कार्य ग्रहण करने के नाम पर रिश्वत मांगने वाले बाबू पर गिरी गाज, डीआईओएस कार्यालय मे तैनात हैं बाबू

अंजनी राय 

बलिया। भाजपा सरकार बनते ही भ्रष्टाचार में लिप्त कर्मियों पर कार्रवाई तय मानी जा रही थी, जो अब दिखने लगी है। इसका पहला शिकार जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय में तैनात वरिष्ठ सहायक पवन कुमार श्रीवास्तव हुए है। घुस लेने के आरोप में जिलाधिकारी सुरेंद्र विक्रम ने न सिर्फ इन्हें निलम्बित करने, बल्कि भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत कार्रवाई करने का निर्देश दिया। मामले की गंभीरता को देखते हुए डीआईओएस अमरनाथ राय ने संस्तुति जेडी के यहां भेज दी है।

मामला यह है कि माध्यमिक शिक्षा चयन बोर्ड से चयनित होकर दो अध्यापक बलिया आए थे। यहां कार्यभार ग्रहण करने के नाम पर एक अध्यापक से 1. 20 लाख व दूसरे से 80 हजार की मांग कार्यालय के वरिष्ठ सहायक पवन कुमार द्वारा की जाती रही। बेवजह दोनों अध्यापकों को परेशान किया जाता रहा। इसकी शिकायत जब डीएम के पास पहुंची तो उन्होंने गोपनीय तरीके से इसकी जांच कराई। फिर डीआईओएस के स्तर से जांच कराई तो शिकायत सही मिली। डीएम ने तत्काल डीआईओएस को आदेश दिया कि वरिष्ठ सहायक पवन कुमार को सस्पेंड करने के साथ ही कठोर कार्रवाई की जाए। इसके अलावा भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के अंतर्गत भी कार्रवाई प्रस्तावित किया जाए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.