चौबेपुर में पिता पुत्र पर हुआ जानलेवा हमला प्रकरण – गिरफ्तार दीपक मिश्रा के निशानदेही पर गोलघर कचहरी निवासी इकबाल भी चढ़ा पुलिस के हत्थे

ए जावेद

वाराणसी के चौबेपुर थाना क्षेत्र में हुवे पिता पुत्र के दोहरे हत्या के प्रयास प्रकरण में पुलिस ने बड़ी कार्यवाही करते हुवे कल शाम को दीपक मिश्रा को कचहरी के पास से गिरफ्तार कर लिया था। इस गिरफ़्तारी के बाद एक अज्ञात की भी तलाश पुलिस को थी जो प्राथमिकी में दर्ज था। मगर पुलिस के पास शिनाख्त नही थी कि अज्ञात व्यक्ति कौन था इस घटनाक्रम में। पुलिस ने जब दीपक मिश्रा से कड़ाई से पूछताछ किया तो उसने सब कुछ उगल डाला। अज्ञात व्यक्ति की शिनाख्त कचहरी गोलघर के निवासी कथित बाहुबली बनने वाले इकबाल के तौर पर हुई।

दीपक मिश्रा के निशानदेही के बाद पुलिस ने इकबाल को आज उसके घर से धर दबोचा। कभी इकबाल ने सोचा भी नहीं होगा कि जिस इलाके में वह बाहुबलियों के नाम पर खुद का वर्चस्व बनाने की कोशिश करता है। उसी इलाके में ही उसके घर से पुलिस उसको गिरफ्तार कर लेगी। इकबाल खुद को महफूज़ समझ कर घटना के बाद से अपने घर पर ही रह रहा था। कल जब दीपक मिश्रा ने राज़ उगला तब पुलिस ने अज्ञात व्यक्ति की शिनाख्त किया।

जिसके बाद गोलघर कचहरी के भवन संख्या 56/34 के रहने वाले मोहम्मद इस्लाम के बेटे इकबाल को उसके घर से पुलिस ने आज भोर में जब वह अपनी ख्वाबगाह में खुद के मीठे सपनो में खोया हुआ था आकर गिरफ्तार कर लिया। इकबाल के पास से एक कंट्री मेड अवैध ।32 की पिस्टल और एक गोली भी बरामद हुई है। चौबेपुर पुलिस ने इस बरामदगी पर भी इकबाल के खिलाफ एक और मुकदमा दर्ज कर अपराध संख्या 81/2021 अंतर्गत धारा 3/25/27 बुक कर दिया।

कौन है इकबाल

सूत्रों की माने तो इकबाल गोलघर कचहरी क्षेत्र का निवासी एक दबंग किस्म का व्यक्ति है। इकबाल का शौक बाहुबलियों की जी हुजूरी करना और उनके नाम पर खुद का अपना वर्चस्व क्षेत्र में चलाना था। सूत्र तो यहाँ तक बताते है कि इकबाल के द्वारा चंदौली जनपद के दीनदयाल उपाध्याय नगर यानी मुगलसराय में आज से 5 वर्ष पूर्व एक बिल्डर ठेका लिया गया था। आज तक भवन का पूरा हुआ है उलटे जब भी भवन स्वामी उसको इस मामले में टोकता तो किसी न किसी बाहुबली के नाम पर इकबाल उसको टाल देता था।

सूत्रों की माने तो इकबाल चेतगंज थाना क्षेत्र के बनिया और नई सड़क इलाके में खुद की बढ़िया पकड़ वहा के निवासी कुछ युवको के माध्यम से बना कर बिल्डर लाइन में उतरा था। बिल्डर बनने के लिए खुद को बाहुबली साबित करते करते इकबाल ने अपराध तक को अपना रास्ता बना लिया जिसकी नजीर चौबेपुर कांड था। अब जब पुलिस का शिकंजा सख्त हुआ है तो इकबाल का इकबाल कम होना लाजिम समझ आ रहा है।

बहरहाल, पुलिस ने चौबेपुर की घटना में अभियुक्तों को चालान कर तथा इकबाल पर एक और मुकदमा अलग से अवैध असलहे का लिख कर अग्रिम विधिक कार्यवाही कर दिया है। वही दुसरे तरफ पीड़ित परिवार में पुलिस द्वारा की गई कार्यवाही से संतोष दिखाई दे रहा है। वही दोनों घायलों की हालात में सुधार भी तेज़ी के साथ होने के समाचार मिल रहे है। गिरफ़्तारी करने वाली टीम में एसआई दिलीप कुमार, रविकांत चौहान, सुभाष यादव सहित का0 संदीप सिंह राठौर, अमृत राज तिवारी, सुरेश उपस्थित थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *