परिवार को एक सूत्र में बांधने का माध्यम होती हे बेटियां,सम्पर्क संस्था का अनुकरणीय प्रयास

अब्दुल रज्जाक थोई 
जयपुर _संपर्क संस्था एक सामाजिक संस्थान ही नहीं अपितु एक अभियान है ।भले ही नाम स्वयं सेवी का हो ।परन्तु पहचान बेटियों को तराशकर उनको उनकी मंजिल तक पहुचाने की है।शिक्षा ,खेलकूद ,साँस्कृतिक सभी क्षेत्रो में रजिस्टर्ड इस संस्था की बेटियो ने अपना परचम फहराया है ।15 वर्ष पहले इस संस्था ने जाती ,घर्म ,सहित सभी भेदभाव भुलाकर जरूरतमंद बेटियों को अपनाना शुरू किया था ।जो अब कारवाँ बन गया ।काबिलियत भी बेटियों को यहाँ तक ले गई की पारिवारिक स्थिति अनुकूल नहीं होने के उपरांत भी कोई एमबीबीएस तो कोई सीए तो कोई किसी और क्षेत्र में पंहुचकर अपनी मातृ संस्था सम्पर्क संस्थान को नमन करती है ।

ऑइकन बनी बेटिया अब अनेक लोगो का आईडल भी बन रही है ।जहा सराकारो का बेटी बचाओं ,बेटी पढ़ाओ ,सेव बेटी सेफ बेटी अभियान कागजो में लाखो रूपये फूंककर अपने कर्तव्यों की रस्म अदायगी करते है ।वाही संस्थान ऐसी संस्था है जो प्रचार प्रसार में कम और काम में अधिक विश्वास रखती है ।जन्म से लेकर शादी तक बेटियों का का बखूबी निभाकर संस्था के सदस्य इसे भगवान की पूजा मानते है ।

पांच दोस्तों ने मिलकर बनाई ये संस्था
सेवा के क्षेत्र में बिना किसी नाम की परवाह किये पांच दोस्तों ने इस संस्था का गठन किया ।जिनमे अध्यक्ष अनिल लढ़ा ,सुनील अग्रवाल ,अनिल पलोड ,अजय पूनिया ,किशन बंग के शुरुआत करने के बाद आज प्रदेश भर में 23 जगह यह रजिस्टर्ड संस्था काम कर रही है  तथा 400 से भी ज्यादा सदस्य अपने खर्चे पर जगह जगह बेटियों को उनकी जरूरतों के हिसाब से मदद कर रहे है ।संस्था की महिला विंग भी पुरुषो के साथ कंधे से कन्धा मिलाकर बेटियों के साथ सहयोग कर रही है । 
कोई डॉक्टर तो कोई पायलट 
संस्था की निशा जहां इस वर्ष एम् बी बी एस पूरी कर डॉक्टर बनकर कोटा शहर में अपनी सेवाएं दे रही है ।वही अमीषा चौधरी फरीदाबाद जाकर पायलट की पढाई का अंतिम वर्ष पूरा कर रही है ।रजनी लखोटिया इसी वर्ष सीए की पढाई पूरी कर चुकी है ।पूजा सिंधानी अजमेर में आरएएस की पढाई पूरी करके वैवाहिक बंधन में बंध चुकी है ।
स्टेट कार्डिनेटर रेनू शर्मा का  कहना है किबेटियां धरोहर होती है ।परिवार को एक सूत्र में पिरोने का माध्यम होती है ।हमें उन्हें सहेज कर रखना चाहिए ।हमारी संस्था इसके लिए प्रयत्नशील है ।हमारा प्रयास होता है ।की जरूरतमंद बेटियों को मार्ग दर्शन मिले । हम पढाई से लेकर नोकरी ,शादी तक साथ देते है ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *