गाज़ियाबाद – शमशान घाट के छत का लिंटर गिरने से 22 की मौत, कई घायल, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

आदिल अहमद

नई दिल्ली: दिल्ली से सटे गाजियाबाद में श्मशान में छत धंसने से 23 लोगों की मौत हो गई है। हादसे में कई लोग घायल बताए जा रहे हैं। जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। अब तक 38 लोग मलबे से निकाले जा चुके हैं। फिलहाल रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है।

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में रविवार को एक बड़ा हादसा हुआ। गाजियाबाद जिले के मुरादनगर में अंतिम संस्कार में शामिल होने श्मशान घाट गए लोगों पर लेंटर गिर गया। हादसे में अब तक 22 लोगों की मौत की खबर है। आशंका जताई जा रही है कि मलबे में अब भी कुछ लोग दबे हो सकते हैं। जानकारी के मुताबिक, लेंटर गिरने के बाद कई लोग मलबे में दब गए थे। इनमें से करीब 38 लोगों को निकाला गया। जिसमें से 22 लोगों की मौत हो गई है। राज्य के मुख्यमंत्री ने घटना का संज्ञान लेते हुए अधिकारियों को रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया है।

ये हादसा गाजियाबाद थाने के मुरादनगर इलाके में हुआ है। पुलिस और रेस्क्यू ऑपरेशन की टीम घटनास्थल पर मौजूद है और राहत और बचाव कार्य जारी है।  वहीं, घटना पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संज्ञान लेते हुए तत्काल राहत पहुंचाने और कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। उन्होंने मामले की जांच रिपोर्ट भी मांगी है।

सीएम योगी आदित्यानाथ ने कहा कि मंडल आयुक्त मेरठ और आईजी रेंज को मौके पर जाकर घटना की रिपोर्ट देने का आदेश दिया है। साथ ही मृतकों के परिजनों को प्रदेश सरकार की ओर से दो-दो लाख रुपये मुआवजा दिया।
अस्पताल पहुंचे गाजियाबाद के सांसद वीके सिंह ने कहा कि घटना की निष्पक्ष जांच होगी और दोषियों के खिलाफ एक्शन होगा। करीब 38 घायल अस्पताल लाए गए थे, जिनमें 23 लोगों की मौत हो गई है।
बता दें कि आज सुबह से दिल्ली एनसीआर में बारिश हो रही है। ये श्मशान घाट मुरादनगर थाना क्षेत्र के उखरानी/ बम्बा रोड में स्थित है। मुरादनगर स्थित श्मशान घाट पर कुछ लोग एक व्यक्ति के अंतिम संस्कार में शामिल होने आए थे। बारिश की वजह से ये लोग छत के नीचे थे तभी श्मशान घाट का लेंटर भरभराकर गिर गया। इसमें कई लोग मलबे में दब गए। घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस और एनडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंच गई है। घटनास्थल पर पुलिस और एनडीआरएफ की टीम मौके का रेस्क्यू अभियान जारी है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *