नगर निगम कर्मचारियों के पीएफ खातों में 21 करोड़ की धनराषि न भेजे जाने से संघ नाराज

कार्यदायी श्रमिको को स्वीकृत परिश्रमिक से कम हो रहा भुगतान

ए एस खान

लखनऊ, 16 जुलाई। नगर निगम कर्मचारी संघ लखनऊ के अध्यक्ष आनन्द वर्मा एवं महामंत्री राम आचल द्वारा संयुक्त रूप नगर आयुक्त को पत्र के माध्यम से अवगत कराया गया है कि अधिकारियोंध्कर्मचारियों के भविष्य निधि खातों में 21 करोड़ की धनराषि न भेजे जाने के कारण ब्याज की क्षति हो रही है। जिससे कर्मचारियों में व्यापक रोष व्याप्त है, और जो भी कर्मचारी सेवानिवृत्त हो रहे है उनको भविष्य निधि से 70 से 80 हजार की धनराषि का भुगतान कम किया जा रहा है जो गबन की श्रेणी का परिचायक है।

वहीं दूसरी ओर सम्बन्धित कार्यदायी श्रमिकों को स्वीकृत परिश्रमिक रू. 7500.00 के स्थान पर विभिन्न विभागों में कटौती करके कम धनराषि का भुगतान सम्बन्धित कार्यदायी संस्था द्वारा किया जा रहा, जिस कारण श्रमिकों के साथ लगातार शोषण किया जा रहा है एवं वित्तीय क्षति पहुॅंचायी जा रही है। संघ द्वारा श्रमिकों के साथ हो रहे शोषण की जाॅंच कराकर सम्बन्धित कार्यदायी संस्था के विरूद्व कार्यवाही करने एवं श्रमिको की बैक के माध्यम से परिश्रमिक का भुगतान किए जाने की माॅंग की।संघ के अध्यक्ष आनन्द वर्मा एवं महामंत्री द्वारा बताया गया है कि यदि निगम प्रषासन द्वारा अधिकारियेांध्कर्मचारियों की भविष्य निधि 21 करोड़ धनराषि भविष्य निधि खातों में नहीं भेजी जाती है और कार्यदायी श्रमिको को शोषण नहीं रोका जाता है, तो सम्बन्धित विभागाध्यक्ष का घेराव किसी भी कार्यदिवस में किया जायेगा, जिसकी सम्पूर्ण जिम्मेदारी निगम प्रशासन की होगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.