वाराणसी – प्लास्टिक की पिस्तौल सटा कर लिया था 4.57 लाख की लूट, चंद घंटो में ही कर लिया पुलिस ने इस लूट का खुलासा

ए जावेद

वाराणसी. वाराणसी के पुलिस मुखिया अमित पाठक की टीम ने लूट के महज़ चंद घंटो के अन्दर ही लूट के एक एक रुपयों की बरामदगी ही सिर्फ नही किया बल्कि सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे भेज कर शहर में कानून का राज स्थापित है एक बार फिर साबित कर दिया। मामला वाराणसी के पिंडरा क्षेत्र में हुई सब्जी विक्रेता से दिनदहाड़े पिस्तौल सटा कर लूट का था।

घटना के सम्बन्ध में प्राप्त समाचारों के अनुसार वाराणसी जिले के पिंडरा क्षेत्र के मझवा गांव के समीप शनिवार को सब्जी विक्रेता मुरलीधर चौहान को दो बदमाशों ने खिलौने वाली प्लास्टिक की पिस्तौल सटा कर चार लाख 57 हजार रुपये लूट लिए। मुरलीधर जमीन बेचकर उससे मिले पैसे लेकर घर जा रहा था। वारदात की जानकारी मिलते ही वाराणसी पुलिस विभाग में हडकंप मच गया। एसएसपी वाराणसी ने मामले के तत्काल के तर्ज पर खुलासे हेतु एक नहीं तीन टीम का तत्काल गठन किया। टीम फूलपुर, टीम सिंधोरा और क्राइम ब्रांच ने मामले में तत्काल जाँच शुरू कर दिया।

जब कप्तान खुद सक्रिय हो तो फिर टीम भी सक्रिय होती ही है. इस बात को आज वाराणसी पुलिस ने साबित कर दिया. वारदात के महज़ तीन घंटो के अन्दर ही पुलिस ने घटना में शामिल तीन बदमाशों को गिरफ्तार कर उनसे लूटे गए 4.57 लाख रुपये बरामद कर लिए। एसएसपी ने इसके लिए पुलिस टीम को 25 हजार के नगद पुरस्कार से पुरस्कृत करने की घोषणा की है।

मिली जानकारी के अनुसार सिंधौरा थाना अंतर्गत मझवा गांव निवासी मुरलीधर शहर में रहकर सब्जी बेचने का काम करता है। पैसे की जरूरत पड़ी तो उसने अपनी तीन बिस्वा जमीन गरथमा की गीता राजभर को छह लाख 60 हजार रुपये में बेची। दो लाख रुपये मुरलीधर को शुक्रवार को मिल गए थे। चार लाख 60 हजार रुपये शनिवार को उसे रजिस्ट्री करने के बाद मिले। इसमें से उसने तीन हजार रुपये जमीन की बिक्री में मदद करने वाले एजेंट मझवा निवासी हरिश्चंद्र राजभर को दिए और चार लाख 57 हजार रुपये लेकर उसी के साथ बाइक से पिंडरा से घर के लिए निकला। मुरलीधर के घर से कुछ दूरी पर उसे हरिश्चंद्र छोड़कर वापस लौट गया। मुरलीधर आगे बढ़ा तभी बाइक सवार दो बदमाश पीछे से आए और उसे खिलौने वाली प्लास्टिक की पिस्तौल सटाकर रुपये से भरा बैग छीन लिए।

लगभग एक घंटे बाद सूचना मिलने पर पुलिस सक्रिय हुई। एसएसपी अमित पाठक ने बताया कि घटना की सूचना मिलते ही एसपी ग्रामीण मार्तंड प्रकाश सिंह के नेतृत्व में सीओ पिंडरा अभिषेक कुमार पांडेय और थाना प्रभारी सिंधौरा रमेश यादव की टीम मौके पर भेजी गई। हरिश्चंद्र को पकड़ कर पूछताछ शुरू की गई तो मामला परत दर परत सुलझता चला गया। प्रकरण में हरिश्चंद्र के अलावा उसके गांव के अच्छेलाल राजभर व जितेंद्र राजभर को गिरफ्तार कर लूटे गए 4.57 लाख रुपये, नकली पिस्तौल और वारदात में प्रयुक्त बाइक बरामद कर ली गई है। पुलिस की इस त्वरित कार्यवाही आम जन मानस के दिलो दिमाग में इस बात को मजबूती के साथ बैठा दिया कि वाराणसी में कानून का राज है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *