बलात्कार आरोपी अमित कुमार पहले था इस्पेक्टर, हेड कांस्टेबल पत्नी की शिकायत सही साबित होने पर मिली डिमोशन और हो गया सब इस्पेक्टर, अब हुआ सस्पेंड

Rape accused Amit Kumar was Inspector, got demotion after the complaint of head constable wife was proved and became sub inspector, now suspended

ए0 जावेद

वाराणसी। जौनपुर जनपद में तैनात बलात्कार आरोप अमित कुमार (Amit Kumar) को पहले इस्पेक्टर (Inspector) पद से डिमोशन करके सब इस्पेक्टर (Sub Inspector) बना दिया गया था। अब उसको उसके पद से बर्खास्त (Suspend) कर दिया गया है। बताते चले कि वाराणसी क्राइम ब्रांच (Crime Branch) में इंस्पेक्टर के पद पर तैनात रहते हुए अमित के खिलाफ एक युवती ने महिला थाने में दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराया था।

दरअसल अमित कुमार (Amit Kumar) की मुश्किलों का दौर वर्ष 2020 से ही शुरू हो गया था। जब उसके खिलाफ एक युवती ने बलात्कार का मामला दर्ज करवाया था। इस दरमियान अमित कुमार वाराणसी क्राइम ब्रांच (Crime Branch) में बतौर इस्पेक्टर पद पर तैनात है। अमित कुमार की पत्नी मीनाक्षी जो पुलिस विभाग में हेड कांस्टेबल (Head Constable) है और उसकी प्रताड़ना से आजिज आकर उससे अलग रहती है, ने भी उसके खिलाफ जालसाजी की शिकायत किया था। मीनाक्षी भी मेरठ की रहने वाली है।

मीनाक्षी ने अपनी शिकायत में डीजीपी (DGP) को बताया था कि अमित जालसाजी करके सब इंस्पेक्टर से इंस्पेक्टर पद पर प्रमोट हुआ है। मीनाक्षी का आरोप था कि अमित कुमार ने अपने घोषणा पत्र में खुद के खिलाफ दर्ज आपराधिक मुकदमों और जांचों को छुपाया है। मीनाक्षी की शिकायत की जांच कराई गई और आरोप सही निकले। जिसके बाद इंस्पेक्टर पद से अमित का डिमोशन कर उसे वापस सब इंस्पेक्टर बना दिया था। अब विभागीय जांच रिपोर्ट के आधार पर वाराणसी कमिश्नरेट के अपर पुलिस आयुक्त (मुख्यालय एवं अपराध) सुभाष चंद्र दुबे ने उसे बर्खास्त कर दिया है।

गौरतलब हो कि मेरठ जनपद के पल्लवपुरम निवासी अमित कुमार पर मथुरा के एक क्षेत्र की रहने वाली एक युवती ने आठ जनवरी 2020 को वाराणसी के महिला थाने में शादी का झांसा देकर दुष्कर्म करने सहित अन्य आरोपों में मुकदमा दर्ज कराया था। इस दरमियान अमित कुमार वाराणसी क्राइम ब्रांच में पोस्टेड था। पीड़िता ने तत्कालीन एसएसपी अमित पाठक से शिकायत की थी कि अमित उस पर समझौता करने का दबाव बनाता है और बात न मानने पर हत्या की धमकी देता है। इसे लेकर तत्कालीन एसएसपी अमित पाठक के आदेश पर अमित कुमार के खिलाफ कैंट थाने में मुकदमा दर्ज किया गया था।

इससे नाराज होकर अमित कुमार ने एसएसपी कैंप कार्यालय पहुंचकर खुद पर पेट्रोल डाल कर आत्मदाह की धमकी दी थी। इसके बाद तत्कालीन आईजी रेंज के आदेश से अमित का तबादला जौनपुर कर दिया गया था। साथ ही इस पूरे प्रकरण की विभागीय जांच कराई गई थी। वाराणसी के पुलिस अफसरों द्वारा की गई जांच में अमित कुमार दोषी पाया गया और उसे बर्खास्त करने का निर्णय लिया गया।



Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *