लहू ने बहाया लहू – खुद के बेटो ने ज़मीन की लालच में कर दिया बाप का क़त्ल, सगे भाई और चाचा सहित तीन को किया घायल

मुकेश यादव

मधुबन (मऊ)। बड़े बुजुर्गो की कहावत है, “पूत सपूत तो क्यों धन संचय और पूत कपूत तो क्यों धन संचय।” इसका भावार्थ होता है कि अगर पूत सपूत है तो उसके लिए धन संचय करने की आवश्यकता ही नही है क्योकि वो खुद ही धन कमा लेगा उसको धन की आपके आवश्यकता ही नहीं पड़ेगी। वही यदि पूत कपूत है तो उसके लिए धन संचय करने का क्या फायदा, आपकी मेहनत की कमाई हुई संचय की गई धनराशी को वह अपनी आवारगी में उड़ा देगा। काफी मामले आपने ऐसे देखे होंगे कि खुद की पैदा की हुई औलाद दौलत के लिए दुश्मन बन जाती है। खुद एक रुपया की संपत्ति न बनाने की औकात रखने वाली औलाद बाप दादा की संपत्ति पर गिद्ध दृष्टि गडाए रहते है।

Demo Pic

वही कुछ तो ऐसे भी आपको मिल जायेगे जो किसी से विवाह ही केवल उसकी संपत्ति पर अपनी नज़र रख कर करते है। उनकी मंशा होती है कि पत्नी जिसको बना रहे है उसकी खानदानी ज़मीन में हिस्सा लेकर अमीर हो जायेगे। जबकि उनकी खुद की औकात एक गुमटी अपने मेहनत से खरीद सकने की नही होती है। ऐसे कई उदाहरण आपको अपने आसपास मिल जायेगे। ऐसा लगेगा कि मेरे लफ्ज़ आपको देखे सुने से है। बेटा बाप के ऊपर संपत्ति के लिए मुकदमा करता है। बेटी से उसका पति बाप के ऊपर मुकदमा करवाता है ताकि उसको संपत्ति मिल सके और वो अमीर हो सके। ऐसे लालची गिद्धों से दुनिया भरी पड़ी है। संपत्ति के लिए अपनी खुद की पैदा की हुई औलाद ही दुश्मन बन जाती है। वो औलाद जिसको पाल पोस कर बड़ा किया, लाड दुलार से जिसकी परवरिश किया वही जान की दुश्मन हो जाती है। इसका जीता जागता उदहारण आज मऊ जनपद में देखने को मिला जहा बेटो ने अपने बाप की जान केवल सपत्ति के लालच में ले डाला।

मामले में मिली पुलिस से जानकारी के अनुसार, मधुबन थाना क्षेत्र के दुबारी गांव में रहने वाले बुधिराम शर्मा (65) के तीन बेटे हैं। सबसे बड़ा बेटा राजेंद्र दूसरा अखिलेश और तीसरा पिंटू। अखिलेश और पिंटू शर्मा को शक था कि पिता जमीन बेचकर बड़े भाई राजेन्द्र की मदद कर रहे हैं। इसके अलावा बाकी बची जमीन को बड़ी बहू पुष्पा के नाम करने वाले हैं। इसको लेकर दो दिन पहले दोनो बेटों ने पिता से विवाद भी किया था। इसके बाद शुक्रवार की रात को दोनों ने भाई राजेन्द्र पर हमला कर दिया। इस दौरान बीच बचाव करने आए पिता बुधिराम पर दोनो भाइयों ने फावड़े से हमला कर दिया। इससे बुधिराम की मौके पर मौत हो गई।

वही बुधिराम के भाई ने अपने भाई पर हुवे हमले को देखा तो अपने बेटो के साथ बीच बचाव के लिए आये। मगर हमलावर कुपुत्रो ने बुधिराम के भाई भोला (62) और उसके बेटे गुड्डू शर्मा को भी मार पीट कर गंभीर रूप से घायल कर दिया। खुद की औलाद शैतान बन चुकी थी और बुधिराम को उसके बेटो ने ही मार डाला था। वही बुधिराम के बड़े बेटे राजेंद्र, बुधिराम के भाई भोला और बेटे गुड्डू को उन शैतानो ने मार कर गंभीर रूप से घायल कर दिया था।

इस दरमियान किसी ने घटना की सुचना पुलिस को दे दिया। घटना की सुचना मिलते ही मौके पर पहुची पुलिस ने तीनों घायलों को उपचार के लिए अस्पताल भेज दिया। साथ ही घटना के बाद मौके पर मौजूद हमलावर अखिलेश और पिंटू को हिरासत में ले लिया।। घटना की जानकारी होने पर देर रात अपर पुलिस अधीक्षक टीएन त्रिपाठी और सीओ मधुबन ने मौके पर पहुंचकर घटनास्थल का जायजा लिया। साथ ही मातहतों के खिलाफ कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *