बिल्थरारोड बलिया की प्रमुख खबरें

(वेदप्रकाश शर्मा /अन्जनी राय)
हर विद्यालयों पर बायोमेट्रिक मशीन व् सीसीटीवी कैमरे लगने से होगा सुधार
बलिया। माध्यमिक विद्यालयों में शैक्षिक व्यवस्था और अनुशासन पटरी पर लाने की कवायद के तहत बायोमेट्रिक मशीन और सीसीटीवी कैमरा लगाने का शासन का फरमान हवा-हवाई साबित हो रहा है । नक़ल और शैक्षिक अराजकता के लिए सूबे में कुख्यात बेल्थरारोड तहसील क्षेत्र के कुछ एक विद्यालय को छोड़ अधिकांश विद्यालयों में व्यवस्था लागू नहीं हो सकती है।

योगी आदित्यनाथ सरकार बेपटरी हो चुकी माध्यमिक शिक्षा की व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए भले ही तमाम कवायद कर रही हो ,लेकिन इन कवायद का जमीनी धरातल पर कोई परिणाम निकलता नहीं दिख रहा है| प्रदेश शासन ने पिछले दिनों आदेश जारी कर नए शिक्षा सत्र से माध्यमिक विद्यालयों में बायोमेट्रिक मशीन और सीसीटीवी कैमरा लगाना सुनिश्चित करने का आदेश जारी किया था लेकिन अंगुली पर कुछ विद्यालयों को छोड़ अभी भी अधिकांश विद्यालयों में व्यवस्था लागू नहीं हो पाई है |प्रदेश शासन ने अपने आदेश में स्पष्ट किया था कि वित्तविहीन विद्यालय अपने निजी संसाधन और अशासकीय विद्यालय विकास निधि से यह व्यवस्था करेंगे |बेल्थरारोड के नगरीय क्षेत्र में स्थित डीएवी इंटर कॉलेज में शिक्षा सत्र शुरू होने के पहले ही बायोमेट्रिक मशीन और सीसीटीवी कैमरा का संचालन शुरू हो गया है ।विद्यालय के प्रधानाचार्य बनारसी यादव ने विश्वास जताया कि इस व्यवस्था से विद्यालय के कुशल संचालन में सहूलियत होगी। वहीं शैक्षिक गुणवत्ता में सुधार होगा। इसके अलावा नगर क्षेत्र के अन्य विद्यालयों में भी यह व्यवस्था शुरू की गई है, लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित शासकीय और वित्तविहीन विद्यालयों में अभी तक यह व्यवस्था लागू नहीं की गई। इस स्थिति के चलते सरकारी फरमान की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं ।क्षेत्र के समस्त विद्यालयों में बायोमेट्रिक मशीन और सीसीटीवी कैमरे की अनिवार्य रूप से व्यवस्था होनी चाहिए ।

बनेगा ठोकर तो मिलेगी बाढ़ से निजात
बलिया। घाघरा नदी के जल स्तर में वृद्धि शुरू हो गई है ।जलस्तर में धीमी गति के बढ़ाव से तटवर्ती बेल्थरा रोड तहसील क्षेत्र के दर्जनों ग्रामों के हजारों लोगों के दिलों की धड़कनें तेज हो गई है ।खासतौर पर तटवर्ती चैनपुर,गुलौरा, मठिया, महुआतर ,टगुंनियां, हाहानाला आदि स्थानों के लोग कटान से भयभीत हैं। बाढ़ और कटान रोकने की स्थाई व्यवस्था नहीं किए जाने से हर साल सैकड़ों एकड़ कृषि योग्य उपजाऊ भूमि नदी की जलधारा में समाहित होती रहती है ।बाढ़ के समय शासन- प्रशासन के लोगों का दौरा शुरू हो जाता है ,लेकिन बाढ़ और कटान पीड़ितों को राहत दिलाने का घड़ियाली आंसू बहा कर चले जाते हैं। जिसके परिणाम स्वरुप कटान पीड़ितों की समस्या जस की तस बनी रहती है ।बाढ़ और कटान की त्रासदी झेल चुके लोग सरकारी व्यवस्था के प्रति संतुष्ट नहीं है। कटान रोकने के लिए स्थाई व्यवस्था किए जाने के संबंध में एक कार्य योजना तैयार की गई ।जिसके तहत टगुनियां में घोसी सांसद हरिनारायण राजभर के घर के सामने ठोकर बनाया जाना जरूरी है। उसके साथ ही चैनपुर, गुलौरा ,मठिया शिव मंदिर आदि स्थानों पर नदी का कटान रोकने के लिए ठोकर बना दिया जाए तो कटान की समस्या से निजात मिलेगी ।जानकार सूत्रों की माने तो यह मामला शासन स्तर पर पहुंच गया है ,लेकिन प्रभावी राजनैतिक हस्तक्षेप के अभाव में तटवर्ती आधा दर्जन स्थानों पर ठोकर बनाने का कार्य अभी तक शुरु नहीं किया गया ।जिससे इस बार भी बाढ़ के दिनों में तटवर्ती वाशिंदों को कटान की स्थिति का सामना करना पड़ेगा।
उप डाकघर खोलने की मांग ठन्डे बस्ते में
बलिया। बिल्थरारोड नगर के डाकघर को उच्चीकृत कर मुख्य डाकघर के साथ ही रेलवे स्टेशन और चौकिया मोड़ के निकट उपडाकघर खोलने का मामला ठंडे बस्ते में पड़ा हुआ है। हालांकि इस मामले में डाक विभाग द्वारा उपडाकघर खोलने की संतुति भी की गई ।कई वर्ष व्यतीत हो गए। लेकिन डाकघर स्थापना का मामला अधर में लटका हुआ है ।इसको लेकर लोगों में नाराजगी है ।भाजपा नेता देवेंद्र कुमार गुप्त ने सांसद रविंद्र कुशवाहा के माध्यम से तत्कालीन केंद्रीय संचार मंत्री रविशंकर को पत्र लिख बेल्थरारोड में डाकघर स्थापना की मांग की थी। इस मामले में संचार मंत्री ने पोस्ट मास्टर जनरल को प्रभावी कार्यवाही का निर्देश दिया। पीएमजी के आदेश पर डाक निरीक्षक ने स्थलीय जांच किया। डाक निरीक्षक ने जांच आख्या में डाकघर को प्रधान डाकघर के अलावा रेलवे स्टेशन क्षेत्र और चौकिया मोड़ के निकट उप डाकघर खोलने की संस्तुति की ।जांच रिपोर्ट के कई वर्ष बाद भी डाकघर खोलने की प्रक्रिया अभी तक शुरू नहीं की गई ।श्री गुप्त ने संचार अधिकारियों का ध्यानाकृष्ट कर डाकघर खोलने की मांग की है ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.