महंत नरेंद्र गिरी मौत प्रकरण : सीबीआई ने शुरू की अपनी जांच, अब सोशल मीडिया पर सामने आया मौत के बाद का एक वीडियो, उठे कई ज्वलन सवाल  

तारिक़ खान / शाहीन बनारसी

महंत नरेंद्र गिरी मौत के प्रकरण में संतो के हीरो कहे जाने वाले आनंद गिरी, लेटे हनुमान मंदिर के महंत आद्या तिवारी, उनका बेटा संदीप तिवारी न्यायिक हिरासत में जेल में है। आद्या तिवारी और आनन्द गिरी ने अदालत में अपनी सुरक्षा को लेकर गुहार लगायी है, और जेल में अपनी जान को खतरा बताया है। अदालत ने जेल प्रशासन के नियमानुसार कार्यवाही के लिए निर्देशित किया। महंत नरेंद्र गिरी के सुरक्षा में लगे चारो गनर को निलंबित कर दिया गया, और उनके लिए विभागी कार्यवाही की संस्तुति कर दी गयी है।

ब्रह्म्नील महंत नरेन्द्र गिरी को दिली भू समाधि

इस दरमियान प्रकरण की सीबीआई जांच हेतु उठ रही आवाजों को सरकार ने अनदेखी नहीं किया, और सीबीआई जांच की संस्तुति कर दिया। प्रकरण में कल ही पांच सदस्य सीबीआई की जांच हेतु प्रयागराज पहुंची, और मामले की जांच शुरू कर दी। इन सभी के बीच कल सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। जिस वीडियो में महंत का शव ज़मीन पर लेटी हुई स्थिति में है, और जिस पंखे से लटक कर आत्महत्या करने की बात सामने आ रही है। वह पंखा चल रहा है।

ये वीडियो उसी कमरे का बाताया जा रहा है, जिस कमरे में अखाड़ा परिषद् अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी की मौत हुई थी। वीडियो को देख कर ऐसा प्रतीत होता है कि 1 मिनट 45 सेकंड का ये वीडियो मौके पर किसी पुलिसकर्मी द्वारा बनाया गया होगा। इस वीडियो में बलवीर गिरी भी नज़र आ रहे है, और पुलिस लोगो से पूछताछ कर रही है। वीडियो में जिस पंखे से लटक कर महंत नरेंद्र गिरी के मौत की बात सामने आ रही है। वह पंखा चलता हुआ नज़र आ रहा है। पीले रंग की नायलान की एक रस्सी का कुछ हिस्सा महंत के शव के पास, कुछ हिस्सा टेबल पर और एक छोटा टुकड़ा पंखे की खुटी से लटकता दिखाई दे रहा है, और पंखा अपने पूरी रफ़्तार से चल रहा है। वीडियो में एक पुलिस अधिकारी चल रहे पंखे पर सवाल उठाते है, जिस पर वहां खड़े सुमीत ने बताया कि पंखा उसने ही चलाया है।

इस पुरे मामले में जो न समझ आने वाली एक बात है, वह ये है कि किसी भी घटना का सुसाइड नोट पुलिस किसी को प्रदान नहीं करती है, मगर घटना के बाद इस प्रकरण में सुसाइड नोट भी सामने आ गया। यह जो वीडियो वायरल हो रहा है, वह भी किसी पुलिसकर्मी द्वारा बनाया हुआ वीडियो प्रतीत हो रहा है, यह भी लीक हो रहा है। अब सबसे बड़ा सवाल ये उठ रहा है कि आखिर कौन है जो एक के बाद एक सबूतों को लीक कर रहा है ? आखिर वह क्या चाहता है? ऐसे हजारो सवाल इस संदिग्ध मौत के साथ जुड़े हुए है। मगर जवाब किसी के पास नहीं है।

अब आनन्द गिरी के ही अपने जान के खतरे के बात को गौर करे तो सीजेएम कोर्ट में दाखिल अर्जी को ही ध्यान दे तो उसमे उन्होंने कहा है कि उनके ऊपर अदालत परिषद् में हमला हुआ, और न्यायलय आने-जाने के बीच में, तथा जेल में हमला हो सकता है। अब सवाल ये है कि यदि आरोप सही है तो आनन्द गिरी पर कौन हमला करेगा या कर रहा है। कई सवाल ऐसे भी है, जो भले से देखने में अजीब लगे मगर सवाल तो बड़े है। सुशांत सिंह राजपूत केस और आरुषी मर्डर केस के अनसुलझे सवालो के बीच इन सवालों का जवाब क्या सीबीआई तलाश पाएगी? यह आने वाला वक़्त ही बताएगा। प्रकरण में पल-पल बदलते हालात पर हमारी रिपोर्टिंग जारी रहेगी।



Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *