माल्या की वापसी के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मांगी ब्रिटेन से मदद

(जावेद अंसारी)

भगोड़े कारोबारी विजय माल्या की भारत वापसी के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ब्रिटिश समकक्ष टेरीजा से मदद मांगी है। प्रधानमंत्री ने आर्थिक अपराधियों की वापसी में ब्रिटेन से सहयोग करने का अनुरोध किया है। साफ जाहिर है कि प्रधानमंत्री ने माल्या के साथ ही आइपीएल के पूर्व चेयरमैन ललित मोदी की ओर इशारा किया है। माल्या और मोदी दोनों ब्रिटेन में हैं। लंदन की अदालत में माल्या की भारत वापसी पर सुनवाई चल रही है।

जी 20 शिखर बैठक में भाग लेने पहुंचे मोदी ने हैम्बर्ग में शनिवार को टेरीजा से मुलाकात की। प्रधानमंत्री ने माल्या की वापसी में ब्रिटेन से मदद मांगी। इसके अलावा दोनों नेताओं ने भारत-ब्रिटेन संबंध के विस्तृत पहलुओं पर बातचीत भी की। मुलाकात के बाद एक ट्वीट में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने जानकारी दी है। ट्वीट में कहा गया है कि प्रधानमंत्री ने भारत से भाग निकले आर्थिक अपराधियों की वापसी में ब्रिटेन से सहयोग करने के लिए कहा है। माल्या भारत में किंगफिशर एयरलाइंस के बैंक कर्ज मामले में वांछित हैं। माल्या की इस भंग विमानन कंपनी पर करीब 9000 करोड़ रुपये बकाया है। कई मामलों में वांछित माल्या मार्च 2016 से ब्रिटेन में रह रहे हैं। अप्रैल में लंदन के एक थाने में उन्हें गिरफ्तार कर लाया गया और सशर्त जमानत पर छोड़ा गया। भारत और ब्रिटेन के बीच 1992 में प्रत्यर्पण संधि हुई थी लेकिन अभी तक केवल 2002 के गुजरात दंगा मामले के आरोपी समीरभाई विनुभाई पटेल का ही प्रत्यर्पण हुआ है।
मालाबार अभ्यास से पहले जापान के साथ संबंधों की समीक्षा की
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जी20 शिखर बैठक से इतर अपने जापानी समकक्ष शिंजो एबी के साथ मुलाकात की। दक्षिण और पूर्वी चीन सागर में बीजिंग की बढ़ती सैनिक दखल के बीच भारत-जापान मालाबार नौसेना अभ्यास की तैयारी में जुटे हैं। इस अभ्यास से पहले हुई मुलाकात में दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय रिश्तों में हुई प्रगति की समीक्षा की।
अफ्रीका में निवेश की जरूरत पर दिया जोर
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अफ्रीका में तकनीक और निवेश मुहैया कराने की जरूरत पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि जी20 देशों को अनिवार्य रूप से इसपर बात करनी चाहिए। अफ्रीका के साथ भारत के बहुस्तरीय विकास साझीदारी को सामने रखते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि अफ्रीका को क्षमता निर्माण के साथ ही बुनियादी ढांचा सुधारने में भारत ने मदद की है।
नार्वे के पेंशन फंड को भारत में निवेश का न्योता
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नार्वे के पेंशन फंड को राष्ट्रीय निवेश एवं बुनियादी ढांचा कोष में निवेश का न्योता दिया है। उन्होंने नार्वे के प्रधानमंत्री एर्ना सोल्बर्ग से मुलाकात की। सोल्बर्ग ने उन्हें एक प्रतीकात्मक फुटबाल उपहार में दिया। जी20 शिखर बैठक से इतर मोदी ने दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जाए, इटली के प्रधानमंत्री पाओलो गेन्टिलोनी, अर्जेंटीना के राष्ट्रपति मौरिसिओ मैक्री से भी मुलाकात की है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.