पश्चिम बंगाल चुनाव – नंदीग्राम में हुआ उलटफेर, सुबेंदु अधिकारी से आगे निकली ममता बनर्जी, भाजपा के स्टार नेता और केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो बड़ी हार के तरफ अग्रसर, पढ़े क्या दिया चुनाव आयोग ने अभी अभी निर्देश

अनुराग पाण्डेय/ मुकेश यादव

डेस्क। पश्चिम बंगाल में चुनावी घमासान अब साफ़ पिक्चर क्रियेट करना शुरू कर चूका है। भले भाजपा के प्रवक्ता आपके पसंदीदा चैनल्स पर आकर शाम होने तक का इंतज़ार और खुद की सरकार बनने का दावा कर रहे है। मगर अभी तक जो रुझान सामने आ रहे है उस अनुसार पश्चिम बंगाल में भाजपा के सारे दावे फुस्स होते दिखाई दे रहे है। ममता बनर्जी का जादू अभी भी बरक़रार रखा है और भाजपा को हराकर एक बार फिर से सत्ता में वापसी का संकेत दिया है। मामता की इस लड़ाई को राजनैतिक जानकारी वन वर्सेज़ आल के तौर पर देख रही है।

एक अकेले दुर्गा ही काफी है के तर्ज पर ममता ने भाजपा की पूरी फ़ौज का सामना किया है। एक तरफ भाजपा भले मन ही मन इन नतीजो पर खुश होने की सोच रही हो। मगर ममता ने भाजपा की पूरी ताकत को अपने एकल प्रयास से शिकस्त दिया है। भले ये माना जाए कि भाजपा ने बंगाल में लड़ाई बढ़िया लड़ी। मगर एक और भी हकीकत है कि दुसरे विपक्ष ने एक प्रकार से वाक ओवर देने से ममता ने अकेले ही जीत का सेहरा अपने तरफ कर लिया है।

इस दरमियान भाजपा ने अपने स्टार नेताओं यहाँ तक की सांसदों को भी चुनाव मैदान में उतार दिया। ममता को शिकस्त देने का भाजपा ने कोई भी मौका नही छोड़ा था। भाजपा ने केंद्रीय मंत्री और स्टार लीडर बाबुल सुप्रियो को टिकट देकर विधानसभा चुनाव में उतार दिया। मगर एक बड़ी खबर आपको बताते चले कि बाबुल सुप्रियो अपने निकटतम प्रत्याशी से छोटी हार नही बल्कि बड़ी हार के तरफ बढ़ रहे है। ताज़ा मिली जानकारी के अनुसार बाबुल सुप्रियो इस समय 25 हज़ार वोट से पीछे चल रहे है। ये बड़े हार के तरफ इशारा कर रहा है।

वही दूसरी तरफ सबसे इंट्रेस्टिंग सीट नंदीग्राम की है। नंदीग्राम में भाजपा ने ममता के राजनैतिक शिष्य कहे जाने वाले शुबेंदु अधिकारी को टिकट दिया था। नंदीग्राम वेस्ट बंगाल के सियासत का केंद्र माना जाता है और शुबेंदु अधिकारी का गढ़ माना जाता है। ममता बनर्जी ने इसी सीट से शुबेंदु अधिकारी को चुनौती दिया। शुबेंदु अधिकारी ने ये तक घोषणा कर दिया था कि मैं चुनाव हार गया तो सियासत छोड़ दूंगा। सुबह से ही शुबेंदु अधिकारी ममता से आगे चल रहे थे। यह लीड 9 हज़ार तक पहुच गई थी। मगर ममता ने इस लीड को खत्म करते हुवे अब बढ़त बना लिया है। ये खबर को  भाजपा के लिए एक धक्के के तौर पर भी देखा जा रहा है।

बहरहाल, मौजूदा हाल में पश्चिम बंगाल में भाजपा 81 सीट पर बढ़त बनाये हुवे है, जबकि ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस 207 सीट पर बढ़त बनाये हुवे है। इसी दरमियान चुनाव आयोग ने जीत का जश्न मानने पर एक बड़ा आदेश जारी करते हुवे कहा है कि जीत का जश्न मनाने वालो पर तुरंत ऍफ़आईआर दर्ज किया जाए। साथ ही ऐसा न करने पर एसएचओ को सस्पेंड करने का आदेश दिया है। वही विपक्ष इस आदेश पर हमलावर होते हुवे कहते हुवे सुना जा रहा है कि जब चुनाव प्रचार हो रहा था तब चुनाव आयोग सख्त क्यों नही हुआ ?

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *