जब अपनो ने कराई सरकार की किरकिरी

(जावेद अंसारी)
100 दिन की योगी सरकार को उनके अपनों ने ही काफी परेशान किया, इनमें एक महिला मंत्री के साथ ही बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता के नाम उभरे, जिनको लेकर सरकार की काफी किरकिरी हुई।उधर लखनऊ में योगी सरकार में महिला कल्याण राज्यमंत्री स्वाति सिंह एक बीयर बार का उद्घाटन करने को लेकर विवादों में घिर गईं, मामले में खुद सीएम योगी ने मंत्री से जवाब तलब किया।अब जब खबरों के शिकारी किसी राज्यमंत्री का शिकार करेगें तो जाहिर है सूबे के मुखिया की भृकुटियाँ तनेगीं ही।

सत्ता के अंदरखानें में योगी नें स्वाति से कैसे अपनी नाराजगी जतायी यह अंदर वाले ही जाने लेकिन मीडिया में अपनी छीछालेदर देखकर स्वाति सिंह नें मन बना लिया था कि मौका मिलते ही वो कुछ ऐसा जरूर करेगीं जिससे बीयर की महक उनके दामन से गायब हो जाएगी, और मुख्यमंत्री जी भी उनसे खुश हो जाएं। हमें पक्का यकीन था कि स्वाति सिंह को योगी जी की नाराजगी बर्दाशत नही हो पा रही होगी सो उन्होने जल्दी ही एक अच्छा काम करके उन्हे खुश करने का आइडिया खोज निकाला, अपनें सुपर-डुपर आइडिया को अंजाम के लिए निकाल ही डाला।जी हॉ, जिस तुरुप के पत्ते की बात हम कर रहे है वो दरअसल सौ का पत्ता था, यानि सौ की नोट। स्वाति सिंह नें भंडारे के बाद लोगो को प्रसाद भी वितरित किया। प्रसाद में लोगो को पूरी-सब्जी दी गयी। लेकिन भंडारे में तब लोगो की भीड़ बढ़ गयी जब उनको पता चला की प्रसाद के साथ 100-100 रूपए भी मिल रहे है।

बीजेपी के वरिष्ठ नेता और गोरखपुर से कई बार के विधायक राधा मोहन दास अग्रवाल द्वारा एक महिला आईपीएस चारू निगम को फटकारने के वीडियो ने भी सरकार की खूब किरकिरी कराई। मामले की शिकायत सीएम योगी तक से हुई, बाद में किसी तरह मामला शांत कराया जा सका।इस प्रकरण के बाद चारू निगम फेसबुक पर एक पोस्ट के जरिए भाजपा नेता मोहन दास अग्रवाल को आड़े हाथ ले ही लिया था उन्होंने लिखा कि था कि मेरे आंसुओं को मेरी कमज़ोरी न समझना, कठोरता से नहीं कोमलता से अश्क झलक गये।महिला अधिकारी हूँ तुम्हारा गुरूर न छिप पायेगा, सच्चाई में है ज़ोर इतना कि अपना रंग दिखायेगा। इसके साथ ही उन्होंने उन सभी लोगों से कहा कि मेरी ट्रेनिंग मुझे कमजोर होना नहीं सिखाती, उन्होंने लिखा कि जब वरिष्ठ अधिकारी ने उनका समर्थन किया तो वह भावुक हो उठी थीं, उन्होंने लिखा कि मीडिया ने इस घटना पर स्टैंड लिया क्योंकि उन्होंने दोनों ही घटनाएं देखी थीं और ये गोरखपुर में मीडिया की सकारात्मकता दिखाता है, मैं उन लोगों का धन्यवाद करती हूं कि जिन्होंने सच दिखाया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.