महिला विश्वकप: जीत के करीब पहुँच फिसली भारतीय टीम, भारत को 9 रनों से हराकर इंग्लैंड बना चैंपियन

प्रधानमंत्री मोदी बोले-हमें अपनी टीम पर गर्व है

शबाब ख़ान

स्पोर्टस डेस्क : लार्डस् के ऐतिहासिक ग्रॉऊड पर आज रविवार को आईसीसी महिला विश्वकप 2017 के फाईनल में आस्ट्रेलिया जैसी दिग्गज टीम को सेमी फाइनल मुकाबले में हराकर पहुँची भारतीय महिला टीम नें विश्व चैंपियनशिप का खिताब हासिल करनें के लिए इंग्लैंड महिला क्रिकेट टीम से कड़ा मुकाबला किया। एक समय तो ऐसा लग रह था कि भारत इंग्लैंड को आसानी से हरा देगा,

लेकिन भारतीय पारी के अंतिम 15 ओवरों में भारत नें अपने 7 विकेट बहुत कम अंतराल से खो दिए, परिणामस्वारूप इंग्लैंड के द्वारा दिए 229 रनों के लक्ष्य को पाने की कोशिश में एक समय केवल 3 विकेट खोकर 197 रनों पर खेल रहे भारत को इंग्लैंड नें 9 रनों से हराकर रोमांच और जज़्बातों से भरे मैच को अपने नाम करके 2017 की आईसीसी वर्ल्ड चैंपियनशिप जीत ली। लार्डस् के दर्शक दीर्घा में मौजूद हजारों भारतीय फैंन्स के हाथ निराशा लगी। बावजूद इसके विश्व के हर क्रिकेट विशेषज्ञ, पूर्व खिलाड़ी और पूरी तरह से एक्टिव खिलाड़ियों नें भारत की महिला टीम की जीवटता की प्रशंसा करनें में कंजूसी नही की। सबने कहाकि आने वाले समय में महिला टीम इंडिया को विश्वकप जीतने से कोई नही रोक पाएगा।

इंग्लैंड ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवर में 7 विकेट खोकर 228 रन बनाए जिसमें नताली स्काइवर के 51 रन और विकेटकीपर बल्लेबाज़ सारा टेलर के 45 रनों की महत्वपूर्ण भूमिका रही। भारत की सलामी बल्लेबाज पूनम राउत ने सार्वधिक 86 रन बनाए जबकि सेमीफाइनल में 171 रनों की आतिशी पारी खेलने वाली हरमनप्रीत कौर ने 51 रनों का योगदान दिया। इन दोनों ने तीसरे विकेट के लिए 95 रनों की साझेदारी की। अंत में वेदा कृष्णामूर्ति ने 35 रनों की पारी खेलते हुए टीम को जीत दिलाने की कोशिश की, लेकिन सफल नहीं हो पाईं। इंग्लैंड की तरफ से अन्या श्रूबसोले ने 6 विकेट लिए। एलेक्स हार्टले ने दो सफलताएं हासिल कीं।
जहॉ तक भारतीय गेंदबाजी का सवाल है तो उन्होनें अपना काम इंग्लैंड को 228 पर समेटकर कर दिया था। 11.1 ओवर में 47 के स्कोर पर इंग्लैंड को राजेश्वरी गायकवाड़ ने पहला झटका दिया। राजेश्वरी ने लॉरेन विनफील्ड (24) को बोल्ड कर दिया। थोड़ी देर बाद ही पूनम यादव बॉलिंग करने आईं और आते ही उन्होंने दूसरी सेट बल्लेबाज ब्यूमोन्ट (23) का विकेट ले लिया। ब्यूमोन्ट 14.3 ओवर में यादव की बॉल पर झूलन गोस्वामी को कैच दे बैठी थीं। 3 रन बाद ही एक विकेट और गिरा जब 16.1 ओवर में पूनम यादव ने हेदर नाइट (1) को LBW करके इंग्लैंड को तीसरा झटका दिया। 
झूलन ने 33वें ओवर में 146 के स्कोर पर लगातार 2 बॉल पर 2 विकेट लेकर इंग्लैंड को प्रेशर में ला दिया। इस ओवर की चौथी बॉल पर उन्होंने टेलर (45) को सुषमा वर्मा के हाथों कैच करा दिया। सारा टेलर का विकेट लेने के बाद अगली ही बॉल पर उन्होंने नई बैट्समैन फ्रेन विल्सन को LBW कर इंग्लैंड का पांचवां विकेट गिराया। इस वक्त स्कोर 146 रन था। छठा विकेट भी झूलन गोस्वामी ने ही लिया। उन्होंने 37.1 ओवर में 164 के स्कोर पर नताली स्काइवर (51) को LBW कर दिया। कैथरीन ब्रंट (34) को रन आउट करके दीप्ति शर्मा ने इंग्लैंड का सातवां विकेट गिराया। इस वक्त स्कोर 196 रन था। जेनी गन (25) और लॉरा मार्श (14) नॉटआउट पवेलियन लौटीं। दोनों ने मिलकर आठवें विकेट के लिए 32 रन की साझेदारी की।
झूलन की गज़ब की गेंदबाजी
भारत की तेज गेंदबाज झूलन गोस्वामी ने महिला क्रिकेट वर्ल्ड कप के फाइनल में इंग्लैंड के 3 बड़े विकेट झटके। उन्होंने ने पहला विकेट 33वें ओवर की चौथी गेंद पर लिया। झूलन ने सारा टेलर (62 गेंदो पर 45 रन) को सुष्मा वर्मा के हाथों कैच आउट किया। उसके बाद फिर अगली गेंद पर फ्रैन विल्सन को बिना खाता खोले ही एलबीडब्ल्यू आउट किया। झूलन के पास ब्रंट को आउट कर हैट-ट्रिक का मौका था पर झूलन इससे चूक गई थी। हालांकि कुछ देर बाद ही झूलन ने 37.1 ओवर में नेटली स्काइवर को आउट कर उन्हें वापस पवेलियन भेजा। मैच के बाद भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नें टुइट कर ग़मगीन भारतीय महिला टीम की हौसलाअफ़ज़ाई करते हुए कहा कि टीम इंडिया की हर खिलाड़ी नें अपना सर्वश्रेष्ठ दिया। उनकी कोशिश शानदार रही, हमें आप पर गर्व है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.