वाराणसी : जाने आखिर क्यों बिन बरसात जलमग्न है प्रधानमन्त्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के पाण्डेय हवेली- मदनपुरा की सड़क, लाखो लीटर पेयजल हुआ बर्बाद, ज़िम्मेदार है मौन

ए0 जावेद

वाराणसी। प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में नगर निगम और जल संस्थान की लापरवाही अक्सर देखने और सुनने में मिल रही है। ताज़ा मामला प्रधानमन्त्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के पाण्डेय हवेली-मदनपुरा मुख्य मार्ग का सामने है, बिन बरसात यह सड़क जलमग्न है। क्षेत्रीय नागरिको और व्यापारियों का कहना है कि यह समस्या पिछले दो सप्ताह से बनी हुई है। मगर कोई भी ज़िम्मेदार इस पर अपनी नज़र नही उठा कर देखता है।

वाराणसी के पाण्डेय हवेली-मदनपुरा मुख्या मार्ग पर पेयजल आपूर्ति की 24 इंच मुख्या पाईप लाइन लीकेज हो गई। स्थानीय निवासियों ने हमसे बताया कि 12 नवम्बर से लीक की इस पेयजल की मुख्य पाइप लाइन के निर्माण हेतु न जाने ज़िम्मेदार किस आदेश की प्रतीक्षा कर रहे है जो आज तक नही आया है। इसके कारण सड़क पर पानी ऐसे जमा हुआ है जैसे बरसात हो रही हो। इस लीकेज में लाखो लीटर पीने का पानी बर्बाद हो चूका है। मगर जिम्मेदारो की नींद ही नही खुल रही है।

मदनपुरा निवासी अब्दुल्लाह अंसारी ने हमसे बात करते हुवे कहा कि सड़क पर चलना इस समस्या के कारण दुश्वार हो गया है। आने जाने वाले वाहनो के कारण इस पानी की बौछारे उठा करती है। जिससे रोज़ ही कोई न कोई आपसी विवाद देखने को मिलता है। सड़क पर पैदल चलना दुश्वार हो गया है। मगर आज दो सप्ताह गुज़र जाने के बाद भी कोई ज़िम्मेदार इस पर अपनी नज़र उठाने को तैयार नही है। आखिर समझ नही आता है कि कैसे हमारे शहर को लोग स्मार्ट सिटी बना रहे है।

हमसे बात करते हुवे मदनपुरा की पार्षद इशरत परवीन ने कहा कि ज़िम्मेदार केवल दिलासा देने का काम कर रहे है। मैंने जनता की परेशानी के लिए खुद इस सम्बन्ध में कई बार शिकायत किया था। जनता परेशान है मगर उसकी परेशानी को समझने वाला कोई नही है। लाखो लीटर पानी अब तक बर्बाद हो चूका है। इसकी ज़िम्मेदारी किसकी होगी ये भी फैसला होना चाहिए। सुबह और शाम को पानी सड़क पर लग जाता है। कोई इसकी सुध नही ले रहा है। जब इस सम्बन्ध में बात किया गया तो कहते है कि लीकेज ठीक करने के लिए रोड कटिंग की अनुमति मांगी गई है। अब समझ नही आता है कि रोड कटिंग की अनुमति कितने दिनों में आएगी और कब इस समस्या का निराकरण होगा।

इस सम्बन्ध में जब हमने नगर आयुक्त से बात करने के लिए उनके सीयुजी नम्बर पर फोन किया तो पीआरओ के द्वारा फोन उठा कर बताया गया कि साहब अभी व्यस्त है। जल संस्थान के महाप्रबंधक का फोन ही नही उठा। नियम बताया जा रहा है कि जब तक रोड कटिंग की अनुमति नही आएगी तब तक इस समस्या का निस्तारण नही हो पायेगा। अब देखना होगा कि आखिर कब रोड कटिंग की अनुमति आती है। समस्या का निस्तारण करके आखिर कब आम जन को राहत मिलेगी।



Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *