वैसे ही आहिश्ता से डाल कर आगे बढ़ा। हमारे देखते देखते एक एक करके लगभग दस लोगो को उसने कम्बल उढाया।

हमारी कौतूहलता बढ़ी और हमने इस नवजवान पुलिस वाले से मिलने का फैसला लिया। पास गया तो देखा ये नवजवान एसआई दुर्गाकुंड चौकी इंचार्ज प्रकाश सिंह है। प्रकाश सिंह को जिले के तेजतर्रार दरोगा में गिना जाता है। सैन्य ट्रेनिग लिए प्रकाश सिंह के लिए किसी अपराधी को पकड़ना कोई बड़ी बात नही है। खुद के हिम्मत और लगन तथा मेहनत के बल पर प्रकाश सिंह हमेशा से अपने अधिकारियो के नज़र में अपना मुकाम बनाये रहते है।

मुझको पास पाकर प्रकाश सिंह थोडा ठिठके भी। पूर्व परिचित होने के कारण हाय हेल्लो और नमस्कार आदाब के दौर के बाद हमने इस देर रात के कार्यक्रम के बारे में पूछा तो प्रकाश सिंह ने बड़ी मुलामियत के साथ अपने पुराने अंदाज़ में कहा कि हम आप कितना पहने ओढ़े रहते है और उसके बाद भी हमको ठण्ड का अहसास होता है। इन लोगो के बारे में हम कब सोचते है जो गरीब इस तरह सडको पर रात बसर करते है। हमारा कर्त्तव्य बनता है कि हम इनके बारे में भी सोचे और अपनी क्षमता अनुसार जो कर सकते है करे।

प्रकाश सिंह ने कहा कि आज हमारी नज़र इस तरह सो रहे कुछ लोगो पर कई दिनों से पड़ रही थी। हमने आज रात धीरे से इस काम को अंजाम देने की सोचा और करने का प्रयास कर रहा हु। हमने सवाल किया भाई बताया होता तो कम्बल वितरण में कुछ खबरे हम भी उठा लेते। उस तेज़ तर्रार दरोगा ने जो जवाब दिया वह निरुत्तर कर देने वाला था। प्रकाश सिंह ने बड़ी मासूमियत से कहा भाई, कर्तव्यों का निर्वहन खबरों का हिस्सा होने के लिए नहीं किया जाता है। हम अपने कर्तव्यो का निर्वहन कर रहे है। ये शोहरत पाने के लिए किया तो फिर क्या किया ?

हम इस लाजवाब सवाल के आगे कुछ कह नही सके। हमारे लफ्जों खामोश हो चुके थे। हमने एसआई प्रकाश सिंह से विदा लिया और अपने आवास की तरफ हमारी बाइक चल चुकी थी। मगर इस बार मुझको ठण्ड का अहसास नही हो रहा था। मैं सिर्फ प्रकाश सिंह के बातो की गहराईयो को सोचता हुआ अपने आवास तक आ चूका हु।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *