जुनैद-नासिर हत्याकांड: राजस्थान पुलिस के हत्थे लगी वह स्कार्पियो कार जिससे हुआ था दोनों का अपहरण, पंजीकरण नम्बर बता रहा है कि कार हरियाणा सरकार के एक विभाग की है, थानेदार ने कहा हो चुकी है कार नीलाम

आदिल अहमद

डेस्क: राजस्थान भरतपुर जिले के घाटमीका गांव के दो निवासी जुनैद और नासिर जो 14 फरवरी की सुबह अपने एक रिश्तेदार से मिलने के लिए बोलेरो कार से घर से निकले थे और कभी नहीं लौटेl उनके परिवारों ने आरोप लगाया है कि बजरंग दल के सदस्यों ने जुनैद और नासिर की हत्या कर दी और पुलिस से संपर्क कियाl उनके जले हुए शव एक दिन बाद 16 फरवरी को हरियाणा के भिवानी जिले के लोहारू में मिले थेl

हरियाणा में इस कथित गोतस्करी के आरोप में हुए जुनैद और नासिर हत्याकांड के सम्बन्ध में पुलिस ने बड़ा खुलासा करते हुवे एक सफेद स्कॉर्पियो कार बरामद किया हैl पुलिस का दावा है कि इस कार के तार जुनैद और नासिर के अपहरण से जुड़े हुए हैंl इसी कार का इस्तेमाल अतीत में अपहरण और हिंसक गतिविधियों के लिए किया गया हैl अब इस कार को लेकर सोशल मीडिया पर काफी चर्चा भी होनी शुरू हो गई है और कई तस्वीरे इस कार के संबध में वायरल हो रही हैl इस कार का नंबर HR-70-D-4177 हैl

जब इस कार के नंबर को ऑनलाइन उपलब्ध वेब साईट पर सर्च किया जाए तो इस कार का सम्बन्ध हरियाणा सरकार आ रहा हैl एक तरफ पुलिस का दावा है कि नासिर और जुनैद को अगवा करने के लिए एक सफेद स्कॉर्पियो कार (लाइसेंस नंबर HR-70-D-4177) का इस्तेमाल किया गया थाl भरतपुर पुलिस ने खुद यह जानकारी अपने अधिकृत ट्वीटर पर साझा किया हैl पुलिस का दावा है कि अपहरणकर्ताओं ने जुनैद और नासिर को इसी कार से अगवा किया गया थाl उसके बाद दोनों को उनकी ही कार में हरियाणा के भिवानी जिले में जिंदा जलाकर मार डाला गया थाl

राजस्थान पुलिस का दावा है कि 22 फरवरी को हत्याकांड के आरोपी विकास की तलाश में हरियाणा के जींद जिले में पहुंची थीl उनके घर पर जब विकास का पता न चल सका तो पुलिस ने कैथल रोड स्थित गोसेवा धाम विकलांग गौशाला में तलाशी ली, जहां अपंग और विकलांग मवेशी रखे जाते हैंl जहां से यह कार बरामद हुई हैl पुलिस का दावा है कि कार की सीट पर खून के निशान भी मिले हैंl मृतकों के परिजनों ने इस घटना के सम्बन्ध में बजरंग दल के नेता और हरियाणा सरकार की गोरक्षा टास्क फोर्स के सदस्य मोनू मानेसर सहित अन्य को आरोपी बनाते हुवे ऍफ़आईआर दर्ज करवाया हैl

अगर सोशल मीडिया पर वायरल तस्वीरो को देखे तो इसी स्कॉर्पियो कार जिसका नम्बर HR70-D-4177 कई गोरक्षकों के सोशल मीडिया अकाउंट पर पोस्ट की गई हैं, जिनमें मोनू मानेसर के साथ कई तस्वीरें भी हैंl उनके सोशल मीडिया एकाउंट हथियारों और घायल पीड़ितों के फुटेज से भरे हुए हैंl एक वीडियो में स्कॉर्पियो कार को पुलिस की गाड़ी के साथ कारों के बेड़े में देखा जा सकता हैl एक अन्य वीडियो में कार क्षतिग्रस्त दिख रही है, जिसमें बड़े डेंट हैं और इसका पिछला कांच टूटा हुआ हैl इस कार का ऑनलाइन पंजीकरण रिकॉर्ड बताता है कि यह विकास एवं पंचायत कार्यालय के नाम से पंजीकृत हरियाणा सरकार का वाहन हैl इस सम्बन्ध में गोपालगढ़ के थाना अधिकारी राम नरेश ने मीडिया को बताया है कि ‘कार हरियाणा सरकार के पंचायत और विकास विभाग की थी, लेकिन इसकी नीलामी की गई थीl’ उन्होंने अभी यह जानकारी नही साझा किया है कि इस कार की नीलामी कब और किसके नाम पर हुई हैl

सब मिला कर एक बार फिर इस घटना में हरियाणा सरकार पर सोशल मीडिया यूज़र्स जमकर हमलावर हैl इस कार के साथ फैक्ट चेकर मोहम्मद जुबैर ने कई तस्वीरे ट्वीट किया हैl वही विभिन्न अन्य यूज़र्स द्वारा भी हरियाणा सरकार की कार्यशैली पर सवाल उठाया जा रहा हैl वही दूसरी तरफ आरोपी मोनू मानेसर के समर्थन में बजरंग दल हरियाणा में अपने प्रोटेस्ट कर रहा है साथ ही कई युवाओं द्वारा धमकियां भी दिए जाने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा हैl

Welcome to the emerging digital Banaras First : Omni Chanel-E Commerce Sale पापा हैं तो होइए जायेगा..

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *