सरकारी डॉक्टर द्वारा प्राइवेट हॉस्पिटल संचालन प्रकरण – खबर से बौखलाये डॉ ने करवाया पत्रकारों पर हमला

उमेश गुप्ता

बलिया। बलिया के ऊभाव थाना क्षेत्र के बेल्थरा रोड तहसील स्थित इमलिया-सोनाडीह रोड पर डॉ फैज़ुर्रहमन के अस्पताल पर अपने ख़िलाफ़ ख़बर चलने से खार खाये डॉ और उसके गुर्गों ने पत्रकारों पर हमला कर दिया। इस दरमियान पत्रकारों से मारपीट कर बंधक बनाया गया। उनकी हत्या के नियत से उन हमला किया गया। सूचना पर पहुची पुलिस को देख हमलावर मौके से भाग गए।

घटना के सम्बंध में प्राप्त समाचार के अनुसार सरकारी चिकित्सक फैज़ुर्रहमन जो मऊ जनपद के रतनपुरा ब्लाक में पोस्टेड है के द्वारा सरकार से मोटी तनख्वाह लेता है मगर सरकार के द्वारा संचालित अस्पताल में न बैठ कर विगत 2 वर्षों से खुद के आवास पर प्राइवेट अस्पताल चलाता है। इस अस्पताल में मोटी फीस लेकर अमीरों का इलाज करने वाले डॉ फैज़ुर्रहमन ने पूरा अस्पताल ही खोल रखा है। 24×7 के तर्ज पर प्राइवेट प्रैक्टिस करने वाले डॉ फैज़ुर्रहमान के सम्बंध में हमने उसके इस कुकृत्य के खिलाफ प्रमुखता से खबर प्रकाशित किया था। इस खबर के प्रकाशन के बाद डॉ फैज़ुर्रहमान के द्वारा हमारे पत्रकारों को विभिन्न माध्यम से धमकियां भी दिलवाई जा रही थी।

इसी क्रम में हमको सूत्रों से समाचार प्राप्त हुआ कि डॉ फैज़ुर्रह्मान के द्वारा सरकारी अस्पतालों के आक्सीजन सिलेंडर से लेकर सरकारी दवाओं तक को अपने अस्पताल में प्रयोग किया जाता है और मरीज़ों से इस मुफ्त के चीज़ के लिये भी मोटी रकम लिया जाता है। इस समाचार की पुष्टि हेतु हमारी टीम आज गोपनीय तरीके से डॉ फैज़ुर्रह्मान के अस्पताल में दवा खरीद कर मामले की पुष्टि करने के उद्देश्य से पहुची। वहां हमको दिखा कि डॉ फैज़ुर्रह्मान के द्वारा उन सुविधाओ का भी उपयोग किया जा रहा है जो सरकार द्वारा गरीब मरीज़ों के हेतु उपलब्ध करवाई गई है।
अभी इस समाचार का संकलन हो ही रहा था कि तभी डॉ फैज़ुर्रह्मान ने पत्रकारों को पहचान लिया और अपने गुर्गों को ललकारते हुवे एक मत होकर पत्रकारों पर 20-25 अज्ञात साथियों सहित हमला कर दिया। पत्रकारों को बंधक बना कर मारपीट किया गया। डॉ फैज़ुर्रहमान और उसके साथी पेट्रोल छिड़क कर पत्रकारों को जान से मार देने का मंसूबा बना रहे थे कि तभी सूचना पाकर मौके पर सियर चौकी इंचार्ज मय दल बल सहित पहुच गए। पुलिस को देख मौके से डॉ फैज़ुर्रह्मान और उसके गुर्गे भाग गए। पुलिस ने बंधक बनाये पत्रकारों की छुड़ाया।
इस घटना के बाद पत्रकारों ने घटना से सम्बंधित लिखित शिकायत थाना अभाव पर दिया है। पुलिस मामले में विधिक कार्यवाही कर रही है। थाना प्रभारी योगेंद्र बहादुर सिंह ने बात करते हुवे बताया कि लिखित शिकायत प्राप्त हुई है। शिकायत के आधार पर कार्यवाही जारी है। पत्रकारों के हमलावरों को किसी कीमत पर नही बक्शा जायेगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *