वह तो लेकर आया था दो मारपीट करने वालो के बीच मोहब्बत का पैगाम, उसी की जान ले लिया जालिमो ने.

विलाप करती मृतक जहागीर की पत्नी.
राजू प्रजापति 
वाराणसी. ईद खुशियों का दिन होता है. गरीब हो या अमीर इस दिन सभी अपनी आर्थिक क्षमता के अनुरूप अपने परिवार के साथ खुशिया मनाते है. इस दिन लोग दुश्मन से भी अपने गिले शिकवे दूर करके उसको भी अपने गले लगा लेते है, शायद इसी मोहब्बत के पैगाम को पहुचाना रिक्शा चालक जहागीर को महंगा पड़ा और दो झगडा एवं मारपीट कर रहे युवको के झगडे को छुडाना उसको महंगा पड़ा और उस गरीब बेक़सूर को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा,

घटना के सम्बन्ध में क्षेत्रिय नागरिको ने बताया कि शैलपुत्री निवासी राजू सेठ का पुत्र नीरज सेठ और कभी शैलपुत्री में रहने वाले तमाखू जो अपना मकान अब बेच कर कांशीराम आवास शिवपुर में रहते है का लड़का झगडू दोनों आपस में कभी दोस्त हुआ करते थे. अक्सर साथ में घूमना टहलना और खाना पीना होता था, आज कतिपय कारणों से शैलपुत्री रोड नक्खिघाट पर पतिराम यादव के मकान के नीचे दोनों के बीच अचानक गाली गलौज और मारपीट शुरू हो गई. पतिराम यादव के मकान में रामनगर मिल्कीपुर का मूल निवासी जहागीर (35 वर्ष) किराये का कमरा लेकर अपनी पत्नी और एक 8 वर्षीया पुत्र के साथ निवास करता है और रिक्शा चला कर अपने परिवार का भरण पोषण करता है. अपने घर के बाहर ही हो रहे झगडे को रोकने के लिए जहागीर जो खाना खाने जा रहा था, खाना छोड़ कर बाहर आकर झगडे को शांत करवाने के प्रयास में लग गया और झगडा कर रहे दोनों युवको से कहाकि झगडा न करो और आओ दोनों लोग मेरे घर पर सिवई खाओ. 
इसी बीच झगडा कर रहे दोनों लड़के नीरज सेठ और झगडू के बीच लाठिया चलने लगी और एक लाठी जहागीर के सर के पीछे को आकर लगी जिससे जहागीर वही मौके पर बेहोश हो गया. अपने पति के लिए खाना निकाल कर इंतज़ार करती पत्नी ने जब बाहर आकर देखा तो जहागीर वही बेहोश पड़ा था, आनन फानन में क्षेत्रिय नागरिको के मदद से जब वह घायल पति को लेकर मंडलीय चिकित्सालय शिव प्रसाद गुप्त अस्पताल पहुची तब तक जहागीर की मौत हो चुकी थी और चिकित्सको ने उसको मृत घोषित कर दिया.
पुलिस ने लाश को कब्ज़े में लेकर पोस्टमार्टम हेतु भेज दिया है, घटना की सुचना जहागीर के परिवार को दिया जा चूका है. जहागीर के परिवार में उसकी पत्नी, उसका 8 साल का एक पुत्र के अलावा 2 भाई है, घटनास्थल पर सुरक्षा के दृष्टिकोण से पुलिस तैनात है, मौके पर आईजी. एसएसपी, एस पी सीटी, क्षेत्राधिकारी चेतगंज, थानाध्यक्ष जैतपुरा, थाना प्रभारी आदमपुर पहुचे. समाचार लिखे जाने तक प्राप्त सुचना के अनुसार पुलिस को तीन नामज़द लोगो के खिलाफ मृतक के परिजनों ने तहरीर दिया है. जिसमे पुलिस ने दो आरोपी आरोपी नीरज सेठ और मेवालाल को गिरफ्तार कर लिया है. तीसरा आरोपी फरार है और पुलिस उसको पकड़ने के लिए दबिश दे रही है.
क्या है इस झगडे का कारण – 
क्षेत्रिय चर्चाओ और सूत्रों से प्राप्त समाचार के अनुसार झगडू और नीरज सेठ थे तो आपस में दोस्त मगर दोनों एक ही लड़की से प्यार करते थे. लड़की झगडे स्थल के आस पास ही कही रहती है. यह प्यार दोनों का एकतरफा है. इसी इकतरफा प्यार में दोनों दोस्त एक दुसरे के दुश्मन बन बैठे और एक दुसरे पर अपना वर्चस्व साबित करने में लग गए. इसी वर्चस्व की जंग में दो दोस्त आपस में एक दुसरे के दुश्मन बन बैठे और आज एक दुसरे के आमने सामने आकर फैसला करने पर अमादा हो गए. बताया जाता है कि इस झगडे में झगडू का साथ उसके चाचा ने भी दिया था. इस बेमतलब की जंग में आज एक गरीब और बेक़सूर बलि चढ़ गया तथा  उसको अपनी जान  हाथ धोना पड़ा. 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.