वसीम रिज़वी ने वीडियो जारी कर कहा कि मुझको सभी छोड़ कर चले गए है, यहाँ तक कि मेरी पत्नी, बच्चे, भाई-बहन, माँ सभी मुझको छोड़ कर चले गए

आदिल अहमद

लखनऊ। शिव सेन्ट्रल वक्फ बोर्ड के पूर्व उपाध्यक्ष वसीम रिज़वी की हाल कुछ इसी तरह हो गई है कि न खुदा ही मिला, न विसाल-ए-सनम, न इधर के रहे न उधर के रहे की तरह होती जा रही है। मुस्लिम समुदाय में जहा उनको नाराज़गी झेलनी पड़ रही है वही आज हुवे सम्मलेन में उन्हें इस्लाम से बेदखल कर दिया गया है। वसीम रिज़वी के प्रकरण में आयोजित हुवे सम्मलेन में उन्हें इस्लाम से बेदखल कर दिया गया है जिसमे फैसला लिया गया है कि वसीम रिज़वी की नमाज़-ए-जनाज़ा कोई नहीं पढ़ायेगा साथ ही उन्हें कही दफ्न होने नहीं दिया जायेगा। जब ये सम्मलेन चल ही रहा था कि वसीम रिज़वी ने अपना वीडियो बयान जारी करके बताया है कि वह अब एकदम अकेले हो गए है।

आज वसीम रिज़वी ने एक वीडियो मैसेज जारी कर कहा है कि कुरान से 26 आयतें निकालने की उनकी मांग के बाद उनके घर वाले, यहां तक कि उनके बीवी-बच्चे भी उन्हें छोड़ कर चले गए हैं लेकिन वह आखिरी दम तक इस मुद्दे पर लडेंगे और जब उन्हें लगेगा कि वो हार रहे हैं तो खुदकुशी कर लेंगे।

उन्होंने वीडियो जारी करते हुवे कहा है कि “हम अकेले एक तरफ हैं और पूरा इस्लामी वर्ल्ड एक तरफ है। हमारे रिश्तेदार, हमारे भाई यहां तक कि हमारे बीवी-बच्चे भी हमें छोड़ कर चले गए हैं, लेकिन मुझे किसी की ज़रूरत नहीं है।” वसीम ने आगे कहा, ” मेरे दोस्त भी क़ुरआन से आयतें हटाने के मुद्दे पर हमसे इत्तेफ़ाक़ नहीं रखते, लेकिन हमें यकीन है कि हमारे मरने पर वो हमें कंधा ज़रूर देंगे।”

वसीम ने आगे कहा, ” हम इस लड़ाई को आखिरी दम तक अकेले लडेंगे और अगर लगेगा कि हम हार रहे हैं तो उसी वक़्त खुदकुशी कर लेंगे।” वसीम रिज़वी ने इस्लाम धर्म के तीन खलीफाओ हज़रत अबू बक्र सिद्दीक, हज़रत उमर और हज़रत उस्मान-ए-गनी पर आरोप लगाया है कि उन्होंने क़ुरआन में हेरफेर कर 26 आयतें खुद जोड़ दी हैं, जो हिंसा और आतंकवाद सिखाती हैं। इन्हीं आयतों को दिखा कर दुनिया भर में मुस्लिम नौजवानों को आतंकवादी बनाया जाता है।”

इस तरह वसीम रिज़वी दुनिया में आतंकवाद के लिए सुन्नी मुसलमानों द्वारा माने जाने वाले खलीफाओं को ज़िम्मेदार ठहरा रहे हैं। शिया धर्म गुरुओं ने सम्मेलन में कहा कि इस तरह वो शिया -सुन्नी के बीच भी विवाद कराना चाहते हैं। वसीम रिज़वी का शिया वक़्फ़ बोर्ड के अध्यक्ष के तौर पे कार्यकाल खत्म हो गया है और उनके खिलाफ वक़्फ़ की जायदाद में घोटाला करने के आरोप में सीबीआई जांच भी हो रही है। कुछ लोगों का कहना है कि वसीम मुस्लिम विरोधी काम इसलिए भी करते हैं ताकि वह सीबीआई जांच से बच जाएं। गुस्साए लोगों ने सम्मेलन के बाद वसीम की तस्वीर पर जूते भी बरसाए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *