तारिक आज़मी की मोरबतियाँ – पियरी चौकी इंचार्ज साहब, सूत्र हमको रहे बताय, जमकर लाटरी खिलवा रहा पप्पू चाय

तारिक आज़मी

वाराणसी। मोबाइल लाटरी एक बार फिर शहर को अपने आगोश में लेने को तैयार बैठी है। वाराणसी पुलिस ने जमकर काम किया और लाटरी के इस काले कारोबार को बंद करवा दिया। मगर एक बार फिर लक इण्डिया लाटरी ने अपने पाँव ज़माने शुरू कर दिए है। सूत्रों की माने तो पुलिस को गुमराह करते हुवे पप्पू चाय इस कारोबार को शहर में तेज़ी के साथ फैला रहा है।

कौन है पप्पू चाय

दालमंडी के निकट खजूर वाली मस्जिद के पास ने निवासी निजाम मिया ने अपनी पूरी ज़िन्दगी लोगो की खिदमत में गुज़ार दिया। ग़ुरबत में ही सही बच्चो की बेहतरीन परवरिश किया। सभी क्षेत्र के लोग हो या आसपास के इलाके के उनकी इज्ज़त करते थे। आज भी उनके नाम से ही उनका चाय का होटल चलता है। उनका सबसे छोटा बेटा हाजी राजू आज भी अपने मरहूम वालिद की वरासत को आगे बढाते हुवे इज्ज़त के साथ चाय का होटल चला कर अपना और अपने कुनबे की परवरिश करता है। वही बड़ा बेटा सिराज भी गरीबी में ही सही अपने बच्चो की तालीम और तरबियत देता है और बिरयानी बेच कर खुद के परिवार को इज्ज़त की रोटी खिलाता है।

इन सबके बीच निजाम चचा का एक और बेटा पप्पू शुरू से ही शार्ट कट इनकम के लिए ही जुगाड़ डॉट काम का मास्टर रहा है। सूत्रों की माने तो पप्पू चाय के नाम से मशहूर इस तीसरे बेटे ने इलाके में सबसे पहले लाटरी खिलवाने वाले राशिद नाम के युवक से हाथ मिला कर बड़ा सिंडिकेट खड़ा किया। राशिद सफेदपोशो के संरक्षण में लाटरी के कई चट्टे इलाके में खिलवाता था। जिसका अच्छा ख़ासा हिस्सा पप्पू के पाले से आता था। सूत्रों की माने तो पप्पू ने खुद के कदम यही से लाटरी के मकडजाल में अच्छी तरह जमा लिया।

बड़ा सिंडिकेट है पप्पू चाय का

हमारे सूत्रों के अनुसार पप्पू चाय का एक बड़ा सिंडिकेट शहर में लाटरी खिलवा रहा है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पप्पू केवल बेनियाबाग के आसपास ही नही बल्कि सरैया में खुद के निजी आवास के पास, कोनिया में घाट किनारे और आदमपुर के कोइला बाज़ार इलाके में जमकर लक इण्डिया लाटरी खिलवा रहा है। हर 15 मिनट में ड्रा के बाद अमीर होने का ख्वाब दिखाने वाले पप्पू के इस काले कारोबार का मुख्य अड्डा निजाम होटल के ऊपर कमरे में होने की जानकारी सूत्र हमको दे रहे है। उसकी इस हरकत से परेशान हाजी राजू और सिराज उसके कारोबार में कोई दखल न दे पाते है। सूत्रों की माने तो बाहुबलियो का साथ पकडे पप्पू लाटरी उन दोनों भाइयो को दबा कर रखता है।

पप्पू भोपा ने खोला था गिरफ़्तारी के बाद पप्पू चाय का राज़ – सूत्र

पुलिस सूत्रों की माने तो इस्पेक्टर चौक डॉ आशुतोष तिवारी ने पप्पू पर शिकंजा कसने का काफी प्रयास किया। उनके निर्देशन में और उनको मिले इनपुट के आधार पर पियरी चौकी इंचार्ज घनश्याम मिश्रा की टीम ने पप्पू भोपा को लक इण्डिया लाटरी खिलवाते रंगे हाथो पकड़ा था। पप्पू भोपा का चालान भी हुआ। पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पप्पू भोपा ने पप्पू चाय के सम्बन्ध में गिरफ़्तारी के बाद बड़ा खुलासा करते हुवे उसके सिंडिकेट के सम्बन्ध में स्थानीय चौकी इंचार्ज को बताया था। मगर गिरफ़्तारी के बाद छूट कर आया पप्पू भोपा दुबारा शार्ट कट इनकम से काम चला रहा है वही पप्पू चाय पर पियरी चौकी की पकड़ ढीली पड़ती दिखाई दे रही है।

बड़ा सवाल – आखिर क्यों बचते है पियरी चौकी इंचार्ज पप्पू चाय पर बड़ी कार्यवाही से

सूत्रों के दावो को आधार माने तो पप्पू चाय ने इस काले कारोबार में राशिद से अधिक दौलत कमाई है। राशिद ने तो संपत्ति के नाम पर जितने लाख कमाए उससे अधिक पप्पू चाय ने कमाए है। उसके पुरे कारोबार को सफेदपोशो का संरक्षण मिलता रहता है। जहा चौक पुलिस इसके ऊपर सख्त होती है वही दस मिनट के अन्दर ही क्षेत्र के सफेदपोश और बदनाम कुछ बिल्डर से लेकर कथित समाजसेवक पियरी चौकी के अन्दर सेटिंग करते दिखाई दे जाते है। मैं फलनवा पार्टी का दम्काना पदाधिकारी हु। तो मैं फलनवा अधिकारी का बहुत करीबी हु, या फिर लॉक डाउन में मैंने यु हाथी के पूछ में गम्मा मार दिया था का डायलाग देते हुवे खुद को सफेदपोश का तमगा देते हुवे पप्पू चाय की पैरवी शुरू कर देते है।

हमारे सूत्रों के अनुसार पप्पू चाय का सबसे करीबी शख्स कच्ची सराय का शाहिद है। शाहिद के द्वारा ही पप्पू सभी लेनदेन करता है। चाहे वह बिहारी को उसका हिस्सा पहुचाना हो। या फिर किसी को भुगतान करना हो। शाहिद दालमंडी की पेचीदा दलीलों जैसी गलियों में अपनी बादशाहत इस काले कारोबार के लिया कायम रखे है। इलाके के लोग भी इन दोनों के खिलाफ बोलने से डरते है। बोले भी क्यों ? आज तक पुलिस ने कोई बड़ी कार्यवाही न तो पप्पू चाय पर किया है और न ही शाहिद पर किया है। शाहिद और पप्पू चाय पर जहा इस्पेक्टर चौक डॉ आशुतोष तिवारी और क्षेत्राधिकारी दशाश्वमेघ सख्त है। वही कार्यवाही के नाम पर पियरी चौकी इंचार्ज अपनी सॉफ्ट छवि दिखा देते है।

सूत्रों ने तो यहाँ तक बताया कि जब जब क्षेत्राधिकारी और थाना प्रभारी के द्वारा पप्पू के लिए सख्ती का आदेश होता है तब तब सख्ती के नाम पर पप्पू चाय के भाई हाजी राजू और सिराज बिरयानी को ही चौकी प्रभारी के द्वारा सख्त किया जाता है। आज तक पप्पू के ऊपर चौकी प्रभारी कोई कार्यवाही नही कर पाए। सूत्र बताते है कि शाहिद कच्ची सराय के ऊपर कार्यवाही के नाम पर एक बार उसके घर पर जाकर पूछताछ के लिए आवाज़ देना और उसके न मिलने के बाद उसी रात स्थानीय एक बहुत ही अधिक मशहूर बिल्डर के साथ मीटिंग करने के अलावा कोई बड़ी उपलब्धि चौकी इंचार्ज पियरी के नाम नहीं रही।

आदमपुर क्षेत्र में भी पाँव पसार रहा है पप्पू चाय की लक इण्डिया लाटरी

लक इण्डिया लाटरी के द्वारा आदमपुर क्षेत्र के कोयला बाज़ार इलाके में भी पप्पू चाय अपना पाँव पसार रहा है। यहाँ के एक कथित टोटो चालक जो कई बार लाटरी के नाम पर जेल की यात्रा कर चुका है के ज़रिये पप्पू चाय अपना पाँव पसार रहा है। सूत्रों की माने तो रामनगर थाना क्षेत्र में तैनात एक सिपाही ने इस कथित टोटो चालक की पैरवी स्थानीय पुलिस चौकी के एक सिपाही से किया है। पुलिस को ये चकमा देता है कि साहब मैं तो टोटो चलाता हु, मगर लाटरी का बड़ा कारोबार करता रहता है। सूत्रों के अनुसार इसका पठानी टोला का पकडिया तले के करीब का निवासी एक साथी जो अक्सर आदमपुर चौकी पर वहा के सिपाहियों की सेवा करता दिखाई देता है के संरक्षण में जमकर लाटरी का कारोबार होता है। सूत्रों की माने तो जहा पुलिस इस कथित टोटो चालक पर सख्त होती है तो यही आकर पैरवी करने लगता है।

नोट – समस्त सूचनाये हमारे सूत्रों के मध्यम से उपलब्ध है। हमारी सूचनाओं के अनुसार शाहिद अपने दूरभाष नम्बर 6390XXX604 और पप्पू चाय फोन नम्बर 9129XXX480 के द्वारा इस लक इण्डिया लाटरी के काले कारोबार को संचालित करता है। लक इण्डिया लाटरी को उसकी वेब साईट http://luckindiaonline.in/PublicResult.aspx देख सकते है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *