पॉवर कैन डू एनिथिंग: चेतगंज क्षेत्र में एसडीओ और पिंटू जेई ने पकड़ा बड़ी बिजली चोरी, अचानक आया सत्ता पक्ष के बड़े नेता का छोटा सा फोन तो पिंटू जेई बोले “आल इज वेल, आल इज वेल”

तारिक़ आज़मी/ए0 जावेद

वाराणसी: वाराणसी बिजली विभाग को कहे या फिर सत्ता पक्ष के नेताओं को। साबित तो एक बात हुई ज़रूर है कि “पॉवर कैन डू एनिथिंग।” सत्ता पक्ष के एक नेता का फोन और एक हिस्ट्रीशीटर द्वारा पिंटू जेई साहब से कंधे पर हाथ रख कर मैनेज करना ऐसा हुआ कि अब पिंटू जेई इस बड़ी बिजली चोरी के लिए कहते है “आल इज वेल”। इसको कहते है “पॉवर कैन डू एनिथिंग।”

वाराणसी के चेतगंज इलाके में बिजली विभाग के स्थानीय जेई पिंटू सिंह संग एसडीओ ने खुद बिजली चेकिंग किया। भवन संख्या CK 65/163, चेतगंज और आसपास के भवनों में बिजली चोरी रंगे हाथो पकड़ी गई। (भवन स्वामी ने खुद हमसे फोन पर बातचीत में इस बात को बताया है कि उनके घर और आसपास के घर में बिजली चोरी पकड़ी गई है, रेकार्डिंग सुरक्षित है) तस्वीरे और भवन स्वामी की टेलीफोन पर की गई हमसे बातचीत इस बात की तस्दीक करती है कि जेई साहब और एसडीओ साहब ने उक्त भवन और उसके आसपास के चार भवनों में बिजली चोरी रंगे हाथो पकड़ा। वीडियो बना। सीढी लगा कर चोरी के अस्त्र शस्त्र काटे गए।

मगर अचानक क्षेत्र का खुद को आका कहने वाला एक युवक आता है। थाना चौकी पर इन सज्जन का नाम भी बड़े सुर्खियों में अक्सर आता रहता है। देवदूत के तरह अवतरित हुवे सत्ता के संरक्षण में रहने वाले इस युवक ने जेई साहब के कंधे पर हाथ रखा। मौके पर मौजूद मेरे एक सहयोगी की माने तो जेबों का हस्तान्ताराफं हुआ जिसके लिए पहले पिंटू जेई न नुकुर कर रहे थे। फिर जेब से युवक ने फोन निकला। बताया जाता है कि सत्ता पक्ष के एक नेता को फोन मिला कर जेई साहब के कान में फोन लगाया जाता है।

फिर क्या था, फोनानिर्देशन मिलने के बाद जेबहस्तान्तरण क्रिया पूर्ण किया गया। जिसके बाद अचानक तेज़ तर्रार खुद को साबित करने वाले पिंटू जेई साहब की शेर जैसी दहाड़ कम हो गई और फिर अगल बगल देखा और मौके से आगे बढ़ गए। सच बताऊ एक फिल्म देखा था मैंने, नाम था “बिच्छु”। उस फिल्म में विलेन बने कलाकार का नाम इस फिल्म में देव राज खत्री था। एक डायलाग इस फिल्म में बार बार देवराज दोहराता है। डायलाग था “पॉवर कैन डू एनिथिंग।” सच में सत्ता के संरक्षण में इस खेल को देख कर तो अब ये बात साबित हो गई कि वाकई सत्ता का साथ हो तो अवैध काम भी सत्ता पक्ष के नेता वैध बना सकते है।

हमको पता चला कि मामला ठन्डे बस्ते में जा रहा है, हम भी भौचक्का हो गए कि भाई, कैसे ये संभव है कि शेर जैसी दहाड़ रखने वाले जेई पिंटू सिंह को फोन पर सत्ता पक्ष के किसी नेता से निर्देश मिलने के बाद “एस सर, एस सर” करने लग सकते है। खुद को न्यायप्रिय और नियमानुसार कार्यवाही बिना दबाव के करने का दावा करने वाले जेई साहब आखिर कैसे ऐसा हो सकता है कि इस मामले को ठन्डे बस्ते में डाल दे। हमने बड़े ही गर्व के साथ जेई साहब को फोन किया कि क्या ऐसे बिजली चोरी पकड़ी गई है? जेई साहब के जवाब से हम खुदही चौक गए जब उन्होंने कहा कि “नही, कही बिजली चोरी तो नही पकड़ी गई है ऐसी कोई बात नही है।”

अब हम “बिच्छु” फिल्म में देवराज के डायलाग को हकीकत मान रहे है कि “पॉवर कैन डू एनिथिंग।” कुछ भी अगर सत्ता की शक्ति आसपास हो तो आप कर सकते है। बिजली चोरी तो मामूली बात है। खुद जिस भवन का ज़िक्र मै कर रहा हु उसके स्वामी ने हमसे फोन पर बात में कहा कि हमारे घर में बिजली चोरी पकड़ी गई। आसपास के 4-5 भवन में बिजली चोरी पकड़ी गई है। मैनेज हो रहा है। ये मैनेज शब्द वाकई बहुते बड़ा शब्द है। अब तो हम जय मैनेज ही कहेगे। बस नेता जी से सिर्फ इतना ही कहना है कि अगर इतनी बिजली चोरी मैनेजेबल है तो प्लीज़ नेता जी शहर के हर एक नागरिक के लिए यह सुविधा मुहैया करवा दे ताकि सभी इस सुविधा का लाभ ले सके और आपके पक्ष में आने वाले समय में मतदान करे।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.