पीड़ित परिजनो ने मिलकर पुलिस कमिश्नर से लगाई फ़रियाद – मासूम को कार से कुचल कर मारने वाले बिजली कर्मी दीपक सिंह के मनबढ़ बेटे पर नही कर रही पुलिस कार्यवाही

ए जावेद

वाराणसी। वाराणसी के कैंट थाना क्षेत्र में विगत 26 मार्च को एक नाबालिग किशोर के द्वारा तेज़ रफ़्तार कार से मासूम को कुचल देने का मामला अब और भी तुल पकड़ता दिखाई दे रहा है। इस प्रकरण में पुलिस पर लापरवाही का बड़ा आरोप लगाते हुवे आज पीड़ित परिवार कई समाजसेवको के साथ पुलिस कमिश्नर के दरबार में पहुच कर अपनी फ़रियाद उनको सुनाई। पीड़ित परिजनों के बयान को सुनकर पुलिस कमिश्नर ने तत्काल अपने मतहतो को निदेश दिया है और प्रकरण का जल्द से जल्द खुलासा करने का निर्देश दिया है।

मनबढ़ है बिजली विभाग के कर्मी दीपक सिंह का ये नाबालिग बेटा

आरोपी कार चालक किशोर जो महज़ 14 साल का है वह अपने पिता के शह पर मनबढ़ प्रवित्ति का होता जा रहा है। ऐसा हम नहीं बल्कि क्षेत्र के नागरिक कहते है। क्षेत्रीय चर्चाओं और पीड़ित परिजनों के अनुसार दीपक सिंह बिजली विभाग में कार्यरत है। उसके पास असलहे का लाइसेंस भी है। जिसके बल पर वह अक्सर दबंगई किया करता है। क्षेत्रीय नागरिको के आरोपो को आधार माने तो दीपक सिंह का नाबालिग बेटा ऐसे ही काफी तेज़ रफ़्तार से कार चलाता है और इंसान को इंसान नही बल्कि जानवर समझता है।

क्षेत्र के एक नागरिक ने अपना नाम न ज़ाहिर करने की शर्त पर बताया कि दीपक सिंह का नाबालिग बेटा अक्सर सड़क के आवारा पशुओ पर अपनी गाडी चढ़ा देता है। उसके कृत्यों का अगर कोई विरोध करता है तो उसका बाप दीपक सिंह खुद का लाइसेंसी असलहा लेकर आमादा मारपीट हो जाता है। इलाके में दीपक सिंह और उसके नाबालिग बेटे से दहशत का माहोल अकसर रहता है। वह कब तेज़ रफ़्तार कार लेकर चला आये और कब कौन उसकी इस सनक का शिकार हो जाए कुछ पता नही चलता है।

घटना के पहले पीड़ित परिवार ने किया था तेज़ कार चलाने पर आपत्ति

मृतक मासूम बच्ची के पिता ने आज मीडिया से बात करते हुवे बताया कि जिस दिन घटना हुई है उसके दो दिन पहले दीपक सिंह का मनबढ़ बेटा ऐसे ही बेतरतीब तेज़ रफ़्तार कार चला रहा था जिसका उसने विरोध किया था। विरोध करने पर तुरंत उसने अपने पिता को फोन किया था और मौके पर दीपक सिंह अपने लाइसेंसी असलहे सहित आकर अंजाम भुगतने की चेतावनी देकर गया था। जिसके बाद 26 मार्च को यह घटना घटी और दीपक सिंह के शह पर ही उसके नाबालिग बेटे ने ये घटना अंजाम दिया।

तेज़ रफ़्तार कार के चक्के से कुचल दिया था मासूम को

महज़ डेढ़ साल की मासूम जिसने अभी दुनिया को आँख खोल कर देखा भी नही था 26 मार्च को अपने घर के पास खेल रही थी। तभी तेज़ रफ़्तार से बेतरतीब कार चलाते हुवे दीपक सिंह का बेटा आया और उसने कार के चक्के से उस मासूम को कुचल दिया। जिससे उस नन्ही सी जान की मौके पर ही मौत हो गई थी। घटना के बाद दीपक सिंह का बेटा कार मौके पर ही छोड़ कर भाग गया था। घटना के सम्बन्ध में कैंट थाने पर सम्बन्धित गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज है।

धमका रहा है दीपक सिंह – पीड़ित परिवार

आज पुलिस कमिश्नर से मिलकर निकले मृतक मासूम के पिता ने हमसे बात करते हुवे बताया कि घटना के बाद से पुलिस दीपक सिंह और उसके नाबालिग मनबढ़ बेटे पर अभी तक कोई कार्यवाही नही की है। जिससे दीपक सिंह का मनोबल बढ़ा हुआ है और वह लगातार हम लोगो को विभिन्न माध्यमो से धमकी दे रहा है कि हम मुकदमा वापस ले ले।

पुलिस के हाथ है खाली

घटना के 5 दिन गुजरने को है मगर पुलिस के हाथ अभी भी खाली है। पुलिस ने इस मामले में अभी तक कोई ख़ास ठोस कार्यवाही नही किया है। पुलिस पर पीड़ित परिवार ने आरोप लगाते हुवे कहा है कि दीपक सिंह को समय देकर पुलिस उसको लाभ दे रही है। पुलिस के द्वारा उसके दबाव में कोई कार्यवाही नही क्या जा रहा है। आज भी घटना के बाद जब स्थानीय पुलिस कोई कार्यवाही नही करती दिखाई दे रही है तो हम लोगो ने पुलिस कमिश्षर से मुलाकात कर अपनी फरियाद लगाई है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *