बिग ब्रेकिंग – जिस इनामिया बदमाश को न पकड़ पाई गोरखपुर पुलिस, वह वीरेंदर सिंह वाराणसी पुलिस से मुठभेड़ में घायल होकर हुआ गिरफ्तार

तारिक आज़मी

वाराणसी। वाराणसी के रामनगर थाना क्षेत्र में आज रामनगर पुलिस और एसटीऍफ़ की टीम को एक बड़ी कामयाबी अपराधियों के खिलाफ मिली जब गोरखपुर और देवरिया जनपद में खौफ का दूसरा नाम बन चूका इनामिया अपराधी वीरेंदर सिंह मुठभेड़ में घायल हो गया। बताया जाता है कि बलिया जनपद के रसडा थाना क्षेत्र के छिबही ग्राम का रहने वाला अपराधी वीरेंदर एक कुख्यात डकैत है और अपने गैंग के साथ ईंट भट्टो पर लूट की घटना को अंजाम देता है। गोरखपुर पुलिस के लिए सरदर्द बने इस 50 हज़ार के इनामिया अपराधी को आज वाराणसी पुलिस ने एक मुठभेड़ में गिरफ्तार कर लिया है।

गिरफ्तार इनामिया अपराधी वीरेंदर सिंह को मुठभेड़ में पैर में एक गोली लगे है। जिसके पुलिस प्रशासन द्वारा आनन फानन में मंडलीय चिकित्सालय शिव प्रसाद गुप्त अस्पताल लाया गया जहा से चिकित्सको ने प्राथमिक उपचार कर उसको ट्रामा सेंटर रिफर कर दिया है। घायल बदमाश पर गोरखपुर पुलिस ने 50 हज़ार का इनाम घोषित कर रखा था और वह लम्बे समय से फरार चल रहा था।

वीरेंदर सिंह के ईंट भट्टे के डकैती वाले गिरोह का सरगना छोटक है। छोटक को इसी वर्ष 5 फरवरी को गोरखपुर के गगहा थाना के सकरी ईंट-भट्ठे पर डकैती के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। छोटक 25 हज़ार का इनामिया बदमाश था और वह बलिया जनपद के सुखपुरा थाना क्षेत्र के केसरुआ का रहने वाला था। छोटक भी पुलिस मुठभेड़ में गिरफ्तार किया गया था। मगर वीरेंदर सिंह फरार था।

मुठभेड़ के सम्बन्ध में मिली जानकारी के अनुसार आज मंगलवार को मध्य रात्रि में घडी जब बुद्धवार होना बता रही थी तभी रात्रि लगभग 1:45 बजे के करीब रामनगर पुलिस और एसटीएफ की वाराणसी इकाई को सूचना मिली कि गोरखपुर का इनामिया बदमाश वीरेंद्र रामनगर के लंका मैदान की ओर शायद किसी घटना को अंजाम देने के लिए आ रहा है।  सूचना पर यकीन कर रामनगर पुलिस और एसटीएफ वाराणसी इकाई की टीम ने संयुक्त रूप से घेरेबंदी कर लिया और तभी उन्हें वीरेंदर आता हुआ दिखाई दिया। उसको रुकने का इशारा करने पर उसने पुलिस पर फायर झोक दिया। पुलिस के जवाबी कार्यवाही में में वीरेंद्र के दाहिने पैर में गोली लगी और वह घायल हो गया। पुलिस को आशंका है कि उसके साथ एक और बदमाश था जो अँधेरे का फायदा उठा कर भाग गया है। फिलहाल विस्तृत समाचार प्रतीक्षारत है। सहायक पुलिस आयुक्त कोतवाली प्रवीण कुमार सिंह ने बताया कि कि वीरेंद्र गोरखपुर और देवरिया जिले का वांछित बदमाश है। वीरेंद्र ने गोरखपुर, देवरिया, मऊ और बलिया के साथ ही अन्य जिलों में भी कई आपराधिक घटनाओं को अंजाम दिया है। उसके आपराधिक इतिहास का पता लगाया जा रहा है। फिलहाल चिकित्सको ने उसे ट्रामा सेंटर रिफर कर दिया है। जहा उसको इलाज हेतु एडमिट करवाया जा रहा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *