वाराणसी: मरकज़ यौमुन्नबी कमेटी की हुई बैठक, सभी अंजुमन और लगने वाले स्टेज के जिम्मेदारो ने किया शिरकत दिया सलाह, बोले हाजी महमूद सभी सलाह का रखा जायेगा पूरा ख्याल

शाहीन बनारसी

वाराणसी: वाराणसी के कदीमी और मशहूर मरकज़ माने जाने वाले मरकज़ यौमुन्नबी कमेटी की बैठक कल रात मुस्लिम मुसाफिर खाने में मरकज़ के सद्र और पूर्व दर्जा प्राप्त राज्य मंत्री शकील अहमद “बबलू” की सदारत में आयोजित हुई। इस बैठक का आयोजन मरकज़ के सेक्रेटरी हाजी महमूद, सदस्यों अबरार, शकील सिद्दीकी, इमरान खान, फरीद आलम, फुरकान खान, बाबु नकाब, अजहर आलम “अज्जू”,अबुल खैर “मिस्टर” आदि के पहल पर हुआ था। बैठक में शहर की सभी अंजुमन के प्रतिनिधियों सहित इलाके में लगने वाले स्टेज के प्रतिनिधि उपस्थित थे। बैठक का सञ्चालन रियाज़ अहमद नूर ने किया।

सञ्चालन कर रहे मशहूर लेखक रियाज़ अहमद नूर ने बैठक का उद्देश्य बताते हुवे कहा कि बैठक जुलूस-ए-मुहम्मदी के सफल आयोजन, मरकज़ के होने वाले प्रोग्राम की तफसील बयान करने और 11 रबीउल अव्वल को होने वाले इलाके के सभी प्रोग्राम में सलाह मशविरे के लिए बुलाई गई है। मरकज़ की इस बैठक में शकील अहमद बबलू और हाजी महमूद ने सभी सलाह और पुरानी आपत्तियों को नोट किया और हाजी महमूद ने यकीन दिलाते हुवे कहा कि अगर बीते हुवे वक्त में कोई गलती या खामी रही है तो इंशा अल्लाह इस बार उनको दूर कर दिया जायेगा और सभी सलाह को ख्याल में रखा जायेगा और उन पर अमल होगा।

बैठक को संबोधित करते हुवे युवा समाजसेवी इमरान खान ने कहा कि मरकज़ के इस प्रोग्राम की कामयाबी आप सबकी कामयाबी है। मरकज़ आप सबका है। आप अपनी सलाह दे और साथ ही रबीउल अव्वल के इस जुलूस-ए-मुहम्मदी में शिरकत करे। बेशक हमारे बुजुर्गो ने मरकज़ के लिए कुर्बानियां दिया है। उन कुर्बानियों को ख्याल करे और उनको ज़ाया न होने दे। मरकज़ की तवारीख आलिशान है। उस तवारीख को समझे।

इस मौके पर वरिष्ठ पत्रकार तारिक़ आज़मी ने मरकज़ की तवारीख पर तवज्जो दिलवाते हुवे बताया कि मरकज़ सिर्फ इसी शहर का नही बल्कि हर कदीमी शहर के मरकज़ ने जंग-ए-आज़ादी में अपनी उपस्थिति दर्ज करवाया है। 1947 में मुल्क के आज़ाद होने पर ज़्यादातर मरकज़ ने नियमानुसार रजिस्ट्रेशन करवा लिया। इस मरकज़-यौमुन्नबी कमेटी का भी रजिस्ट्रेशन वर्ष 1948 में हुआ और इसका 75 साल पूरा होने वाला है। मरकज़ ने लोकतंत्र की बहाली के लिए भी अपना बलिदान दिया है। रबी-उल-अव्वल के इस प्रोग्राम को आप सभी अमन-ओ-आमान से मनाये।

इस बैठक में शहर के सभी क्षेत्रो की अंजुमनो के प्रतिनिधि, तमाम स्टेज के प्रतिनिधि उपस्थित थे। मौके पर सभी ने हर एक मौजु पर आपस में सलाह मशविरा किया और उस सलाह में बेहतर जो थी उसकी सद्र शकील अहमद बबलू और सेक्रेट्री हाजी महमूद ने नोट किया। रियाज़ अहमद नूर ने तमाम आये हुवे मेहमानों का इस्तकबाल किया। कमेटी के सदस्यों ने अपने खर्च पर सभी आये हुवे लोगो के लिए रात्रि भोज का भी आयोजन किया था। सभी लोगो ने रात्रि भोज का आनंद लिया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.