वाराणसी – महज़ 36 घंटे के अन्दर दबोचे गए विद्युत संविदा कर्मी राजेश की हत्या करने वाले अभियुक्त, आशनाई बनी जान की दुश्मन

तारिक़ आज़मी

वाराणसी। वाराणसी के भेलूपुर थाना क्षेत्र के भीड़भाड़ वाले क्षेत्र खोजवा में सरेराह 9 जनवरी को हुई हत्या का खुलासा करते हुवे हत्याभियुक्त राजेश कुमार पटेल और उसके साथी रामबाबू उर्फ़ गोलू को आज दिनांक 11 जनवरी को दोपहर दो बजे गिरफ्तार कर हत्याकाण्ड का सफल खुलासा कर डाला। इस खुलासे से प्रसन्न हुवे कप्तान ने अपनी टीम की हौसला अफजाई के लिए 25 हज़ार के नगद इनाम की घोषणा किया। आज क्षेत्राधिकारी कार्यालय भेलूपुर में अपर पुलिस अधीक्षक (नगर) विकास चन्द्र त्रिपाठी ने अभियुक्तों को मीडिया के सामने प्रस्तुत करते हुवे घटना का सफल अनावरण कर डाला।

क्या थी घटना

घटना कुछ इस प्रकार हुई थी कि दिनांक 9 जनवरी को संविदा विद्युत् कर्मी राजेश कुमार विश्वकर्मा की खोजवा में गोली मार कर दुस्साहसिक घटना घटित हुई थी। खोजवा जैसे क्षेत्र में हुई घटना के बाद शहर में हडकंप मच गया। घटना के बाद कप्तान अमित पाठक ने मौके का मुआयना भी किया और सम्बंधित अधिकारियो और पुलिस कर्मियों को आवश्यक दिशा निर्देश जारी किया। इस घटना के सफल खुलासे के लिए क्राइम से लेकर भेलूपुर पुलिस ने अपनी ताकत झोक डाली और आखिर में भेलूपुर थाना प्रभारी अमित मिश्रा और उनकी टीम ने साबित कर डाला कि कानून के लम्बे हाथ पेड़ से आम तोड़ने के लिए नहीं बल्कि अपराधियों के कालर को पकड़ कर कानून के शिकंजे में कसने के लिए बने हुवे है।

कैसे आये पकड़ में

राजेश कुमार विश्वकर्मा के हत्या में साफ़ साफ़ समझ आ रहा था कि कोई व्यक्तिगत एंगल ही हत्या की वजह बनी है। एक कड़ी मशक्कत भेलूपुर पुलिस ने आसपास से लेकर काफी दुरी तक के फालोअप में सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में किया। भले ही हत्यारोपी राजेश कुमार पटेल और रामबाबू ने रास्ते में ही कपडे बदल कर हत्या के समय पहने हुवे कपडे रास्ते में फेक दिए, और जैकेट पहन कर फरार हो गए मगर ये फालोबैक कैमरों का था और इलेक्ट्रोनिक एविडस था जो कानून के मजबूत पकड़ में दोनों हत्याभियुक्त आ ही गए।

आशनाई बनी जान की दुश्मन

राजेश कुमार विश्वकर्मा की आशनाई और दोस्ती में धोखा ही उसकी हत्या का मुख्य कारण बना। हत्याभियुक्त से पूछताछ में जो खुलासा हुआ वह चौकाने वाला था। मृतक राजेश विश्वकर्मा और हत्याभियुक्त राजेश पटेल के बीच आपसी दोस्ती थी। दोनों का एक दुसरे के घर आना जाना था। इस दरमियान मृतक का सम्बन्ध हत्याभियुक्त राजेश पटेल की भाभी से हो गया। पहले तो शक की बिना पर राजेश पटेल ने मृतक को मना किया। फिर नहीं मानाने पर दोनों के बीच दूरी बढ़ गई।

हत्याभियुक्त राजेश कुमार पटेल ने पुलिस को बताया कि इस दरमियान जब उसने अपनी भाभी के साथ राजेश को बाहर मिलते हुवे कई बार देख लिया तो उसने मृतक राजेश को मना भी किया मगर राजेश माना नही और उलटे उसको ही धमकी देने लगा। हत्याभियुक्त राजेश पटेल ने बताया कि इससे वह आखिर में फैसला कर बैठा कि प्लान के अनुसार राजेश की हत्या कर देगा। इस काम के लिए उसने अपने साथ अपने दोस्त रामबाबू को मिलाया और घटना को अंजाम दे बैठा। घटना में प्रयुक्त अपाचे बाइक का इंतज़ाम रामबाबू ने किया था। रामबाबू ने वह बाइक अपने मामा के बेटे से लिया था। पुलिस ने दोनों अभियुक्तों क्रमशः कर्मजीतपुर, सुन्दरपुर निवासी राजेश कुमार पटेल पुत्र रामलखन पटेल और उसके साथी करौंदी के पंचकोशी रोड निवासी रामबाबू उर्फ़ गोलू पुत्र राजेश को आज दोपहर दो बजे हिरासत में लिया है।

पुलिस ने हत्याभियुक्तो में राजेश पटेल के पास से घटना में प्रयुक्त .32 बोर की पिस्टल और रामबाबू के पास से घटना में प्रयुक्त अपाचे बाइक बरामद कर लिया है। घटना के सफल खुलासे में भेलूपुर इस्पेक्टर अमित मिश्रा, दुर्गाकुंड चौकी इंचार्ज प्रकाश सिंह, अस्सी चौकी इंचार्ज दीपक कुमार, खोजवा चौकी इंचार्ज रवि कुमार यादव, एसआई राहुल यादव और वेद प्रकाश यादव सहित का० सौरभ कुमार, विनोद कुमार, विनीत कुमार और अरविन्द यादव की प्रमुख भूमिका रही। पुलिस अधीक्षक ने घटना का खुलासा करने वाली टीम को 25 हज़ार नगद इनाम की घोषणा करके टीम की हौसलाअफजाई किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *