बिजली की अघोषित कटौती से लखनऊ छोड़ सूबे के सभी जिलों की जनता त्रस्त

सोशल मीडिया पर बिजली की अचानक बढ़ी समस्या को साझा कर रहे है लोग

शबाब ख़ान

वाराणसी: बिजली की समस्या से उत्तरप्रदेश की आम जनता में धीरे धीरे रोष उत्पन्न होता जा रहा है। आम जनता बिजली की कटौती से परेशान होकर सोशल मीडिया पर अपना दर्द शेयर कर रही है। पिछले दो महीनों से लगातार फेसबुक, टुईटर पर बिजली से संबंधित पोस्ट लगातार नजर आ रही है।

इलाहाबाद, कौशांबी, फतेहपुर, कानपुर की जनता कुछ ज्यादा ही परेशान है, लोगो का कहना है तीन महीने पहले तक वो जेनरेटर, इंवर्टर का इस्तमाल करना भूल चुके थे, क्योकि बिजली की कोई समस्या ही नही थी। इलाहाबाद को औसतन 23 घण्टे बिजली मिल रही थी, जो अब 15 घण्टे तक हो गई है। यही हाल कौशांबी, फतेहपुर का है जहॉ औसतन 20 घण्टे बिजली की आपूर्ती की जा रही थी जो अब 12 घण्टों तक पहुँच गयी है। कानपुर नगर को भी अब पहले की तरह 22 घण्टे बिजली नही मिल रही, यहॉ आपूर्ती घटकर 17 घण्टे पहुँच चुकी है। हॉ, राजधानी लखनऊ को 23 घण्टे बिजली मिल रही है जो पहले 24 घण्टे हुआ करती थी।
पिछले दिनों बनारस आये सीएम योगी आदित्यनाथ नाथ ने बनारस को 24 घण्टे बिजली देने का ऐलान किया था। अपने बजट भाषण में भी योगी ने ‘पॉवर फॉर ऑल’ योजना का जिक्र किया था जो अब तक हवा-हवाई ही साबित हुआ है। जनता का कहना है कि सरकार को आम जनता को सुविधा देने से पहले टैक्स वसूलने की चिंता है।
लगातार बिजली कटौती की शिकायत पर  इधर आज बनारस में पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के प्रबंध निदेशक अतुल निगम ने भिखारीपुर स्थित कार्यालय में विद्युत आपूर्ति की समीक्षा की। उन्होंने बताया कि बिजली कटौती का सबसे बड़ा कारण शहर में इस समय आईपीडीएस, आरएपीडीआरपी योजना के तहत कई कार्यों का चलना है। उनके अनुसार यह कार्य सितंबर तक पूरे हो जाएंगे और अक्टूबर से बेहतर बिजली की सप्लाई होगी।
उन्होंने बताया कि इसके लिए भूमिगत केबलिंग, जर्जर तारों को बदलना, नगर निगम की ओर से ईईएसएल के सहयोग से हेरिटेज पोल और एलईडी लाइट बदलने का काम चल रहा है। इसके लिए शटडाउन लिया जा रहा है। इसकी सूचना शहर के दोनों अधीक्षण अभियंताओं की ओर से दी जा रही है। जिन उपभोक्ताओं के मोबाइल नंबर दर्ज हैं उन्हें कटौती की सूचना भेजी जा रही है। टोल फ्री नंबर 1912 से भी सूचना दी जा रही है। साथ ही सभी मातहतों को सूचित किया गया है अनावश्यक कटौती न की जाए। कटौती का रजिस्टर मेंटेन किया जाए। इसकी डिमांड किसी भी समय की जा सकती है।
इधर कटौती से गुरुवार को भी जनता परेशान रही। बिजली की आवाजाही का सिलसिला सुबह से रात तक चला। कुछ जगहों पर विद्युत सुधार तो कुछ इलाकों में लोकल फाल्ट के नाम पर कटौती हुई। चौकाघाट, बेनिया, मंडुवाडीह, चांदपुर, लहरतारा, अर्दली बाजार, पन्नालाल पार्क, पांडेयपुर, सांस्कृतिक संकुल, दौलतपुर, न्यू दौलतपुर, शक्तिपीठ, लेढ़ूपुर, मछोद्दरी, राजघाट, गंगानगर, भदंयु, कोयला बाजार, बड़ी बाजार आदि इलाकों में लोग हलकान रहे। लोगो का कहना है कि जब पानी सप्लाई का समय होता है तो बिजली कट जाती है जिससे लोगो की पानी भी ठीक से नही मिल पा रहा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.