एक बार फिर प्रभा टाइम्स के पत्रकार शावेज़ और अमित कश्यप के मोबाइल मरम्मत की दूकान में हुई चोरी

कलक्टर गज पुलिस की अनदेखी से दुबारा मोबाइल शाप में चोरो ने किया हाथ साफ़ 

मो0 नदीम एवं समीर मिश्रा की रिपोर्ट

कानपुर 25 जुलाई 2017. आज के युग में अगर किसी की भैस चोरी हो जाए और वो कोतवाल के पास जाए रपट लिखाने कोतवाल साहब रपट लिखने के बजाए उलटा उसी से ही चोरो के जैसे सवाल पूछने लगे-भैस क्यों चोरी हो गई भैस चोरी हुई जब तुम कहा थे तुम्हारी ही क्यों भैस चोरी हो गई वगैरह वगैरह तो सोचिए उस पीड़ित पर क्या बीतेगी जिसकी भैस भी जाए और और उसी को चोर की तरह कटघरे में खड़ा होना पड़े.

ऐसा ही एक मामला थाना कलक्टरगंज अन्तर्गत मंजुश्री टॉकीज के सामने बनी मार्केट में अलिफ़ टेलीकाम मोबाइल शाप में देखने को मिला. जहा बीती रात शातिर चोरो ने घात लगाकर दूकान के पीछे के रास्ते  से छत द्वारा चढ़कर टीन शेड काटकर आठ हजार रू कैश व् हजारो के सामान पर हाथ साफ़ कर दिया है. उक्त मोबाइल रिपेयरिंग शाप कानपुर से संचालित वेब पोर्टल प्रभा टाइम्स के पत्रकार शावेज़ आलम और अमित कश्यप के द्वारा संचालित होती है. दोनों पत्रकार पार्टनरशिप में यह दूकान चलाते है जहा मोबाइल की रिपेयरिंग के काम के साथ डाउनलोडिंग और रिचार्ज कूपन की बिक्री भी किया जाता है. कल रात दोनों साझीदार पत्रकार दूकान बंद कर अपने अपने आवास पर चले गए थे.
आज सुबह जब दोनों ने आकर दूकान खोला तो देख कर सन्न रह गए कि दूकान में एक बार फिर से चोरी हो चुकी थी और चोरी का तरीका भी पहले जैसा ही था, वही छत काट कर फिर चोरो ने चोरी किया था. चोरी की सुचना पत्रकार (दुकानदार) शावेज ने कलक्टर थाने को दी सुचना मिलते ही मौके पर पहुचे एस आई धर्मेन्द्र सिह को पत्रकार शावेज ने निरीक्षण कराने के बाद अपनी व्यथा सुनाई साथ ये भी बताया कि आज से पन्द्रह दिन पहले भी इसी दूकान से हजारो का माल इसी तरह चोरी हो चुका है पुलिस ने कोई भी कार्यवाही नहीं की थी अगर कार्यवाही की होती तो शायद इस घटना का पूंर्वजन्म ना हुआ होता इतना सुनते ही एस आई साहब भड़क उठे और कहने लगे आखिर तुम्हारी ही दूकान में चोरी क्यों हो रही है और भी है दुकाने इस लाइन में है, इस पर कई दुकानदारो ने सफाई पेश करते हुए बताया कि हम लोगो की दुकानों के भी ताले टूट चुके है लेकिन चोर अपने मकसद में कामयाब नहीं हो सके है अब लगता है अब हमे भी कुछ करना होगा. 
मामला बिगड़ता देख एस आई धर्मेन्द्र सिंह ने जल्द ही चोरो को पकड़कर कार्यवाही करने का आश्वासन देकर चलते बने वही दूसरी तरफ दुकानदारो ने एक व्यक्ति को शक के आधार पर पुलिस को सौपा है अब देखना ये है क्या कलक्टरगंज पुलिस चोरो के बढ़ते आतंक से दुकानदारो को निजात दिला पाएगी या फिर से आश्वासन रूपी लॉलीपॉप देकर दुकानदारो को एक नई चोरी होने का इन्तजार करवाएगी.
कही सी पी सी कालोनी चोरो का अड्डा तो नहीं
सीपीसी कालोनी एक अवैध बस्ती है जो कि रेलवे की ज़मीन पर बसी है चर्चाओ के अनुसार यहाँ कई तरह के अपराध अपनी जडे जमाये हुए है दिन भर यहाँ स्मैकियो का जमावड़ा देखा जा सकता है. सूत्रों की माने तो रेलवे में नकली पानी व घटिया खान पान के कारोबार को भी यही से अंजाम दिया जाता है स्मैक तस्करी के आरोप में कई बार जेल जा चुकी रुकसाना का निवास भी यही पर है. कई बार इसी बस्ती से ऐसे आरोपी भी पकडे गए है जो आस पास के क्षेत्रो में होने वाली चोरियों को अंजाम देंने के आरोपी रहे है. 
चोरो को ना ही आर पी एफ पुलिस का डर है और ना ही क्षेत्रीय पुलिस का कोई खौफ अगर होता तो दोबारा इतनी निर्भीकता से उसी मोबाइल शाप में चोरी ना कर पाते साथ ही अगर पंद्रह दिनों पूर्व हुई चोरी को पुलिस गम्भीरता से लेकर चोरो के खिलाफ सख्त कार्यवाही करती तो आज हुई चोरी की पुनरावृत्ति ना होती बहरहाल मामला कुछ भी हो जब तक सीपीसी कालोनी जैसी अवैध बस्ती की गोद में पल रहे अपराध पर पुलिस विभाग नजरे टेढ़ी नहीं करेगा तब तक चोर लोगो की दुकानों में हाथ साफ़ करके मौज काटता रहेगा और पीड़ित पुलिस के सवालो के घेरे में फसकर उलझता रहेगा

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.