पुलिस से बोला आरोपी – दवा मांगने पर उसने मुझे गाली दी, मैंने गोली मार दी, महज़ 24 घंटे के अन्दर ही किया गोली कांड का पुलिस ने खुलासा

ए जावेद

वाराणसी। साहब मैं उससे दवा लेने गया था। उसने मुझको दवा नही दिया, मेरी माँ की दवा थी। मैंने उसको दवा देने को कहा तो उसने मुझको गाली दिया। मुजको गुस्सा आ गया मैंने उसको गोली मार दिया। ये बयान पुलिस से कल भेलूपुर थाना क्षेत्र में एक दवा कारोबारी को गोली मारने के प्रकरण में पकडे गए आरोपियों में मुख्य आरोपी महमूरगंज निवासी पेशे से मोती कारोबारी अजय कुमार वर्मा द्वारा मेडिकल स्टोर संचालक पंकज राय को गोली मारने की घटना के संबंध गिरफ़्तारी के बाद पुलिस से बयान में कहीं। वही उसके साथ पकडे गए दो अन्य आरोपियों सागर और अनिल ने कहा कि अजय कुमार वर्मा ने हम लोगो को धोखा दिया है। अगर हमको पता होता कि वह गोली मार देगा तो हम लोग नहीं जाते।

क्या हुई थी घटना

महमूरगंज क्षेत्र में ही रहने वाले पंकज राय का उनके घर से थोड़ी दूर पर मेडिकल स्टोर है। पंकज के अनुसार शनिवार की रात वह शटर का आधा हिस्सा गिरा कर दुकान का हिसाब-किताब देख रहे थे। इसी बीच दो युवक आए और दवा मांगे तो उन्होंने कहा कि दुकान बंद हो गई है। इस पर दोनों कहासुनी और गालीगलौज करने लगे। थोड़ी ही देर बाद वह पुन: अपने एक साथी के साथ आए और गोली मार दी। पंकज को मलदहिया स्थित निजी अस्पताल ले जाया गया जहां उनकी हालत गंभीर देखते हुए उन्हें बीएचयू ट्रॉमा सेंटर रेफर कर दिया गया। बीएचयू ट्रॉमा सेंटर के डॉक्टरों के अनुसार पंकज की हालत फिलहाल स्थिर है।

घटना में प्रयुक्त लाइसेंसी रिवाल्वर

क्या है इनसाइड स्टोरी

वही मिली जानकारी के अनुसार अजय वर्मा जो मोतियों का कारोबारी है के पास लाइसेंसी रिवाल्वर है। अजय वर्मा ने अपने दोस्त के साथ मिलकर शराब का सेवन किया। इसके बाद दवा के दुकानदार पंकज राय के दूकान पर पंहुचा और एक दवा पंकज से मांगी। यहाँ अगर पंकज के बयान को आधार माने तो आधा शटर गिरा कर पंकज दूकान का हिसाब मिला रहा था। अजय वर्मा ने पंकज से दवा मांगी जिसपर पंकज ने दवा दुसरे दिन मिल जाने और दूकान बंद हो जाने की बात कही। सूत्रों की माने तो इसके बाद शराब के नशे में धुत अजय वर्मा ने पंकज से बहस किया। इस पर पंकज ने भी उसको जवाब दिया और अजय वर्मा वहा से चला गया।

अजय ने जाने के बाद अपने दोस्त प्राइवेट स्कूल में नौकरी करने वाले संत रघुवर नगर निवासी सागर और मह्मूरगंज निवासी मिटटी के बर्तन का कारोबार करने वाले अनिल प्रजापति को बताया और उन्हें उस दूकानदार को हड्काने के लिए साथ लेकर उसी दूकान पर दुबारा पंहुचा और दूकानदार को दूकान से बाहर बहाने से बुलाया। सागर और अनिल दुकानदार से एक बच्चे की दवा की मांग करते है इसी दमियान अनिल अपनी लाइसेंसी रिवाल्वर से पंकज राय पर गोली चला देता है। इसके बाद तीनो मौके से फरार हो जाते है। गोली कांड के बाद मौके पर पहुची पुलिस ने प्रकरण में छानबीन शुरू किया।

कैसे आया पुलिस पकड में

प्रकरण के खुलासे के लिए उच्चाधिकारियों ने थाना भेलूपुर और क्राइम ब्रांच को आवश्यक दिशानिर्देश जारी किया। दुर्गाकुंड चौकी इंचार्ज प्रकाश सिंह ने फुटेज खंगालने शुरू किये और पुलिस के हाथ आखिर महज़ 24 घंटे के अन्दर ही तगड़ा साक्ष्य मिल गया। जिसके आधार पर आज अजय वर्मा और उसके साथियों की शिनाख्त किया। जिसके बाद पुलिस टीम ने तीनो को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस से क्या बोले सह-अभियुक्त सागर और अनिल

गिरफ्तार होने के बाद प्राइवेट दुकान में काम करने वाले सागर और मिट्टी के बर्तन बेचने वाले अनिल ने पुलिस से कहा कि उन्हें शनिवार की रात घर से बुलाकर अजय ने यह कहा था कि आओ दवा लेने चलना है। एक मेडिकल स्टोर वाला दवा नहीं दे रहा है। तीनों मेडिकल स्टोर के समीप पहुंचे और दुकानदार को देखते ही जब अजय ने अचानक गोली चला दी तो दोनों डर गए और उसके साथ ही मौके से भाग निकले। दोनों ने कहा कि अगर उन्हें पता होता कि अजय किसी को गोली मारेगा तो वह उसके साथ कतई न जाते।

मिलेगा पुलिस टीम को इनाम

मामले के खुलासा होने के बाद आज रात डीसीपी काशी जोन ने पत्रकारों के सामने गिरफ्तार अभियुक्तों को पेश करते हुवे बताया कि सीसी कैमरों की फुटेज की मदद से वारदात के खुलासे में दुर्गाकुंड चौकी इंचार्ज प्रकाश सिंह और महमूरगंज चौकी इंचार्ज अनुज तिवारी ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इसलिए दुर्गाकुंड और महमूरगंज चौकी इंचार्ज के साथ ही पूरी पुलिस टीम को पुरस्कृत कर उच्चाधिकारियों से पुरस्कार दिलाने की अनुशंसा भी की जाएगी। उन्होंने कहा कि अजय की रिवॉल्वर का लाइसेंस निरस्त कराया जाएगा। तीनों आरोपियों को गिरफ्तार करने वाली टीम में भेलूपुर इंस्पेक्टर अमित मिश्रा, क्राइम ब्रांच प्रभारी अश्वनी पांडेय, दुर्गाकुंड चौकी इंचार्ज प्रकाश सिंह और महमूरगंज चौकी इंचार्ज अनुज तिवारी शामिल रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *