जनता को सुरक्षित रखने वाले खुद सुरक्षित नहीं है

हरिशंकर सोनी.

सुल्तानपुर. स्थानीय थाने में 114 गांव की सुरक्षा व्यवस्था की जिम्मेदारी वाहन करने वाले पुलिसकर्मी जर्जर भवनो में रहने को मजबूर हैं इस संबंध में नगर निवासी पूर्व निर्देशक विद्युत विभाग जवाहर लाल ने   प्रदेश के डीजीपी सुलखान सिंह के आवास समस्या पर ध्यान देने की मांग किया है अंग्रेजो के समय से निर्मित थाना दोस्त पुर में पुलिस आवास पूरी तरह से जर्जर हो चुका है

जबकि वर्तमान पुलिस बल की संख्या को देखते हुए आवास की संख्या कम है वर्तमान समय में 50 पुलिसकर्मियों के अलावा शव नंबर के 10 पुलिसकर्मी एवं 6 महिला पुलिसकर्मियों को यहां निवास करना पढ़ रहा है अवास कमी के कारण महिला पुलिसकर्मियों को बाहर किराए पर कमरा लेकर रहना पड़ा रहा है जो की सुरक्षा की दृष्टि से काफी जोखिम भरा है सभी आवास के प्लास्टर टूटकर कमरे में गिर रहे हैं जबकि बरसात का मौसम होने के कारण सभी कमरो मे छतो से पानी टपकता रहता है जिसमें यात्री निवास करना खतरे की घंटी का सूचक है सन 2012 में थाने में पुराने कार्यालय का बरामदा गिरने से दो  फरियादियों की मौत हो चुकी है पुलिस कर्मियों से इस बात की बराबर चर्चा होती है कि नया कार्यालय तो बन गया है लेकिन नया आवास आज तक नहीं बना जब की बरसात होने पर छतों से पानी टपकता रहता है ऐसी स्थिति में हम लोगों को रात भर जागना पड़ता है जिले के नवागंतुक कप्तान अमित वर्मा ने पुलिस संसाधन बढ़ाने की बात कही क्या पुलिसकर्मियों के आवासो का   जीर्णोद्धार होने के साथ संख्या में वृद्धि होगी

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.