वाराणसी – कप्तान और एसपी (ग्रामीण) बहा रहे पसीना, देर रात तक कर रहे बैठक, यहाँ लोहता थाने के कोटवा चौकी पर तैनात दरोगा जी पी रहे सड़क पर वर्दी में दारु

तारिक़ आज़मी

वाराणसी। वारणसी के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अमित पाठक और उनकी टीम हर पल इस चिन्तन और मनन में रहती है कि जिले में कानून व्यवस्था पर कोई आंच न आये। इसके लिए कप्तान स्वयं देर रात तक मेहनत करते है। देर रात तक अपने अधिनस्थो के साथ बैठकों का दौर चलाते है।

वही इसी वाराणसी जनपद में कुछ पुलिस कर्मी ऐसे भी है जो कप्तान साहब की मंशा को पूरा पलीता लगाने पर तुले है। एक तरफ जहा उच्चाधिकारियों की बैठकों का दौर चल रहा था वही लोहता थाना क्षेत्र के कोटवा पुलिस चौकी पर तैनात एक दरोगा जी कुछ जनता के अपने निकटस्थ लोगो के साथ बैठ कर वर्दी में सड़क पर दारु पी रहे थे। जबकि खुद लोहता थानाध्यक्ष विश्वनाथ प्रताप सिंह देर रात तक गश्त करके क्षेत्र में शांति व्यवस्था के साथ कानून व्यवस्था कायम रखने के लिए मेहनत किया करते है।

लोहता क्षेत्र के एक सुधि पाठक ने हमको एक वीडियो भेजा है। हमारे पाठक ने खुद का नाम और पहचान गोपनीय रखने के शर्त पर हमको बताया कि वीडियो कोटवा पुलिस चौकी पर तैनात एक दरोगा राम मनोहर सिंह का है और जो आज रात का है। वीडियो भेजने वाले हमारे सुधि पाठक ने हमको बताया कि रोज़ के लगभग मामूर के अनुसार आज भी दरोगा जी कोरौता जंगल के पास सड़क पर अपने चेले चापड़ो के साथ बैठ कर दारु पी रहे थे तभी ये वीडियो बना है।

हद कर दिया दरोगा जी ने भी

पाठक द्वारा भेजे गए वीडियो में आप देखे दरोगा जी वर्दी में है और शराब के नशे में एकदम टल्ली हो चुके है। इतना चढ़ गई है कि ढंग से बैठ भी नही पा रहे है। शराब की बोतल और गिलास बगल में ही रखा हुआ है। साथ बैठा एक युवक उनको कुछ रुपया निकाल कर देता है और कहता है कि एक हज़ार कल दे दूंगा। वीडियो को गौर से देखे तो पैसे लेने के बाद उसकी संख्या दरोगा जी खुद बता रहे है। जितना पैसा वो बता रहे है उतने की आप चाय पार्टी अपने दोस्तों के साथ कर जाते है। अगर पांच छः लोग बैठा कर चाय और मक्खन टोस्ट खा ले तो शायद उसकी बिल भी 200 के लगभग हो जाएगी। वीडियो में दरोगा जी पैसे गिन कर बता रहे है कि 180 रुपया है।

पैसे पर वीडियो में युवक कहता है कि ये सिर्फ तेल भरवाने के लिए दिया है। कमाल है दरोगा जी। कुछ तो लाज रख लिया होता। 180 रुपया ले लिया।।। महज़ 180 रुपया। बहरहाल, दरोगा जी की मर्ज़ी वो जितना चाहे उतना ले ले भाई। आखिर जनपद के सबसे किनारे पड़ने वाली पुलिस चौकी है। वीडियो में ही प्राइवेट लोग जो शायद आम नागरिक दिखाई दे रहे है वो उनमे एक गाडी चेकिंग की बात कहता है। इस दरमियान पूर्व कोटवा चौकी इंचार्ज राधेश्याम की भी बात करता है। यानी दरोगा जी अनुमति देकर प्राइवेट लोगो से गाडी चेकिंग भी करवा लेते है।

क्षेत्रीय चर्चाओं के अनुसार दरोगा जी अक्सर प्राइवेट लोगो को साथ में लेकर अचानक चेकिंग करते है। चालान कागज़ का कुछ कटे न कटे मगर ग्रामीण क्षेत्र होने के कारण स्वचालान जैसी व्यवस्था तो हो ही जाती है। कोटवा चौकी एक ग्रामीण क्षेत्र में मुख्य मार्ग से थोडा विपरीत होने के कारण अक्सर अधिकारियो के नज़र से बची रहती है। थाने से भी आने जाने के लिए रास्ता बहुत अच्छा न होने के कारण यहाँ शायद मनमानी का दौर चल रहा है। हमने इस सम्बन्ध में एसपी (ग्रामीण) और क्षेत्राधिकारी सदर से बात करने की कोशिश किया तो दोनों ही अधिकारी बैठक में थे। देर रात तक चली बैठक के कारण हमारी उनसे बात नही हो पाई।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) – समाचार के साथ प्रकाशित वीडियो हमारे एक सुधि पाठक के द्वारा भेजा गया है। हमारे पाठक के निवेदन पर हम उनका नाम और पता गोपनीय रख रहे है। वीडियो समाचार के साथ “जैसे आया, वैसे पोस्ट किया” के तर्ज पर लगा है। हम इस वीडियो की सत्यता की पुष्टि नही करते है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *