सूडान में प्रदर्शनों के बाद हुए तख़्तापलट में 22 वर्षीय लड़की की क्या है भूमिका

आदिल अहमद

 तीन दशक तक सत्ता में रहने वाले सूडान के राष्ट्रपति उमर अल-बशीर का तख़्तापलट हो गया है। इस देश के रक्षा मंत्रालय ने एक बयान जारी करके कहा है कि उमर अल-बशीर को गिरफ़्तार कर लिया गया है।
प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक़, तख़्तापलट के बाद इस देश की सेना ने सूडान में तीन महीने के लिए आपातकाल लगाए जाने की घोषणा भी कर दी है। 1989 से सूडान पर राज कर रहे उमर अल-बशीर के ख़िलाफ़ कुछ महीनों से लगातार प्रदर्शन हो रहे थे। इस बीच प्रदर्शनों को संगठित करने वाले प्रमुख गुट ने तख़्तापलट के बावजूद गुरुवार को भी प्रदर्शन जारी रखने का आह्वान किया है। इस बीच सूडान की सेना ने देश पर 30 साल तक सत्ता करने वाले राष्ट्रपति उमर अल-बशीर को ऐसे समय में गिरफ़्तार करके सरकार की व्यवस्था संभाली है जब 2 दिन पहले ही एक सूडानी लड़की की तस्वीरें और वीडियो वायरल हुई थीं।

वायरल होने वाली वीडियो और फ़ोटो में सफेद कपड़े पहने एक 22 वर्षीय युवा लड़की भीड़ विरोध-प्रदर्शन करने वाली भीड़ को बहुत ही जोश में संबोधित करते देखा जा सकता है। वीडियो में युवा लड़की को कार के ऊपर खड़े होकर प्रदर्शनकारियों से नारे लगवाते भी देखा जा सकता है। इस लड़की की उमर अल-बशीर सरकार के विरोध में होने वाले प्रदर्शनों के आगे-आगे रहने वाली तस्वीरें और वीडियो वायरल होने के बाद सूडान के बड़े शहरों, विशेष रूप से राजधानी ख़रतूम में प्रदर्शनों में युवाओं की संख्या में भी वृद्धि हुई थी।

ब्रिटिश समाचार पत्र ‘द गार्जियन’ के अनुसार प्रारंभिक 2 दिन तक इंटरनेट पर इस लड़की तस्वीरें वायरल होती रहीं और उसे सूडान के एक नए नेता के रूप में जाना जाने लगा, लेकिन अब इस लड़की के बारे में इस लड़की के बारे में कुछ जानकारी सामने आ चुकी हैं, उसने इस बात पर ख़ुशी भी जताई है कि वह एक नई राजनीतिक लहर और युवाओं में जागरूकता पैदा करने का कारण बनी। रिपोर्ट के अनुसार इस लड़की की पहचान 22 वर्षीय “आला सालेह” के रूप में हुई है जो आर्किटेक्चर की छात्रा है।

आला सालेह ने बताया कि उनकी वायरल होने वाली तस्वीरें और वीडियो 8 अप्रैल 2019 को राजधानी ख़रतूम में होने वाले प्रदर्शन के दौरान खींची गई थीं जब वे प्रदर्शन में भाग लेने वाले लोगों को संबोधित कर रही थीं। उन्होंने बताया कि उनका संबंध किसी राजनीतिक परिवार से नहीं है और वह केवल सूडान में बदलाव और एक अच्छे वातावरण के लिए ख़रतूम की सड़कों पर उतरी हैं। सालेह ने बताया कि मुझे उस समय और ख़ुशी हुई जब लोगों ने में भाषण को पसंद किया और मेरे कारण देश के युवा और अधिक संख्या में सड़कों पर आए। उन्होंने कहा कि तख़्तापलट में मेरी कोई भूमिका नहीं है हम तो केवल अपने देश को आगे बढ़ता देखना चाहते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *