साहेब ऐसे कैसे सब पढेगे, सब बढ़ेगे.

फारुख हुसैन 

लखीमपुर खीरी=  निघासन// सर्वशिक्षा अभियान का बिगुल बज रहा हैं।प्रदेश व केंद्र की सरकारें इसके लिए भरपूर प्रयास भी कर रही हैं,कि सर्वशिक्षा के तहत सब पढ़े-सब बढ़े का नारा सफल हो सके।परंतु ऐसा ब्लॉक निघासन क्षेत्र में प्रतीत होता नजर नहीं आ रहा हैं।सरकारों द्वारा स्कूल चलो अभियान,सर्व शिक्षा अभियान सहित कई अन्य अभियानों की शुरुआत सब को शिक्षित करने के लक्ष्य से की जाती हैं।जिसपर सरकार का लाखों रुपये पानी की तरह बहाया जाता हैं।

इससे अभिभावकों में जागरुकता आए और बच्चे आगे आकर शिक्षा ग्रहण करें।इसके साथ ही रैलियां,मिड डे मील,निशुल्क ड्रेस वितरण,निशुल्क पाठ्य पुस्तकें आदि,सहित तमाम योजनाये जिससे शिक्षा को पूरे प्रदेश में ज्यादा से ज्यादा प्रभावी बनाया जा सके स्कूलों में अधिकतर अध्यापकों की भी कम दिलचस्पी से बच्चों की पढ़ाई के लिए प्रेरित ना कर पाना भी बाल श्रमिकों की संख्या में बढ़त और ग्रामीण क्षेत्र से विद्यालय में पढ़ने योग्य बच्चों की संख्या घटती जा रही हैं।अगर विकास खंड क्षेत्र का भ्रमण कर लिया जाए तो बड़ी संख्या में पढ़ने योग्य बच्चे स्कूल में नाम लिखाकर वह अपने परिवार का भरण पोषण के लिए काम करते हैं।जैसे कई बच्चे वर्कशॉप,ईंटभट्ठों,जोखिम वाले कारखानों,दुकानों, होटलों आदि पर मजदूरी करते नजर आते हैं,और हर किसी के नजर के सामने रोजाना आते जाते हैं,पढ़ने की ललक तब खत्म हो जाती हैं।जब बड़े परिवारों के बच्चे परिवार का खर्च चलाने के लिए काम करने के लिए विवश हो जाते हैं।और पढ़ाई लिखाई में मन न लगाकर काम करके परिवार का भरण पोषण करने का मन बना लेते हैं।इसे रोकने के लिए बाल श्रम कानून बनाया गया हैं।जिसके लिए बाकायदा हर तहसील क्षेत्र में सरकारी अमला भी तैनात किया जाता हैं।लेकिन विभाग के अधिकारी कागजी खानापूर्ति कर के काम चला रहे हैं।इस अमले के कोई भी प्रयास कारगर होते नहीं दिखाई देते हैं।इस दिशा की ओर काम कर रहे सामाजिक संगठनों,एनजीओ की भूमिका भी अपने प्रयासो मे असफल होती नजर आ रही हैं।जिसके लिए सरकारों को टीम गठित कर कोई ठोस कदम उठाना चाहिए जिससे स्कूलों में बच्चों की संख्या में इजाफा हो सके,और कोई भी बच्चा शिक्षा से महरुम न हो सके।

निघासन-खीरी।क्षेत्र के उच्चप्राथमिक विद्यालय तमोलिनपुरवा,बैलहा पिछले करीब सात सालों से एकल अध्यापकों के सहारे चल रहे हैं।जिसमें करीब दो सौ छात्र व छात्रायें शिक्षा ग्रहण कर रही हैं।जिसमें विद्यालय के अध्यापकों को अधिकतर गांव के सर्वे, पोलियो व मींटिंग में विद्यालय बंद करके अपने विभाग के आदेशानुसार काम करते दिखाई देते हैं।ऐसे में बच्चों का भविष्य कैसे उज्जवल होगा।आखिर कौन होगें इसके जिम्मेदार।

एकल शिक्षक जिस विद्यालय में नियुक्त हैं,इसकी सूची बनाकर शासन को भेजी जायेगी।यह सच हैं,कि शिक्षकों की ड्यूटी कई सर्वे कार्यों में लगाई जाती हैं।जो उचित नहीं हैं।शिक्षकों से यदि शिक्षा का ही काम लिया जायें,तो बेहतर होगा।हमसे जो शिक्षा के क्षेत्र में होगा उस पर अमल करुंगा और करवाऊंगा।
जगन्नाथ यादव
खण्ड शिक्षा अधिकारी, निघासन।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.