कानपुर – फर्जी अधिवक्ता बनकर कचहरी में घूम रहा लाइव क्राइम का पत्रकार पकड़ा गया, हुआ पुलिस के हवाले.

कचहरी में पकड़ा गया फर्जी अधिवक्ता परमजीत सिंह 

समीर मिश्रा. 

कानपुर. कानपुर दक्षिण प्रेस क्लब और लाइव क्राइम न्यूज़ चैनल एक बार फिर चर्चाओ में आया है, इस बार चर्चाओ का आधार एक कथित अधिवक्ता है. आरोप है कि कानपुर दक्षिण प्रेस क्लब के सदस्य और लाइव क्राइम चैनल के संवाददाता परमजीत सिंह कानपुर कचहरी परिसर में वकील बन कर लोगो को गुमराह करते थे और वसूली करते थे जिसका संज्ञान लेकर कचहरी परिसर में कुछ अधिवक्ताओ ने इनको रोक कर इनका परिचय माँगा तो इन्होने उनको हडकाते हुवे खुद को वकील बताया और जब परिचय पत्र माँगा गया तो बगले झाकने लगे, आरोप है कि अधिवक्ताओ ने जब एक फर्जी वकील देखा तो इनकी कुटाई कर दिया. तब तक मौके पर कोतवाली पुलिस भी पहुच गई और उसने आरोपी परमजीत सिंह को सरकारी जीप में बैठा कर थाने ले आई.

क्या हुआ :-
कचहरी पर अधिवक्ताओ से बातचीत और चर्चाओ के अनुसार कानपुर कचहरी में भोले भाले लोगों को बेवकूफ बनाकर उनसे पैसे ऐठने वाले एक फर्जी वकील और कथित पत्रकार को आज वकीलों ने पकड़ लिया। लोगो ने बताया कि एक महाशय एक महिला के यौन उत्पीड़न समेत कई मामलों में अधिवक्ता बन कर पैरवी करते देखे गए है। यह खुद को लाइव क्राइम न्यूज़ चैनल का संवाददाता भी बताते हैं। जब अधिवक्ताओ ने काली कोट पहने सज्जन को पूछा कि बता भाई तू कौन ? तो पहले तो इन्होने सबको हड़कफेल में लेने का प्रयास किया और खुद को अधिवक्ता परमजीत सिंह जीवा बताया, मगर बात वहा बिगड़ गई जब अधिवक्ताओ ने इनसे इनका कार्ड मांग लिया. इन्होने कार्ड दिखाने के नाम पर जब बगले झाकना शुरू कर दिया, तो फिर क्या था अधिवक्ताओ ने पहले जम कर लात घुसो से खातिरदारी शुरू कर दिया. जब खातिरदारी होने लगी तो जनाब ने तुरंत चिल्ला कर कहा मैं एक पत्रकार हु और लाइव क्राइम का संवाददाता हु. ये नाम सुनकर लोग थोडा अचंभित हुवे और तब तक कोतवाली पुलिस मौके पर आ पहुची और इनको और न कूटने देने से बचाते हुवे दो कन्टाप जड कर थाने लेकर चले गए. इस सम्बन्ध में हमारी बातचीत बार काउन्सिल के महामंत्री लल्लन जी से हुई तो उन्होंने घटना के सम्बन्ध में बताया कि एक फर्जी वकील को अधिवक्ताओ ने पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया है. पकड़ा गया फर्जी वकील खुद को लाइव क्राइम न्यूज़ का पत्रकार भी बता रहा था.
क्या कहती है पुलिस :-
थाना प्रभारी कोतवाली से हुई बातचीत में उन्होंने बताया कि कथित आरोपी के बयान के अनुसार वह एक महिला के यौन उत्पीडन के मुक़दमे में पैरवी करने उसके साथ आता रहता है, आज उसी मुक़दमे में दुसरे पक्ष के अधिवक्ताओ ने एक मत होकर उसको घेर लिया और लात घुसो से उसकी पिटाई कर दिया. इस दौरान उसका आई कार्ड भी छीन लिया है. इस सम्बन्ध में थाना प्रभारी ने बताया कि हमारी विवेचना जारी है.
क्या कहा है लाइव क्राइम और कानपूर दक्षिण प्रेस क्लब ने :-
कानपुर दक्षिण प्रेस क्लब इसके पहले भी चर्चाओ का आधार रह चूका है. अभी कुछ दिन पहले ही लाइव क्राइम और कानपुर दक्षिण प्रेस क्लब के एक सदस्य अवैध वसूली में पकड़ा गया था और उस सम्बन्ध में मुकदमा दर्ज कर उस युवक को जेल भेज दिया गया था, उस मुक़दमे में कानपुर दक्षिण प्रेस क्लब के अध्यक्ष और लाइव क्राइम चैनेल के सम्पादक डी.के. गुप्ता भी नामज़द है और पुलिस के अनुसार वह फरारी पर है. वही दूसरी तरफ सूत्रों की माने तो कानपुर दक्षिण प्रेस के अध्यक्ष के ऊपर बैंक के किसी विवाद में भी मामला विचाराधीन है. इसके अतिरिक्त एक विकलांग से वसूली करने के मामले में भी इनका नाम आया था.
कानपुर दक्षिण प्रेस क्लब के महामंत्री राजेंद्र केशरवानी ने हमको फ़ोन पर बताया कि परमजीत सिंह हमारे लाइव क्राइम चैनल के सम्वाददाता है और कानपुर दक्षिण प्रेस क्लब के सम्मानित सदस्य है. एक महिला के साथ हुवे यौन शोषण के मुक़दमे में मानवता के नाते ये महिला के साथ मुक़दमे की पैरवी करने आते थे, आज भी मानवता के तहत पैरवी को आये थे जहा कचहरी में विपक्षी वकीलों ने एक मत होकर इनके साथ मार पीट किया और इनके ऊपर झूठा आरोप लगा दिया है. हम इसके खिलाफ सम्बंधित थाने में मुकदमा पंजीकृत करवाने का प्रयास कर रहे है. समाचार लिखे जाने तक कानपुर दक्षिण प्रेस क्लब के महामंत्री ने हमको बताया कि मुकदमा पंजीकृत करने हेतु तहरीर दे दिया गया है. 
क्या है कानपुर दक्षिण प्रेस क्लब :- 
कानपुर दक्षिण प्रेस क्लब कथित रूप से एक प्रेस क्लब है और अपने सम्बंधित कार्यालय में प्रेस कांफ्रेंस करते रहते है. आरोपों को आधार माने और मौका मुआयना करे तो लकड़ी के खप्परो से बना इनका कार्यालय खुद अवैध कब्ज़े पर है. कानपुर दक्षिण प्रेस क्लब कथित रूप से एक सोसायटी है. इस संस्था के अध्यक्ष डी.के. गुप्ता है और महामंत्री राजेंद्र केशरवानी है. 
(समाचार लिखे जाते समय ज्ञात हुआ है कि आरोपी परमजीत सिंह का लायर्स एसोसिएशन का फर्जी आई कार्ड बरामद हुआ है, जिसे पुलिस को उपलब्ध करवा दिया गया है. अधिवक्ता पक्ष के तरफ से जिस अधिवक्ता से परमजीत सिंह ने मार पीट किया था उन्होंने लिखित शिकायत पुलिस को दिया है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *