5 राज्यों की 6 विधानसभा सीट पर भाजपा के खाते में महज़ 2 सीट पर मिली जीत, 4 पर मिली करारी हार

शाहीन बनारसी/ शफी उस्मानी

डेस्क: आज दो राज्यों में घोषित हुवे विधानसभा चुनावो के साथ 5 राज्यों के 6 विधानसभा सीट पर भी चुनावी नतीजे आज आ गए। जहा गुजरात में बड़ी सफलता के साथ भाजपा ने दुबारा सरकार बना लिया है तो वही हिमांचल में भाजपा को करारी हार का सामना करते हुवे सत्ता गवानी पड़ी है। अगर गौर से देखा जाये तो दो दिनों में आये तीन प्रदेशो के नतीजो में दो प्रदेश में भाजपा ने अपनी सत्ता गवाया है। जिसमे दिल्ली एमसीडी इलेक्शन में 15 साल से चला आ रहा भाजपा का वर्चस्व खत्म हुआ है। तो वही हिमांचल में भाजपा ने अपनी सरकार गवा दिया है और वहा कांग्रेस ने सरकार बनाने हेतु बहुमत से अधिक सीट हासिल कर लिया है।

आज उपचुनावों के नतीजो पर नज़र डाले तो एक लोकसभा सीट उत्तर प्रदेश की मैनपुरी में भाजपा हर नुक्कड़ पर हारी और सपा ने एकतरफा जीत हासिल किया। यहाँ तक कि मैनपुरी में भाजपा के प्रत्याशी अपने बूथ पर भी सपा से 187 वोट कम पा सके है। दूसरी तरफ खौतौली विधानसभा सीट पर भाजपा की राजकुमारी को करारी हार का सामना करना पड़ा है। यहाँ आरएलडी (सपा के गठबंधन) से उतरे प्रत्याशी मदन भैया ने 22 हज़ार से अधिक मतों से भाजपा को करारी शिकस्त दिया।

दूसरी विधानसभा सीट रामपुर में तमाम आरोपों और विवादों तथा बहुत ही कम मतदान प्रतिशत होने के बाद भाजपा ने आज़म खान के इस किले को आखिर ध्वस्त कर दिया और 34 हज़ार से अधिक मतों से भाजपा प्रत्याशी आकाश सक्सेना को यहाँ जीत सपा के आसिम रज़ा पर हासिल हुई। इस जीत पर भाजपा जहा अपनी ख़ुशी का इज़हार कर रही है वही सपा ने इसको लोकतंत्र की हत्या करार दिया है।

बिहार के कुरहानी सीट पर भाजपा को बड़ी मुश्किल के साथ सफलता हाथ लगी है। इस सफलता में ओवैसी की पार्टी ने भी अहम् योगदान दिया। भाजपा महज़ 3600 मतों से यहाँ जदयू प्रत्याशी मंगल सिंह को हरा पाई है। कांटे की टक्कर में चुनावी नतीजे भले भाजपा के केदार प्रसाद के खाते में गए है मगर जदयू का संघर्ष भी यहाँ तारीफ बटोर रहा है। वही एक बार फिर ओवैसी यहाँ आलोचनाओं के घेरे में है। छत्तीसगढ़ के भानु प्रतापपुर में कांग्रेस ने एक तरफ़ा जीत हासिल किया है। यहाँ कांग्रेस के प्रत्याशी मनोज ने भाजपा के ब्रह्मानन्द को 20 हज़ार से अधिक मतों से हराया है।,

ओड़िसा के पदमपुर में भी बीजेडी के हाथो भाजपा को हार का सामना करना पड़ा है। इस सीट पर बीजेडी की बरखा सिंह ने भाजपा के प्रदीप पुरोहित को 40 हज़ार से अधिक मतो से पटखनी दिया है। वही राजस्थान के सदर शहर विधानसभा सीट पर कांग्रेस ने परचम बुलंद किया है। यहाँ कांग्रेस के प्रत्याशी अनिल कुमार ने भाजपा के प्रत्याशी अशोक कुमार को 27 हज़ार से अधिक मतो से मात दिया है। इस प्रकार 6 विधानसभा सीट पर भाजपा के खाते में महज़ 2 सीट एक बिहार की कुरहानी और दूसरी उत्तर प्रदेश की रामपुर आई है। बकिया सभी 4 विधानसभा सीट और एक लोकसभा सीट पर भाजपा को हार का सामना करना पड़ा है। जिसमे मैनपुरी लोकसभा चुनाव में उसको भारी हार का सामना करना पड़ा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *