वाराणसी नगर आयुक्त साहब, सीवर के पानी में अब बहने के कगार पर आ चूका है वार्ड 73 का क़ाज़ीपूरा खुर्द, क्षेत्र के युवक खुद फर्राटी लेकर कर रहे है सीवर साफ़

शाहीन बनारसी संग ईदुल अमीन

वाराणसी। वैसे तो साफ़ सफाई व्यवस्था पर नगर निगम कथित तौर पर काफी जोर दे रहा है। मगर पुरे शहर में सीवर समस्या मुह फाड़े खडी है। विशेष रूप से सत्ता पक्ष के अलावा जितनी भी सियासी पार्टी है उसके पार्षद अनदेखी का आरोप लगाते ही रहे है। कई बार सीवर समस्या को लेकर पार्षदों ने जमकर विरोध प्रदर्शन भी किया है। मगर आज भी सीवर की बदहाली पर शहर बनारस का काफी इलाका आंसू बहा रहा है।

ऐसा ही एक इलाका है वाराणसी का वार्ड नम्बर 73 में स्थित काजीपुरा खुर्द इलाका। लल्लापुरा क्षेत्र में पड़ने वाले इस इलाके के रहने वालो का आरोप है कि पिछले लगभग 3 वर्षो से सीवर की समस्या का यहाँ समाधान ही नही हुआ है। सीवर का पानी गलियों में बाढ़ की तरह हो गया है। पत्थर के टुकड़े रखकर आने जाने का रास्ता बनाया गया है। एक स्थानीय नागरिक ने दावा किया कि वर्ष 2017 से यह स्थिति लगातार बनी हुई है। स्थानीय पार्षद से शिकायत करने पर पार्षद दुसरे इलाके में समस्या होने की बात करते है।

क्षेत्रीय नागरिको का कहना है कि आज सोमवार की रात लगभग 10 बजे के करीब इस सीवर के पानी में एक सांप भी देखा गया है। अब सांप मिलने की सुचना इलाके में जंगल की आग के तरह फ़ैल है। मुहल्ले के युवको ने हाथो में फर्राटी लेकर खुद ही सीवर को साफ़ करने का प्रयास शुरू कर दिया ताकि सांप दिखाई दे जाए। मगर सांप लोगो को कही नही मिला। क्षेत्र के कई युवको का दावा था कि सांप उन्होंने अपनी आँखों से देखा है। अब लोग आँख की नींद हराम करके बैठे है। सबको डर सता रहा है कि कही रात-बिरात सांप उनके घर में न घुस जाए।

बताते चले कि लल्लापुरा वार्ड नम्बर 73 में गलियों के अन्दर सीवर का गन्दा पानी जमा हुआ है। वर्षो से क्षेत्र के नागरिक इस समस्या का समाधान नही पा सके है। जबकि पार्षद का कहना है कि समस्या की जड़ आस पास नही है काफी दुरी पर है। अब सवाल ये भी समस्या की जब भले कही हो, मगर इस इलाके के लोगो को इस समस्या से निजात दिलाने वाला अभी तक कोई नही आया है। क्षेत्र के युवको ने हमसे बात करते हुवे कहा कि ये समस्या आज की नहीं बल्कि वर्ष पिछले तीन सालो की समस्या है। सीवर का पानी सुबह से भरना शुरू होता है तो रात तक भरा रहता है। फिर उसके बाद पूरी रात सीवर का पानी कम होने की कोशिश करता है मगर सुबह होते ही फिर से बढ़ना शुरू कर देता है।

क्या कहते है इलाके के पार्षद हारून अंसारी

हमने इस संबध में इलाके के पार्षद हारून अंसारी से बात किया तो उन्होंने बताया कि सीवर की ये समस्या संज्ञान में है। इस समस्या की जड़ हमारे इलाके में न होकर बल्कि जवाहरनगर पर है। वहा से सीवर लाइन का काम हो जाएगा तो इस इलाके में सीवर का पानी नही लगेगा। मगर अभी वहा काम काफी धीरे चल रहा है। इसी कारण इस इलाके में पानी भर जाता है। सफाई के लिए बार बार जल महाप्रबंधक से बात किया मगर हमारी बातो को अनसुना कर दिया जाता रहा है। मेरा प्रयास अभी भी जारी है।अब जब तक काम न हो जाए मेरा प्रयास जारी रहेगा।

पार्षद हारून इस प्रकरण को पडोसी पार्षद के नाम पर टाल देते है। इलाके के लोगो का कहना है कि जब भी पार्षद हारून से इस समस्या के सम्बन्ध में बात किया जाता है तो वह वार्ड नम्बर 52 के पार्षद बनवासी गुप्ता पर मामले को टाल देते है। जब हमने बनवासी गुप्ता को उनके मोबाइल पर फोन किया तो कई बार पूरी पूरी घंटी गई मगर फोन नही उठा। इलाके ले लोगो ने बताया कि बनवासी गुप्ता ऐसे ही फ़ोन नही उठाते है और अगर उठ भी जाता है तो हारून के वार्ड की समस्या है कहकर बात को टाल देते है।

बढ़ रहा है बीमारियों का खतरा

इलाके में व्याप्त गन्दगी का आलम ये है कि क्षेत्र में बीमारियों का खतरा बढ़ता जा रहा है। कुछ लोगो ने दबे जुबान से बताया कि क्षेत्र में कई बच्चे डेंगू से पीड़ित हो चुके है। वही डायरिया जैसे रोग आम हो चुके है। गंदगी के कारण जीवन दुश्वार हो चूका है। क्षेत्र के लोगो ने अधिकारियों से इस समस्या को लेकर कई शिकायते किया है ऐसा वह के नागरिको ने हमसे बताया। मगर समस्या जस की तस है। अब देखना होगा कि प्रशासन इस समस्या को कब हल करता है, करता भी है कि नही या फिर ऐसे ही सीवर के पानी में इलाके को बहाने के लिए छोड़ देता है।



Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *