वाराणसी – घुस लेना पड़ा भारी, जिस थाने पर तैनात था सिपाही उसी थाने पर हुआ गिरफ्तार

ए जावेद

वाराणसी। पुलिस की नौकरी में सरकार एक स्मार्ट सैलरी देती है। बढ़िया मान सम्मान भी मिलता है। मगर थोडा और अधिक कमाने की लालच दिल में आना एक सिपाही को उस वक्त महंगा पड़ गया जब एक नागरिक से उसने चार हज़ार रुपया घुस का लिया और उसका वीडियो बन गया। वीडियो वायरल हो गया। इसके बाद वाराणसी के पुलिस कप्तान ने मामले का संज्ञान लिया और एसपी क्राइम को प्रकरण की जाँच सौपी।

जाँच में सीओ कैंट ने उक्त वीडियो में घुस देने वाले नागरिक को जाँच हेतु बुलवाया। जांच में नागरिक के द्वारा मामले की सच्चाई ब्यान करते हुवे सम्बन्धित वीडियो उपलब्ध करवाया। मामले की गंभीरता को देखते हुवे और सच्चाई सामने आने के बाद क्षेत्राधिकारी के आदेश पर वादी का मुकदमा थाना लालपुर पाण्डेय पुर में दर्ज हुआ। जिस थाने पर घुस लेने वाला सिपाही पोस्टेड था उसी थाने पर वह आरोपी के तौर पर वांछित हुआ और उसकी गिरफ़्तारी हुई।

प्रकरण में वादी राम अवध राजभर ने इस घटना के सम्बन्ध में 11 फरवरी को थाने पर तहरीर देकर आरोप लगाया था कि आरक्षी अवधेश कुमार पाल ने एक मामले में उससे 5000 रूपये घूस के मांगे थे जिसमे 4000 रुपया उसने दिया था। इस घटना का पूरा वीडियो भी उसने सबूत के तौर पर जांच अधिकारी को प्रदान किया गया। इस मामले में उसकी संलिप्तता उजागर होने के बाद थाने में भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया। पकड़े गए अवधेश पाल को आज जेल भेज दिया गया।

क्या था मामला

वायरल वीडियो हुवे वीडियो के सम्बन्ध में मिली जानकारी के अनुसार एक युवक एक युवती को बाइक पर बैठाकर ले जा रहा था। वह युवती तकरीबन चार दिन से घर से गायब थी। युवती ने युवक से घर छोड़ने को कहा तो वह तैयार हो गया। इसी बीच लालपुर पांडेयपुर थाने के सिपाही अवधेश पाल ने युवक की बाइक रुकवाई। इसके बाद युवती को घर भेजकर युवक को बैठा लिया और उसके परिजनों को बुलाया। युवक का भाई लालपुर पांडेयपुर थाने पहुंचा तो सिपाही ने कहा कि तुम्हारा भाई छेड़खानी के आरोप में पकड़ा गया है। 20 हजार रुपये दो तो बड़े साहब से बात कर युवक को छुड़वा दें। किसी तरह से मामला चार हजार रुपये में तय हुआ और तब जाकर युवक लालपुर पांडेयपुर थाने की पुलिस की अवैध हिरासत से छूटा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *